पोस्ट

अगस्त 13, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

देश की अखंडता के लिए कुछ करना होता है - प्रो. सदानंद सप्रे

चित्र
केवल विचार विश्लेषण से भविष्य नहीं बनता है, देश की अखंडता के लिए कुछ करना होता है -  प्रो. सदानंद सप्रे मारवाड़ विचार मंच पाली द्वारा अखंड भारत पर  संगोष्ठी आयोजित राष्ट्रीय  स्वयंसेवक संघ के विश्व विभाग के सहसंयोजक प्रो. सदानंद सप्रे उध्बोधन देते हुए, साथ  में  ओम विश्वदीप आश्रम के महामंडलेश्वर महेश्वरानंद महाराज पाली ९ अगस्त २०१५. राष्ट्रीय  स्वयंसेवक संघ के विश्व विभाग के सहसंयोजक माननीय सदानंद सप्रे ने कहा कि केवल विचार विश्लेषण से भविष्य नहीं बनता है, देश की अखंडता के लिए कुछ करना होता है। उन्होंने कहा कि अलगाव और आतंकवादियों के खिलाफ एकजुट होना पड़ेगा। वे रविवार को "हमारा संकल्प अखंड भारत" विषय पर मारवाड़ विचार मंच के तत्वावधान में आयोजित विचार गोष्ठी को मुख्य वक्ता के रूप में संबोधित कर रहे थे। मंडिया रोड स्थित सरस्वती शिशु मंदिर में आयोजित इस गोष्ठी में प्रो.  सप्रे ने भारत की अखंडता के संभावित समाधानों तथा विभाजन के कारणों का विश्लेषण किया। उन्होंने कहा कि अलगाववादी लोगों के कारण देश का विभाजन हुआ। साथ ही कहा कि यह चिंतन का विषय है कि 1857 की क्रांति में