संदेश

जुलाई 24, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कांग्रेस में अंदर सब कुछ ठीक ठाक नहीं है

चित्र
     - अरविन्द सिसौदिया  9414180151     कांग्रेस में अंदर सब कुछ ठीक ठाक नहीं है, कांग्रेस का ही क्षुब्ध जी 23 नेताओं का गुट हार थक कर बैठ चुका हे। अब उसमें आगे चल कर अमिरंदर सिंह और अशोक गहलोत का नाम भी जुड सकता हे। लगातार कांग्रेस चुनाव हार रही हे, 0 - 0  सीटें आनें पर भी उसे शर्म नहीं हे। स्वंय राहुल गांधी चुनाव हार गये मगर अकड बेमिसाल है। पार्टी स्थाई अध्यक्ष बना नहीं पा रही हें। आरोप लगाते हैं अदालत में क्षमा मांगते है। जमानत पर हैं। शब्दावली येशी कि शर्म आती है कि ये कांग्रेस के नेता हैं।  कांग्रेस के जी 23, पंजाब का अमिरंदर सिंह बनाम सि़द्धू, राजस्थान का गहलोत बनाम पायलेट,उतर प्रदेश और मध्यप्रदेश से कांग्रेस के दिग्गज भाजपा में जा चुके हे। हुडडा बनाम शैलजा और भी बहुत सारी विवादित असन्तुष्टतता बनीं हुई है। मकसद सिर्फ इतना है कि राहुल - प्रियंका से कम समझ वाले या उनके आगे सिर छुका कर हां जी, हां जी करने वाला समूह मात्र कांग्रेस रहे । पहले विदेशी रिपोर्ट में छपा था, भारत में भी छपा था कि इनकी नेता अत्यंत धनवान हैं। संभवतः उसी पैसे के बल पर षडयंत्रों की राजनिती चला रहे हें। संसद सत

आध्यात्मिक देवत्व का अभिवादन - अरविन्द सिसोदिया

चित्र
      गुरु पूर्णिमा पर्व : आध्यात्मिक व्यक्तित्व के देवत्व का अभिवादन है - अरविन्द सिसोदिया    गुरु पूर्णिमा यह शब्द बहुत सामान्य है और सभी को समझ में आने वाला है । लेकिन इस शब्द के पीछे जो सार है, जो मंतव्य है, जो मूल उद्देश्य है, जो गरिमा है। उसको उसी गंभीरता से देखना और समझना चाहिये हैं। जो गुरु पूर्णिमा के प्रति अभिप्रेत है। क्यों कि यह शब्द मूलतः बहुत ही गंभीर और ज्ञान से परिपूर्ण, नर को नारायण से जोड़ने वाले महात्माओं के आदर का, अभिनंदन का है । इस महान पर्व को उसी रूप में लेना चाहिये ।     प्रतिवर्ष  यह पर्व महर्षी वेदव्यास जी की जयंती को निमित्त बना कर सभी गुरुजनों के सम्मान में आयोजित किया जाता है । भारतीय संस्कृति, सनातन सभ्यता मैं महर्षि वेदव्यास एक ऐसा नाम है जिन्होंने चारो वेदो , अठारह पुराणों , उपनिषदों और महाभारत का संपादन,संकलन और लेखन किया है । जिन गुरुओं के ज्ञानसे हमारी समाज व्यवस्था पुष्पित पल्लवित विकसित और संरक्षित हो रही है। उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करनें का पर्व है। भारत में संत महंत , ऋषि , महर्षि ,साधु, योगी, महायोगी, त्रिकालदर्शी  की परम्परा का इतिहास अनादि

कांग्रेस ही असल में अपरोक्ष राष्ट्रद्रोह कर रही है - अरविन्द सिसौदिया

चित्र
   - अरविन्द सिसौदिया 9414180151  जब से नरेन्द्र मोदी ने दूसरीवार देश के प्रधानमंत्री का पद संभाला है तब से कांग्रेस का मुखिया या मालिक मिथ्या गांधी परिवार जो अपनी स्वंय की वास्तविक पहचानों का उपयोग नहीं करता है, उधार का गांधी सरनेम उपयोग कर्ता हे। जो ये कभी थे नहीं । अब ये ही तथाकथित गांधी  प्रधानमंत्री पद दूर खिसकते देख हैरान और परेशान है तथा देश का सबक सिखानें के मकसद से, वर्तमान मोदी सरकार को काम नहीं करने देनें के लिये अडंगा राजनिति के तहत लगातार देश में आराजकता उत्पन्न करने हेतु , झूठ के आधार पर तनाव और हुल्लडतंत्र की अव्यवस्था उत्पन्न करने में लगा हुआ है। कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के दौर में भी अडंगेपन से पीछे नहीं हटने वाले कृत्यों की राजनिति करने वाली कांग्रेस ही असल में अपरोक्ष राष्ट्रद्रोह कर रही है। यदि यही कृत्य इन्होने चीन में किये होते जो जेल में होते या फिर .....? आप खुद समझ लो क्या हुआ होता ! यह भारत हे, इसमें संविधान की, व्यवस्था की चिन्ता कम होती है। खुदगर्ज राजनिति की चिन्ता ज्यादा होती हे। इस कारण यह तमाशा लगातार बना हुआ है। कई दलों की प्रतिस्पर्द्धा कांग्रेस से