पोस्ट

सितंबर 2, 2020 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कोटा की अंनत चतुर्दशी कोरोना काल

इमेज
*कोटा की अंनत चतुर्दशी* श्री अनंत चतुर्थी महोत्सव आयोजन समिति कोटा द्वारा 2020 कोरोना काल में पारंपारिक प्रतिकात्मक तरीके से शोभा यात्रा का प्रारंभ कर परंपरागत मार्ग द्वारा गणपति बप्पा का बारहद्वारी पर पूजा अर्चना महाआरती के साथ पारंपरिक तरीके से आयोजन समिति द्वारा पूरे जोर-शोर हर्षोल्लास के साथ विसर्जन किया | कुछ झलकियां शोभा यात्रा की जिसमें मुख्य रुप से उपस्थित अध्यक्ष सनातन पुरी जी महाराज, बाबा शैलेंद्र जी भार्गव, आयोजन समिति के प्रभारी रमेश जी राठौर, पूर्व प्रभारी  राजेंद्र जी जैन , दिनेश जी सोनी,  जटाशंकर जी शर्मा,  त्रिलोक जी जैन, रामबाबू जी सोनी,  नेता जी खंडेलवाल, जितेंद्र जी त्यागी,  सह  प्रभारी धनराज जी गुर्जर, राकेश जी चतुर्वेदी, श्याम जी वर्मा,सुरक्षा प्रमुख रमेश जी मीणा,  जगदीश जी सुमन,  हनुमान जी मीणा उपस्थित  रहे | गणेश जी महाराज की जय हो ------ *इस वर्ष 2020 में कोरोना काल* मे गणेश महोत्सव अनन्त चतुर्दशी अपने अपने घर मे ही मनेगी। *बड़ी धूमधाम से मनाई जाती रही है।*  *अनन्त चतुर्दशी* पर किसी समय ज्यादा से ज्यादा *एक दर्जन झाकियां* निकलती

हिन्दू श्राद्ध पक्ष : Pitra Paksha

इमेज
मृत्यु के बाद जीवात्मा ( सूक्ष्म शरीर ) कहाँ जाती है और पुनर जन्म के पूर्व कहाँ रहती है , विज्ञान यहाँ मौन है ||  हिन्दू आध्यात्मवेत्ताओं नें जो अनुसन्धान किया है और हिन्दू विधि अपने पुरखों को जिस महत्वपूर्ण तरीके से याद रखती है उसका मिश्रित स्वरूप पितृ पक्ष है | मूल रूप से श्रद्धा का भाव ही आयोजन के रूप में श्राद्ध है |  भारतीय देवत्व की व्यवस्था में, आगमन का श्री गणेश करते हुये  चैथ को गणेश जी आते हैं और चैदस को जाते है। इसके बाद 16 तिथियों तक पूर्वज आते हे।  फिर माता रानी के नवरात्र का आगमन होता है।  फिर दशहरा दीपावली !! एक क्रमबद्धता और वैज्ञानिकता   - अरविन्द सिसोदिया 94141 80151 कोटा  हिन्दू श्राद्ध पक्ष  आश्विन के कृष्ण  पक्ष   (गुजरात-महाराष्ट्र के मुताबिक भाद्रपद)  को हमारे  हिन्दू  धर्म में  श्राद्ध पक्ष  के रूप में मनाया जाता है। इसे महालय और पितृ  पक्ष  भी कहते हैं।  श्राद्ध  की महिमा एवं विधि का वर्णन विष्णु, वायु, वराह, मत्स्य आदि पुराणों एवं महाभारत, मनुस्मृति आदि शास्त्रों में यथास्थान किया गया है।  श्राद्ध का अर्थ अपने देवों, प