पोस्ट

जून 30, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पत्र

इमेज
सरकार के एक साल पूरे होने पर प्रधानमंत्री ने देश के लोगों के नाम लिखा पत्र, कहा पूरे होंगे सपनें, धैर्य रखें  मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा हो गया है. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के लोगों के नाम पत्र लिख कर सरकार की उपलब्धियां बताईं, साथ ही उन्हें इस मुश्किल समय में धैर्य रखने को कहा. आज मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक साल पूरा हो गया है. इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के लोगों के नाम पत्र लिख कर सरकार की उपलब्धियां बताई हैं.  इस मौके पर प्रधानमंत्री ने कहा कि आज से एक साल पहले भारतीय लोकतंत्र के इतिहास में नया स्वर्णिम अध्याय जुड़ा. देश में दशकों बाद पूर्ण बहुमत की किसी सरकार को लगातार दसूरी बार जनता ने जिम्मेदारी सौंपी थी. उन्होंने कहा कि इस अध्याय को रचने में आपकी बहुत बड़ी भूमिका रही है.  ऐसे में आज का यह दिन मेले लिए अवसर है आपको नमन करने का. उन्होंने कहा कि इस मुश्किल समय में धैर्य बनाए रखना बेहद जरूरी है. प्रधानमंत्री ने देश के नागरिकों को संबोधित करते हुए कहा कि सामान्य स्थिति होती तो मुझे आपके बीच आकर आपके दर्शन करने क

हिन्दू शौर्य के साथ कांग्रेस की बदतमीजी

इमेज
हिन्दू शौर्य के साथ कांग्रेस की बदतमीजी गहलोत सरकार ने बदला 10वीं क्लास का सिलेबस, महाराणा प्रताप की कहानी में काट-छांट शरत कुमार जयपुर, 23 जून 2020, अशोक गहलोत सरकार के दौरान किताबों की समीक्षा के लिए बनी कमेटी की सिफारिश पर पाठ्यपुस्तक मंडल की ओर से कक्षा 10वीं की सामाजिक विज्ञान की किताब के संस्करण में महाराणा प्रताप से जुड़ी ऐतिहासिक संघर्ष की कहानी को हटा दिया है. महाराणा प्रताप से जुड़ी ऐतिहासिक संघर्ष की कहानी को हटा दियाप्रताप और चेतक की वीरता को काट-छांट कर उसे कम कर दिया गया राजस्थान में सरकारों के बदलने के साथ ही इतिहास बदलने का भी चलन हो गया है. एक बार फिर से राजस्थान की किताबों के इतिहास में महाराणा प्रताप अकबर के खिलाफ लड़े गए हल्दीघाटी युद्ध में नहीं जीत पाए हैं. इसके पहले राजस्थान में इतिहास की किताबों मे पढ़ाया जाता था कि हल्दीघाटी के युद्ध में अकबर की सेना जीती थी मगर पिछली बीजेपी सरकार ने 2017 में सिलेबस में बदलाव करते हुए बताया था कि महाराणा प्रताप की सेना ने हल्दीघाटी के युद्ध में अकबर पर विजय प्राप्त की थी. इसे लेकर इतिहासकारों में विवाद रहा. अब ए