पोस्ट

अप्रैल 17, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कोरोना वायरस : क्या लैब में पैदा हुआ है ?

चित्र
कोरोना वायरस: क्या लैब में पैदा हुआ है ? कोरोना वायरस को लेकर सत्य है या केवल अफवाह , पर लगातार यह बात कही सुनी जा रही है कि यह लेब में तैयार किया गया युद्ध वायरस हे। शुक्रवार को भास्कर में इस संदर्भ में प्रकासित समाचार से संदेह और भी गहराया है। विश्व में लेबों में शंकर नश्लें तैयार करनें तथा उनमें कोई विशेष गुण बडानें का काम सक्षम देशों में वर्षों से चल रहें हे। शंकर ज्वार, गेहू , शंकर गाय से लेकर फसलों के बीज एवं रक्षक जीवाणु - कीटाणुओं तक की बातें सुनी जाती रहीं हैं। जासूसी में एक सिद्धांत है, संदेह का। संदेह को पकड कर आगे बडनें से सत्य तक पहुंचा जाता हे। कोरोना में कुछ तो येशा है जो असामान्य हे। विश्व के सबसे विकसित एवं जीव विज्ञान में अत्यंत समृद्ध देशों में इसका कहर जारी है। यह प्रतीत हो रहा है कि यह वायरस किसी शंकर किस्म का मानव विकसित वायरस हे। जो छूत की बीमारी की तरह पास गुजरनें वालों को तुरंत पकड लेता है और छुप कर बैठ जाता हे तथा धीरे धीरे अपना काम प्रारम्भ कर काल बन जाता है। मानव सभ्यता की रक्षार्थ सत्य उजागर होना ही चाहिये। क्यों कि यह सम्पूण मानवजाती के विनाश की कोशि