संदेश

जुलाई 27, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

वीर अमरसिंह राठौड़ और बल्लू चम्पावत : राजस्थान के महान वीर जिन्होनें शाहजाह के किले में घुस कर वीरता के झण्डे गाढ दिये थे

चित्र
    वीर अमरसिंह राठौड़ और बल्लू  चम्पावत राजस्थान के महान वीर जिन्होनें शाहजाह के किले में घुस कर वीरता के झण्डे गाढ दिये थे    वीरवर  अमरसिंह राठौड़ (11 दिसम्बर 1613 - 25 जुलाई 1644 )... " सस्ती पड़ी न सूर सूं, खग साटै खिल्लीह।अमरै बाही आगरै, पतशाही हिल्लीह।। " अर्थात - वीर अमरसिंह (नागौर) की खिल्ली उड़ाना मुगलों को महँगा पड़ा, प्रतिशोध में उठी उसकी तलवार ने आगरा में मुगलिया सल्तनत को हिला दिया। स्वाभिमान के प्रतीक, आत्मसम्मान व् आन बान की रक्षा करने वाले, मुगल बादशाह शाहजहां को हिला कर रख देने वाले वीरवर अमरसिंह राठौड़ जी को कोटिश: नमन .. अमर सिंह राठौड़ जोधपुर रियासत के राजा गजसिंह के बड़े पुत्र थे । किन्तु षड्यंत्र के कारण उनको जोधपुर की गद्दी नही मिली थी । अमरसिंह राठौड़ ने आगरा के भरे दरबार मे मुगल बादशाह शाहजहां के साले सलावत खां का सर धड़ से अलग कर दिया था । अमरसिंह जी की मृत्यु के पश्चयात उनके शव को भरे दरबार मे उठाकर किले की दीवार कूद गए थे बल्लू जी चम्पावत । अपने स्वाभिमान और धर्म रक्षा हेतू 31 वर्ष की आयु में अमरसिंह राठौड़ वीरगति को  प्राप्त हुए   । ----//---- मुगल

छोटा लक्ष्य अपराध है : पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम

चित्र
 ...मैं यह बहुत गर्वोक्ति पूर्वक तो नहीं कह सकता कि मेरा जीवन किसी के लिये आदर्श बन सकता है; लेकिन जिस तरह मेरी नियति ने आकार ग्रहण किया उससे किसी ऐसे गरीब बच्चे को सांत्वना अवश्य मिलेगी जो किसी छोटी सी जगह पर सुविधाहीन सामजिक दशाओं में रह रहा हो। शायद यह ऐसे बच्चों को उनके पिछड़ेपन और निराशा की भावनाओं से विमुक्त होने में अवश्य सहायता करे।- अब्दुल कलाम    1997 में कलाम साहब को भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न प्रदान किया गया जो उनके वैज्ञानिक अनुसंधानों और भारत में तकनीकी के विकास में अभूतपूर्व योगदान हेतु दिया गया था  मिसाइलमैन डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम 'सपने वे नहीं होते, जो आपको रात में सोते समय नींद में आए बल्कि सपने वे होते हैं, जो रात में सोने ही न दें।' ऐसी बुलंद सोच रखने वाले 'मिसाइलमैन' अवुल पकिर जैनुलाअबदीन अब्दुल कलाम (एपीजे अब्दुल कलाम) भारतीय मिसाइल प्रोग्राम के जनक कहे जाते हैं। जब कलाम ने देश के सर्वोच्च पद , 11वें राष्ट्रपति की शपथ ली थी तो देश के हर वैज्ञानिक का सर फख्र से ऊंचा हो गया था। वे 'मिसाइलमैन' और 'जनता के राष्ट्रपति' के रू