पोस्ट

जनवरी 24, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

99 साल की जगह फ्री होल्ड पट्टे : राजस्थान की श्रीमती वसुंधरा राजे सरकार का जन हितकारी निर्णय

चित्र
राजस्थान की श्रीमती वसुंधरा राजे सरकार का जन हितकारी निर्णय  99 साल की जगह फ्री होल्ड पट्टे के प्रावधान को कैबिनेट की मंजूरी Written By Goverdhan Choudhary , Update on 23-01-2016 — शहरी भूमि निष्पादन नियमों में संशोधन के बड़े फैसले — 99 साल की लीज की जगह प्लॉट फ्री होल्ड करा सकेंगे — बार— बार लीज जमा कराने के झंझट से मुक्ति — लीज और फ्री होल्ड दोनों का विकल्प खुला रहेगा — आवासीय जमीन को लीज राशि का 1.25 गुणा जमा करवाकर फ्री होल्ड करा सकेंगे, कमिर्शयल प्लाट के लिए 1.5 गुणा जमा कराकर फ्री होल्ड — जिन प्लॉट की पहले लीज राशि जमा है, उनमें आवासीय में .25 फीसदी और कमिर्शयल में .50 फीसदी चार्ज लगेगा फ्री होल्ड का — विशेष प्रयोजन के लिए आवंटित जमीन को इससे अलग रखा — शहरी निकायों की आवासीय योजनाओं में प्रशासनिक चार्ज 30 फीसदी से घटाकर 20 फीसदी किया — अब 1 लाख की जनसंख्या तक वाले शहर में प्लॉट मकान वाले भी सरकारी स्कीम में दूसरे शहरों में प्लॉट ले सकेंगे — आवासीय योजनाओं में विकलांगों का कोटा 2 से बढ़ाकर 3 फीसदी किया — सरकारी अवासीय योजनाओं में लिए प्लॉट को अब 5 साल में बेचा

मुझ पर हर तरफ से हमले हो रहे : नरेंद्र मोदी

चित्र
आखिरकार बाहर आ ही गई पीएम नरेंद्र मोदी की टीस, बोले - मुझ पर हर तरफ से हमले हो रहे Reported by Indo-Asian News Service , Last Updated: शुक्रवार जनवरी 22, 2016 वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार सुबह वाराणसी में डीजल रेल इंजन कारखाना (डीरेका) मैदान में 9000 से ज्यादा विकलांगों को उपकरण बांटकर रिकॉर्ड बनाया। मोदी ने खुद कई बच्चों को उपकरण, हाईटेक छड़ी, ट्राइसाइकिलें बांटी। पीएम मोदी ने इस मौके पर यह भी कहा कि उनपर लगातार हमले हो रहे हैं, लेकिन वे विचलित नहीं हैं। पीएम मोदी ने इस मौके पर नई मॉडल रेलगाड़ी महामना एक्सप्रेस को भी हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। यह रेलगाड़ी वाया लखनऊ हफ्ते में तीन दिन दिल्ली के लिए चलेगी। पीएम मोदी ने कहा, "जब भी किसी को पुजारी कह कर परिचय कराया जाता है तो उसके चेहरे, उसके तिलक पर नजर जाता है। किसी को विद्वान कहकर परिचय कराया जाता है तो हम उसे एक अगल नजर से देखने लगते हैं।" प्रधानमंत्री ने कहा, "जब किसी को विकलांग कह कर परिचय कराया जाता है तो नजर उस अंग पर जाती है जो काम नहीं करता। जबकि असलियत यह है कि विकलांग के पास भी ऐ