पोस्ट

नवंबर 10, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पीएम नरेंद्र मोदी का बड़ा फैसला : 500 और 1000 के नोट बंद !

इमेज
500 और 1000 के नोट पर बैन : परेशान न हों,  इन 10 बातों की जानकारी आपकी चिंता दूर कर देगी वंदना वर्मा द्वारा संपादित, अंतिम अपडेट: बुधवार नवम्बर 9, 2016 http://khabar.ndtv.com नई दिल्ली: 500 और 1000 रुपए के नोट पर बैन के बाद अब बैंकों में सभी जमा या निकासी वीडियो कैमरे के दायरे में होंगी. इसलिए रिजर्व बैंक ने लोगों को सावधानीपूर्वक वैध पैसे जमा कराने की सलाह दी है. ताकि किसी दूसरे का काला धन, अन्‍य लोगों के माध्‍यम से सफेद करने की कोशिशों पर नियंत्रण किया जा सके. मामले से जुड़ी अहम जानकारियां : मामले से जुड़ी अहम जानकारियां : १- 500 और 1000 रुपये के मौजूदा नोट पर पाबंदी लगी है. नए डिजाइन और आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल के हस्ताक्षर के साथ 500 रुपये के नोट 10 तारीख से चलन में आ जाएंगे. २- 10 तारीख से ही 2000 रुपये के नए नोट भी चलन में आ जाएंगे. कुछ समय बाद 1000 रुपये के नए नोट बाजार में आएंगे, लेकिन तारीख अभी तय नहीं. ३- अगले 50 दिनों तक यानी 10 नवंबर से 30 दिसंबर  इन 500 और 1000 रुपये के नोटों को आप बैंक में जाकर जमा करा सकते हैं. ४- 2000 रु के नए नोट में नैनो

अमेरिका : ट्रंप की जीत : भारत को बहुत खुश होने की जरूरत नहीं

इमेज
     मेरा व्यक्तिगत  मानना है कि अमरीका के नये राष्टपति , आतंकवाद के विरूद्ध जोरदार बयानवाजी से जीते है। इसका मतलब अमरीका सहित सम्पूर्ण विश्व जनमत आतंकवाद का विरोधी हे। किन्तु यह भी कडवा सच है कि अमरीका ही आतंकवाद  का जन्मदाता रहा है। उसकी विश्व राजनीति में सब आपस में लडते रहो और अमरीका का भला होता रहे की हे। अमरीका की मूल नीतियों को कोई भी राष्ट्रपति क्रांतीकारी रूप से बदल दे यह असंभव प्रतीत होता हे।          भारत को बहुत खुश होने की जरूरत नहीं हे। भारत को जो मिलेगा वह भारत की अपनी मजबूती से ही मिलेगा। भारत की जनता ने नरेन्द्र मोदी जी को प्रधानमंत्री बनाया अमरीका अपने आप नीचे झुक गया अन्यथा उसने बीजा तक नहीं दिया था ।  - अरविन्द सिसोदिया, कोटा , राजस्थान ! अमेरिका चुनावः डोनाल्ड ट्रंप की जीत से भारत पर पड़ेंगे 7 बड़े प्रभाव टीम डिजिटल/अमर उजाला, नई दिल्लीUpdated Wed, 09 Nov 2016 http://www.amarujala.com एक साल के ताबड़तोड़ प्रचार पर अमेरिकियों ने अपने फैसला सुना दिया है। अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव पर भारत समेत सारी दुनिया की नजर थी। अमेरिका के 45वें राष्ट्रपति डो