पोस्ट

दिसंबर 16, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

‘Vijay Divas’ to mark India’s greatest military victory

इमेज
Time to Award Bharat Ratna to Sam Manekshaw -Ganapathy Vanchinathan | Date:29 Jun , 2015   लिंक     http://www.indiandefencereview.com/time-to-award-bharat-ratna-to-sam-manekshaw/ 16 December is celebrated as ‘Vijay Divas’ to mark India’s greatest military victory in modern times. This article is a tribute to the architect of that great victory, India’s greatest soldier of modern times, Field Marshal Sam Manekshaw. In a few months from now, on 3rd April 2014, the country will commemorate the 100th birth anniversary of Field Marshal Sam Hormusji Framji Jamshedji Manekshaw, popularly referred to the world over as Sam Manekshaw.  His image is one that of larger than life – a charismatic countenance, bravado, inspirational, heroic, humorous, rebellious and defiant towards authority, but surely for the soldiers whom he commanded – just brave, inspiring and one that of immediate connect- a true .. What better tribute can be given than conferring the Bharat Ratna on his 100t

विजय दिवस :भारतीय सेना के अप्रतिम शौर्य का तेजस्वी स्मरण

इमेज
विजय दिवस : 16 दिसम्बर,1971 अपनी गौरवमयी सेना के अप्रतिम शौर्य का तेजस्वी स्मरण ! कृतज्ञ देशवासियों का नमन !! जब 1971 के युद्ध जांबाजों ने भारत को दिलाई जीत... आजतक ब्‍यूरो | नई दिल्ली, 16 दिसम्बर 2011 साल 1971 के युद्ध में भारत ने पाकिस्‍तान को करारी शिकस्‍त दी, जिसके बाद पूर्वी पाकिस्तान आजाद हो गया, जो आज बांग्लादेश के नाम से जाना जाता है. यह युद्ध भारत के लिए ऐतिहासिक और हर देशवासी के दिल में उमंग पैदा करने वाला साबित हुआ. देश भर में 16 दिसम्बर को 'विजय दिवस' के रूप में मनाया जाता है. वर्ष 1971 के युद्ध में करीब 3,900 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे, जबकि 9,851 घायल हो गए थे. पूर्वी पाकिस्तान में पाकिस्तानी बलों के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एएके नियाजी ने भारत के पूर्वी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल जगत सिंह अरोड़ा के समक्ष आत्मसमर्पण कर दिया था, जिसके बाद 17 दिसम्बर को 93,000 पाकिस्तानी सैनिकों को युद्धबंदी बनाया गया. युद्ध की पृष्‍ठभूमि साल 1971 की शुरुआत से ही बनने लगी थी. पाकिस्तान के सैनिक तानाशाह याहिया ख़ां ने 25 मार्च 1971 को पूर्वी पाकिस्तान की जन भावनाओं