पोस्ट

जून, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

Satellite : REVEALS Uttarakhand's real story

इमेज
Satellite imagery REVEALS Uttarakhand's real story Last updated on: June 28, 2013 Vicky Nanjappa Satellite imagery from the Indian Space Research Organisation shows that heavy and unplanned construction work in Uttarakhand was a leading cause for the devastation which claimed thousands of lives in the hill state. Vicky Nanjappa reports. ISRO, which has been looking at the devastation and analysing it based on its satellite imagery says that there is a reason why it is being called a man-made tragedy. First and foremost, there are several hydel projects that are coming up. These projects would come up on the tributaries of Ganga-Alaknanda and Mandakini which meet at Rudraprayag which has seen a lot of devastation. It shows that tunnels are being built to divert these rivers. ISRO's analysis would also show that several hundred new buildings have also caused the problem. There were a few hutments two decades ago. However, today there are 100-odd buildings which hav

नरेंद्र मोदी 'असाधारण नेतृत्व' : अमेरिकी सांसद एफएन फालेओमावेगा

इमेज
नरेंद्र मोदी  'असाधारण नेतृत्व' :  अमेरिकी सांसद एफएन फालेओमावेगा फ़रवरी 15, 2013 वाशिंगटन: अमेरिका के एक सांसद ने अमेरिकी सरकार से गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदृष्टि और विचारों का यह कहते हुए खुले और पूर्ण रूप से समर्थन करने को कहा है कि उनके असाधारण नेतृत्व के चलते ही उनका राज्य अब देश की आर्थिक महाशक्ति है। अमेरिकी सांसद एफएन फालेओमावेगा ने अमेरिका संसद की प्रतिनिधि सभा में दिए अपने संबोधन में कहा, ऐसी सफलता के साथ मैं यह पूरी उम्मीद करता हूं कि अमेरिका अब गुजरात के प्रति नया नजरिया अपनाएगा और मुख्यमंत्री मोदी के विचारों को पूर्ण और खुले ढंग से समर्थन करेगा, क्योंकि वह पूरे विश्व के लोगों के जीवन स्तर में सुधार के लिए घरेलू और विदेशों में नौकरियां सृजित करके विश्व अर्थव्यवस्था को बेहतर बनाने की दिशा में कार्य कर रहे हैं। अमेरिकी प्रतिनिधिसभा में गैर मतदान प्रतिनिधि फालेओमावेगा अमेरिकी कांग्रेस में अमेरिका सामोआ का प्रतिनिधित्व करते हैं और वह एशिया, प्रशांत और वैश्विक पर्यावरण की हाउस फॉरेन अफेयर्स सबकमेटी में डेमोक्रेटिक रैंकिंग सदस्य हैं। वह अमेरिकी

हटाई माता 'धारी देवी' की मूर्ति तो उत्तराखंड में हुआ 'महाविनाश'

इमेज
http://aajtak.intoday.in हटाई माता 'धारी देवी' की मूर्ति तो उत्तराखंड में हुआ 'महाविनाश' राजू गुसाईं [Translated By: नमिता शुक्ला] | सौजन्‍य: Mail Today | नई दिल्ली, 27 जून 2013 इसे चाहें तो अंधविश्वास कहें या महज एक संयोग! उत्तराखंड में हुई तबाही के लिए जहां लोग प्रशासन की लापरवाही को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं वहीं उत्तराखंड के गढ़वाल वासियों का मानना है कि माता धारी देवी के प्रकोप से ये महाविनाश हुआ.मां काली का रूप माने जाने वाली धारी देवी की प्रतिमा को 16 जून की शाम को उनके प्राचीन मंदिर से हटाई गई थी. उत्तराखंड के श्रीनगर में हाइडिल-पॉवर प्रोजेक्ट के लिए ऐसा किया गया था. प्रतिमा जैसे ही हटाई गई उसके कुछ घंटे बाद ही केदारनाथ में तबाही का मंजर आया और सैकड़ों लोग इस तबाही के मंजर में मारे गए. विश्व हिंदू परिषद के अशोक सिंघल ने कहा, 'लोगों ने हाइड्रो पॉवर प्रोजेक्ट के खिलाफ प्रदर्शन किया था और धारी देवी की प्रतिमा को हटाए जाने का विरोध किया था. लेकिन इसके बावजूद 16 जून को धारी देवी की प्रतिमा को हटाया गया. धारी देवी के गुस्से से ही केदारनाथ और उत्तराखंड के

कांग्रेस और रुपये में गिरावट : मोदी

इमेज
कांग्रेस और रुपये में एकसाथ गिरावट : मोदी (23, Jun, 2013, Sunday माधोपुर (पंजाब) )| गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कांग्रेस की खिल्ली उड़ाते हुए कहा कि कांग्रेस और रुपये में एकसाथ गिरावट हो रही है। मोदी ने कहा, "इन दिनों, कांग्रेस और रुपये में गिरावट की प्रतिस्पर्धा चल रही है। हर रोज दोनों में प्रतिद्वंद्विता रहती है कि कौन ज्यादा गिर सकता है।" मोदी ने कांग्रेस पर आरोप लगाया, "देश नष्ट होता जा रहा है, लेकिन सरकार कुछ भी नहीं कर रही है।" गौरतलब है कि रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अपने सबसे निचले स्तर तक गिर गया है और इसकी कीमत लगभग 60 रुपये प्रति डॉलर पहुंच गई है। कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार पिछले तीन वर्षो से लगातार कई घोटालों के आरोपों से घिरी रही है। मोदी ने कहा कि संप्रग सरकार द्वारा अपनी उपलब्धियों को गिनाने के लिए शुरू किए गए लाखों-अरबों रुपयों वाले विज्ञापन भी पिछले कुछ दिनों से हटा लिए गए हैं।मोदी ने जोर देकर कहा कि उन्होंने इन विज्ञापन अभियानों पर सवालिया निशान उठाए थे। ------------ दो बॉस चला र

धारादेवी { माँ काली } मंदिर हटाने से रुष्ट देवी का प्रकोप : देवभूमी उत्तराखण्ड प्रलय

इमेज
धारी देवी मूलत: काली मां  का ही स्वरूप हे और देवभूमि  यात्रा पर आये श्रधालुओं की रक्षा करती हें  ।  http://www.downtoearth.org.in   धारी देवी मूलतः काली मां का ही स्वरूप हैं और उत्तराखंड के लोगों तथा देवभूमि की यात्रा पर आये श्रृद्धालुओं की रक्षा करती हें , यह सिद्धपीठ  अलकनंदा नदी  पर बन रही एक जल परियोजना की डूब में आ गया है, इसे बचानें के लिये कई वर्षों से बडा जन संर्घष चल रहा है। केन्द्र सरकार सुन नही रही है। इसे बचाने के लिये राष्ट्रपति महोदय और प्रधानमंत्री महोदय से भी भाजपा के वरिष्ठ नेता गण मिल चुके हैं। मगर एक नहीं सुनी गई और भारत सरकार के एक मंत्रालय ने रोक हटवा कर धारा देवी प्रतिमा को हटवा दिया । जिसके चलते इधर धारा देवी की प्रतिमा हटी और उधर उत्तराखंड प्रलय की चपेट में आ गया । देखने वाली बात यह है कि मां काली के इस प्रकोप में मात्र केदारनाथ का शिव मंदिर ही छोडा है। बांकी सब नष्ट हो गया । स्वाल यह है कि हिन्दू समाज के इस महत्वपूर्ण मंदिर के साथ इतनी बडी छेडछाड क्यों हुई ? ---------------------- धारी देवी पर संतों के तेवर तीखे May 11, 2013 हरिद्वार। धारी दे

सुधीन्द्र कुलकर्णी: वामपंथी खुराफात कर गया भाजपा में

इमेज
सुधीन्द्र कुलकर्णी: वामपंथी खुराफात कर गया भाजपा में सभी राजनैतिक जानकारों को पता होगा कि राजग सरकार में भाजपा में घुसा मार्किस्ट आईडियोलोजी के वामपंथी सुधीन्द्र कुलकर्णी ( कालम लेखक ) बडी पहुंच वाला था। अच्छे - अच्छे मंत्रीयों की नहीं चलती थी और इनके इशारों पर ...! यह तब पुनः प्रसिद्ध हुये जब भाजपा के एक बडे नेता जिन्ना की मजार पर फूल चढ़ाने पहुचे और देश विभाजक जिन्ना को धर्मनिरपक्ष बता आये। इसके बाद यूपीए सरकार ने नोट फोर वोट के मामले में इन्हे मास्टर माइंड ठहराया। इस व्यक्ति की सलाहों ने भाजपा को अंदर और बाहर बहुत नुकसान पहुंचाया है Sudheendra Kulkarni From Wikipedia, the free encyclopedia Sudheendra Kulkarni is an Indian politician and columnist. Kulkarni was educated at Jadhavji Anandji High School in Athani, a town in Belgaum district, Karnataka, India. He then attended the Indian Institute of Technology Bombay. A former member of the Communist Party of India (Marxist), Kulkarni joined the Bharatiya Janata Party (BJP) in 1996. Of this ideological switch he said, "

इस्लामिक क़ानून चाहते है उन्हे ऑस्ट्रेलिया से बाहर जाने के लिए कहा

इमेज
ऑस्ट्रेलियन प्राइम मिनिस्टर - जूलीया गिलर्ड को दुनिया की रानी बना देना चाहिए!! - ऑस्ट्रेलिया प्राइम मिनिस्टर जूलीया गिलर्ड सीखो भारत के नेताओ .. कुछ सीखो इनसे.... " मित्रो एक बार जरुर पढ़िए ऑस्ट्रेलियन प्रधानमंत्री का देश के नाम सन्देश " .... ये पढ़ने के बाद शायद भारतीय मुस्लिमो को कुछ अकल आये , शायद ??????? इस महिला प्राइम मिनिस्टर ने जो कहा है, उस बात को कहने के लिए बड़ा साहस और आत्मविश्वास चाहिए! पूरी दुनिया के सब देशो मे ऐसे ही लीडर होने चाहिए! वो कहती है : "मुस्लिम, जो इस्लामिक शरिया क़ानून चाहते है उन्हे बुधवार तक ऑस्ट्रेलिया से बाहर जाने के लिए कहा हे क्यूकी ऑस्ट्रेलिया देश के कट्टर मुसलमानो को आतंकवादी समझता है. ऑस्ट्रेलिया के हर एक मस्जिद की जाँच होगी और मुस्लिम इस जाँच मे हमे सहयोग दे जो बाहर से उनके देश मे आए है उन्हे ऑस्ट्रेलिया मे रहने के लिए अपने आप को बदलना होगा और ना की ऑस्ट्रेलियन लोगो को... अगर नही होता है तो मुसलमान मुल्क छोड़ सकते है कुछ ऑस्ट्रेलियन चिंतित है ये सोच के की क्या हम किसी धर्म के अपमान तो नही कर रहे.. पर मई ऑस्ट्रेलियन लोग

सही उम्र में यौन संबंध बनाने वाले बन जाते हैं पति-पत्नी : मद्रास उच्च न्यायालय

इमेज
सही उम्र में यौन संबंध बनाने वाले बन जाते हैं पति-पत्नी : अदालत Tuesday, June 18, 2013 चेन्नई : मद्रास उच्च न्यायालय ने कहा है कि अगर कोई सही कानूनी उम्र को पूरा करने वाला युगल यौन संबंध बनाता है तब उसे वैध विवाह माना जायेगा और उन्हें पति-पत्नी घोषित किया जा सकता है। उच्च न्यायालय में न्यायमूर्ति सी एस करनान ने अपने आदेश में कहा, ‘अगर कोई युगल यौन आकांक्षा को पूरा करना तय करता है, तब कानून कुछ अपवादों को छोड़कर उसके बाद उत्पन्न होने वाले सभी परिणामों के अनुरूप पूर तरह से प्रतिबद्ध होता है।’ उन्होंने कहा कि मंगलसूत्र, वरमाला, अंगुठी आदि पहनने जैसी वैवाहिक औपचारिकताएं केवल समाज की संतुष्टि के लिए होती हैं। कोई भी पक्ष यौन संबंध के बारे में दस्तावेजी सबूत पेश करके वैवाहिक संबंध का दर्जा प्राप्त करने के लिए परिवार अदालत से सम्पर्क कर सकता है। न्यायाधीश ने कहा कि एक बार ऐसी घोषणा हो जाने के बाद युगल किसी भी सरकारी रिकार्ड में पति पत्नी के रूप में स्थापित हो सकते हैं। उच्च न्यायालय ने कोयंबतूर के एक गुजाराभत्ता संबंधी मामले की सुनवाई करते हुए यह व्यवस्था दी। (एजेंसी)

संघ के वरिष्ठ प्रचारक डा.अमर सिंह का हृदयाघात से निधन

इमेज
वाराणसी, 18 जून (विसंके.)। पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक एवं वर्तमान में क्षेत्र कार्यकारिणी के सदस्य डा.अमर सिंह का पार्थिव शरीर मंगलवार को मर्णिकाघाट पर पंचतत्व में विलिन हो गया। मुखाग्नि उनके भतीजे अजीत सिंह ने दी। वे अनेक वर्षो से हृदय की बीमारी से पीडि़त थे। सोमवार को रात्रि 9.05 बजे अचानक दर्द के बाद, हृदयाघात से निधन हो  गया । वे लगभग 75 वर्ष के थे। अचानक अपने प्रचारक डा. अमर सिंह के स्वर्गवासी हो जाने से पूरा संघ परिवार शोकाकुल है।  डा. अमर सिंह महान कर्मयोगी, ध्येयनिष्ठ व सौम्य व्यक्तित्व के धनी थे। उनके व्यक्तित्व से युवा, किशोर, तरुण व प्रौढ़ हर उम्र के स्वयंसेवक प्रभावित होते थे, उनका जीवन बड़ा ही सहज, सरल व विनोदप्रिय रहा। वे अपने चुटुकिले व हास्यभाव से गमगीन माहौल को भी सहज बना देते थे। उनके इस हास्य व्यवहार से ही युवा पीढ़ी उनसे ज्यादा प्रभावित थी। उनके अचानक निधन से संघ को अपूरणीय क्षति हुयी है।   श्री सिंह 1969 में दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय से भौतिकी में पी-एच.डी करने के बाद अपना पूरा जीवन मां भारती की सेवा

भाजपा और मीडिया का नकारात्मक दृष्टिकोण

भाजपा, गोवा और मीडिया पिछले सप्ताह सभी खबरिया चैनलों और अखबारों पर भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की गोवा बैठक छायी रही। पहले बैठक की तैयारी का समाचार, फिर बैठक में आडवाणी जैसे वरिष्ठ नेता और उनके अतिरिक्त यशवंत सिन्हा, जसवंत सिंह, शत्रुघ्न सिन्हा और उमा भारती जैसे नेताओं की अनुपस्थिति का समाचार, बैठक प्रारंभ होने पर सुषमा स्वराज के तीन घंटे लेट पहुंचने और कार्यक्रम स्थल से काफी दूर एक होटल में ठहरने का समाचार, फिर प्रश्न कि क्या आडवाणी की अनुपस्थिति में यह बैठक गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी का आगामी लोकसभा व विधानसभा चुनावों के प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष पद पर अभिषेक कर पायेगी? यदि अभिषेक हुआ तो भाजपा की कितनी हानि होगी? नरेन्द्र मोदी का व्यक्तित्व कितना विभाजनकारी है? क्यों भाजपा नरेन्द्र मोदी के लिए अपने संस्थापक सदस्य आडवाणी की भावनाओं की उपेक्षा कर रही है? क्यों वह सुषमा स्वराज के इस आग्रह को अनसुना कर रही है कि आडवाणी जी की अनुपस्थिति में कोई निर्णय न लिया जाए? सिर्फ नकारात्मक दृष्टिकोण किन्तु जब नरेन्द्र मोदी का अभिषेक हो ही गया और उस निर्णय से पूरे अधिवेशन में

केवल हिंदुत्व से सुधरेंगे देश के हालातः मोहन भागवत

इमेज
केवल हिंदुत्व से सुधरेंगे देश के हालातः मोहन भागवत भाषा [Edited By: नमिता शुक्ला] दिल्ली आजतक मेरठ, 18 जून 2013 | राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को बीजेपी में राष्ट्रीय भूमिका दिए जाने का समर्थन करते हुए कहा कि हिंदुत्व ही केवल वह रास्ता है जिससे देश में परिवर्तन लाया जा सकता है. मोदी का कद बढ़ाए जाने का विरोध कर रहे बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम लिए बिना उन्होंने कहा, ‘कोई पसंद करे या नहीं करे, हिंदुत्व ही केवल वह मार्ग है जो देश में परिवर्तन लाएगा. इसी में देश का सम्मान निहित है.’ भागवत ने कहा, ‘हमने नेता और एजेंडा बदल कर देख लिया, कुछ काम नहीं आया. राजनीति के द्वारा भारत को महाशक्ति नहीं बनाया जा सकता है, ऐसा केवल हिंदुत्व से किया जा सकता है.’ संघ प्रमुख ने देश के वर्तमान हालात पर चिंता जताते हुए कहा कि सीमाएं सुरक्षित नहीं हैं और देश के अंदर भी खतरा मंडरा रहा है. ‘चीन हमारी सीमा में घुस आया और हम उसे सबक सिखाने का साहस नहीं कर पाए. तिब्बत पर कब्जा जमाने के बाद वह भारतीय राज्यों पर

आरक्षण पर प्रतिबंध लगाने वाली याचिका स्वीकार

इमेज
आरक्षण का सच यही कि हर क्षेत्र में वास्तविक व्यक्ति को कोई फायदा नहीं मिला हे , राजनीती में धन सम्पन्न वर्ग का प्रभुत्व हे । इस लिए न्यायालय  ही कुछ कर सकता हे ।  सुप्रीम कोर्ट ने देश में 62 वर्षों से जारी जातिवादी आरक्षण पर प्रतिबंध लगाने वाली याचिका को स्वीकार कर लिया है। इस मामले पर 1 जुलाई को सुनवाई होनी है। याचिकाकर्ता रामदुलार झा ने बताया कि देश की 543 संसदीय सीटों में से 126 संसदीय और 4920 विधानसभा सीटों में से 1155 विधानसभा सीटें अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं। इसका उद्देश्य उन लोगों को लाभ पहुंचाना है जो वास्तव में दलित हैं | लेकिन धरातल पर अनुसूचित जाति व जनजाति के संभ्रांत लोग ही इसका फायदा उठाते रहे हैं और चुनाव में सफल होते रहे हैं। इस कारण जो दलित आर्थिक व सामाजिक रूप से पिछड़े हैं उनकी स्थिति ज्यों की त्यों बनी हुई है। उन्होंने बताया कि जिन दलितों को फायदा नहीं मिल रहा है और जो इसके हकदार हैं| उनकी संख्या 95 प्रतिशत से भी अधिक है। दलितों के प्रति यह एक तरह का अन्याय और कानून का दुरुपयोग है। झा के अनुसारए दलितों पर हो रहे अन्याय और कानून के

गंगा दशहरा : हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार

इमेज
गंगा दशहरा हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है ज्येष्ठ शुक्ला दशमी को दशहरा कहते हैं गंगा का पृथ्वी पर आगमन गंगा दशहरा का पर्व :  18 व 19 जून २ ० १ ३ को मान्यता है कि राजा भगीरथ को जब अपने पूर्वजों का तर्पण करना था, तो उन्होंने गंगा को पृथ्वी पर लाने के लिए कठोर तप किया था। पुराणों के अनुसार उन्हीं के अनुरोध पर मां गंगा भगवान विष्णु के चरणों से निकली और भगवान शिव की जटाओं में समाई थीं। इसके बाद पुन: तप करने पर भगवान शिव ने अपनी एक जटा को पृथ्वी पर खोला था। तब से मां गंगा का अवतरण पृथ्वी पर माना जाता है। इस दिन गंगा स्नान और दान करने से हजारों अश्वमेघ यज्ञों के समान पुण्य फल मिलता है। ज्योतिष गणना के अनुसार इस बार यह पुण्य फल समान रूप से दो दिनों तक यानि 18 व 19 जून को लिया जा सकता है। शास्त्रों में वर्णित है कि यत्र बहूना योगा: सा ग्राहा।। अर्थात् जहां ज्यादा योग हों वहीं ग्रहण करें, लेकिन इन दोनों दिन ही पांच-पांच योग रहेंगे। इसलिए दोनों दिन समान रूप से पुण्य लाभ कमाया जा सकता है।         सबसे पवित्र नदी गंगा के पृथ्वी पर आने का पर्व है- गंगा दशहरा  मनुष्यों को मुक्ति

हिन्दू समाज देश की रीढ़ : दुर्गादास

इमेज
हिन्दू समाज देश की रीढ़ : दुर्गादास नागौर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ गत 87 साल से संगठन के माध्यम से हिन्दू समाज में राष्ट्रीय चेतना जगाने का काम कर रहा है। देश का हिन्दू संगठित व शक्तिशाली होगा तो देश मजबूत व शक्तिशाली होगा और हिन्दुओं के कमजोर होने पर देश भी कमजोर होगा। राजस्थान क्षेत्र प्रचारक दुर्गादास ने यह बात कही। वे शनिवार शाम को शारदा बाल निकेतन में 20 दिवसीय संघ शिक्षा वर्ग (प्रथम वर्ष) के समापन समारोह में मुख्य वक्ता के रूप में बोल रहे थे। दुर्गादास ने कहा कि हिन्दू समाज देश की रीढ़ है, देश की राष्ट्रीयता है। संघ देश को बल, वैभव व गुण संपन्न बनाने के कार्य में जुटा है। राष्ट्रीय चेतना को देश की आत्मा बताते हुए उन्होंने कहा कि इसके अभाव में देश में गंभीर परिस्थिति खड़ी हो जाती है। हाल ही चीनी सेना की ओर से भारत की सीमा में घुसपैठ को चिंताजनक व देश की संप्रभुता के लिए खतरा बताते हुए कहा कि केन्द्र की कमजोर नीतियों के चलते यह स्थिति उत्पन्न हुई है। नदियां किसी एक देश की संपत्ति नहीं होती। ब्रह्मपुत्र नदी पूर्वोत्तर भारत की जीवन रेखा है और इस पर बांध बनाकर चीन पूर्वाेत्

महाराणा प्रताप जयंती : जेष्ठ शुल्क तृतीय

इमेज
जेष्ठ शुल्क तृतीय सही जन्म तिथि भारत के वीर पुत्र महाराणा प्रताप जयंती आज Tue, 11 Jun 2013 नई दिल्ली| भारत की धन्य भूमि पर अनगिनत ऐसे वीर पुरुष पैदा हुए जिन्होंने अपने बल, पराक्रम और त्याग से समय-समय पर देशभक्ति के अद्वितीय उदाहरण पेश किए हैं। इन्ही में से एक हैं मेवाड़ की धरती पर जन्मे महारणा प्रताप। महाराणा प्रताप का स्मरण आते ही मातृभूमि के प्रति उनके त्यागं और समर्पण की कहानी याद आती है। आज 473 साल बाद भी उस वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप का नाम आते ही शूरवीरों के शरीर में दौड़ रहे गर्म खून में देश भक्ति की भावना उफान मारने लगती है। इसी अदम्य साहस एवं वीरता के प्रतीक महाराणा प्रताप की आज जयंती है। महाराणा प्रताप भारतीय इतिहास में वीरता और राष्ट्रीय स्वाभिमान के पर्याय हैं। वे एक कठिन और उथल-पुथल भरे कालखण्ड में पैदा हुए थे, जब मुगलों की सत्ता समूचे भारत पर छाई हुई थी। मेवाड़ के राजा उदय सिंह के घर जन्मे उनके ज्येष्ठ पुत्र महाराणा प्रताप को बचपन से ही उच्च कोटी के संस्कार प्रदान थे। वीरता तो उनके लहु में थी। बालक प्रताप जितने वीर थे उतने ही पितृ भक्त भी थे। पिता की आज्ञा स

इस्लामी देश ने भेंट की अमेरिका को सरस्वती प्रतिमा

इमेज
इस्लामी देश ने भेंट की अमेरिका को सरस्वती प्रतिमा Mon, Jun 10th, 2013 वाशिंगटन. दुनिया में मुस्लिमों की सबसे बड़ी आबादी वाले इंडोनेशिया ने वाशिंगटन डीसी को शिक्षा और ज्ञान की देवी सरस्वती की 16 फीट ऊंची प्रतिमा भेंट की है. कमल के फूल पर खड़ी देवी सरस्वती की यह प्रतिमा भारतीय दूतावास से कुछ ही दूरी पर लगाई गई है. इंडोनेशियाई दूतावास के प्रवक्ता ने कहा, सरस्वती हिन्दुओं की देवी हैं. मूर्ति का चयन प्रतीकात्मक मूल्यों पर किया गया, जो व्यापक सहयोग के तहत इंडोनेशिया-अमरीका के संबंध, विशेषकर शिक्षा और लोगों के बीच संपर्क, के समानांतर हैं. इंडोनेशिया में हिन्दुओं की संख्या तीन प्रतिशत है.

सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तान हमारा

इमेज
सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्तान हमारा हम बुलबुले है इसकी ये गुलसिता हमारा ॥धृ॥ घुर्बत मे हो अगर हम रहता है दिल वतन मे समझो वही हमे भी दिल है जहाँ हमारा ॥१॥ परबत वो सब से ऊंचा हमसाय आसमाँ का वो संतरी हमारा वो पासबा हमारा ।२॥ गोदी मे खेलती है इसकी हजारो नदिया गुलशन है जिनके दम से रश्क-ए-जना हमारा ।३॥ ए अब रौद गंगा वो दिन है याद तुझको उतर तेरे किनारे जब कारवाँ हमारा ॥४॥ मझहब नही सिखाता आपस मे बैर रखना हिन्दवी है हम वतन है हिन्दोस्तान हमारा ॥५॥

माओवादी हिंसा से तंग आ चुके हैं आदिवासी : मोहन भागवत

इमेज
आदिवासी भी माओवादी हिंसा से तंग आ चुके हैं: मोहन भागवत Friday, June 7, 2013 नागपुर। राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत ने 25 मई को छत्‍तीसगढ़ के बस्‍तर जिले में कांग्रेस नेताओं पर हुए हमले की आलोचना करते हुए कहा है कि अब माओवादियों से कोई बातचीत नहीं की जानी चाहिए क्‍योंकि जो हमला उन्‍होने किया उसे किसी भी तरह से सही नहीं कहा जा सकता है, हमले में 27 लोग मारे गये थे। सच तो यह है कि छत्‍तीसगढ़ में रहने वाले आदिवासी भी अब माओवादियों की हिंसा से तंग आ चुके हैं। संघ प्रमुख मोहन भागवत रेशमीबाग मैदान में संघ के प्रशिक्षण शिविर समारोह में बोल रहे थे। इसके अलावा चीनी सीमा की घुसपैठ पर उन्‍होने कहा कि यह बेहद दुर्भाग्‍यपूर्ण हैं कि आजादी के 65 वर्षों बाद भी हम सीमा विवाद जैसे मुद्दों का कोई हल नहीं निकाल पाये हैं। हम अभी भी अपनी सीमा रेखा चिन्हित नहीं कर पाये हैं, जिसके कारण चीनी सैनिक हमारी सीमा में काफी अंदर तक घुस आये हैं और हम कुछ भी नहीं कर पाते हैं। उन्‍होने सरकार की नाकामियों की निंदा की और खराब प्रशासन के लिए नीतियों को जिम्‍मेदार ठहराया।

अपनी भाषा हिन्दी अपनाएं

इतिहास के प्रकांड पंडित डॉ. रघुबीर प्राय: फ्रांस जाया करते थे। वे सदा फ्रांस के राजवंश के एक परिवार के यहाँ ठहरा करते थे। उस परिवार में एक ग्यारह साल की सुंदर लड़की भी थी। वह भी डॉ. रघुबीर की खूब सेवा करती थी। अंकल-अंकल बोला करती थी। एक बार डॉ. रघुबीर को भारत से एक लिफाफा प्राप्त हुआ। बच्ची को उत्सुकता हुई। देखें तो भारत की भाषा की लिपि कैसी है। उसने कहा - अंकल लिफाफा खोलकर पत्र दिखाएँ। डॉ. रघुबीर ने टालना चाहा। पर बच्ची जिद पर अड़ गई। डॉ. रघुबीर को पत्र दिखाना पड़ा। पत्र देखते ही बच्ची का मुँह लटक गया - अरे यह तो अँगरेजी में लिखा हुआ है। आपके देश की कोई भाषा नहीं है ?  डॉ. रघुबीर से कुछ कहते नहीं बना। बच्ची उदास होकर चली गई। माँ को सारी बात बताई। दोपहर में हमेशा की तरह सबने साथ-साथ खाना तो खाया ,  पर पहले दिनों की तरह उत्साह चहक-महक नहीं थी। गृहस्वामिनी बोली - डॉ. रघुबीर ,  आगे से आप किसी और जगह रहा करें। जिसकी कोई अपनी भाषा नहीं होती ,  उसे हम फ्रेंच ,  बर्बर कहते हैं। ऐसे लोगों से कोई संबंध नहीं रखते। गृहस्वामिनी ने उन्हें आगे बताया - मेरी माता लोरेन प्रदेश के ड्‍यूक की कन्या थी।

राहुल को 500 करोड़ हर्जाने का नोटिस असम गण परिषद ने भेजा

इमेज
राहुल गांधी को 500 करोड़ रुपये हर्जाने का कानूनी नोटिस Thursday, June 06, 2013 ज़ी मीडिया ब्‍यूरो गुवाहाटी : असम गण परिषद की युवा शाखा ने बुधवार को कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी को उनके कथित बयान के लिए कानूनी नोटिस भेजा है और उनको माफी मांगने के लिए 15 दिन का समय दिया है। अगप के अनुसार राहुल गांधी ने कथित तौर पर कहा था कि असम गण परिषद उग्रवादियों के समर्थन से दूसरी बार सत्ता में आई थी। पार्टी की युवा शाखा के अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि यदि कांग्रेस के उपाध्यक्ष माफी नहीं मांगते हैं, तो हम पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचाने के लिये उनसे 500 करोड़ का हर्जाना मांगेगे। उन्होंने कहा कि हमने राहुल गांधी को अपने नोटिस का जवाब देने के लिए 15 दिन का समय दिया है और इसमें असफल रहने पर उनके खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला शुरू किया जाएगा। अगप के अध्यक्ष प्रफुल्ल कुमार महन्त ने भी इससे पहले कहा था कि पार्टी गांधी के बयान की कड़ी निंदा करती है और उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई के लिए विशेषज्ञों से सलाह ले रही है। असम के मुख्यमंत्री तरूण गोगोई ने राहुल गांधी के बयान का समर्थन किया था औ

सोनिया की एनएसी में माओवादियों के शुभ चिन्तक - नरेंद्र मोदी

इमेज
मोदी ने सोनिया पर बोला सीधा हमला नवभारत टाइम्स.कॉम | Jun 5, 2013, नई दिल्ली ।। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर यूपीए सरकार और सोनिया गांधी पर सीधा हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि माओवादियों को संरक्षण देने का काम यूपीए नेतृत्व कर रहा है। उन्होंने कहा कि सोनिया की अगुवाई वाली एनएसी (राष्ट्रीय सलाहकार परिषद) के सदस्य माओवादियों को अपने एनजीओ का नेतृत्व सोंपने  में भी नहीं हिचकते। मुख्यमंत्रियों के सम्मेलन में शिरकत करने दिल्ली आए मोदी ने मीडियाकर्मियों से बातचीत करते हुए कहा कि नक्सल समस्या को देश की सबसे गंभीर समस्या करार देने वाली यूपीए सरकार यह भी नहीं देख पा रही कि उसकी सबसे ताकतवर संस्था ही माओवादियों को संरक्षण देने के काम में इस्तेमाल की जा रही है। उन्होंने कहा कि पिछली बार जब उड़ीसा में एक जिलाधिकारी को माओवादियों ने किडनैप किया था, तो जिलाधिकारी को छोड़ने की एवज में उन लोगों ने पांच माओवादियों को छोड़ने की मांग की थी। इन 5 माओवादियों में एक पद्मा भी थी जो एक जाने-माने माओवादी नेता की पत्नी भी हैं। उन्होंने कहा कि पद्मा एक एनजीओ की हेड हैं यह एनजीओ सोनिया

उपचुनाव : मोदी का क्लीन स्वीप, नीतीश को झटका

इमेज
उपचुनावः मोदी का क्लीन स्वीप, नीतीश को झटका नवभारतटाइम्स.कॉम | Jun 5, 2013, नई दिल्ली।। पांच राज्यों में लोकसभा की 4 सीटों और विधानसभा की 6 सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजों ने साबित किया कि गुजरात में मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी का जादू सिर चढ़कर बोल रहा है। सत्ताधारी पार्टी बीजेपी ने दोनों (बनासकांठा और पोरबंदर) लोकसभा और चारों विधानभा सीटें कांग्रेस से छीन ली हैं। बिहार में महाराजगंज लोकसभा सीट के उपचुनाव में नीतीश को बड़ा झटका लगा है। सरकार में शिक्षा मंत्री और जेडीयू के उम्मीदवार प्रशांत कुमार शाही आरजेडी के प्रभुनाथ सिंह से 1 लाख 37 हजार वोटों से हार गए हैं। उधर, पश्चिम बंगाल की हावड़ा लोकसभा सीट दोबारा सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के खाते में चली गई है। गुजरातः गुजरात में दो लोकसभा सीटों- पोरबंदर और बनासकांठा के लिए और चार विधानसभा सीटों - धोराजी, जेतपुर, लिंबरी और मोरवा हड़फ के लिए हुए उपचुनाव में बीजेपी ने शानदार जीत दर्ज की। बीजेपी शासित गुजरात में इन उपचुनावों को विपक्षी कांग्रेस के लिए एक अग्निपरीक्षा माना जा रहा था। ये सभी सीटें कांग्रेस के पास थीं। बनासकांठा लोकसभा सीट कांग

रक्तपात के बीच ठिठका देश - मृणाल पांडे

रक्तपात के बीच ठिठका देश मृणाल पांडे दैनिक भास्कर और अब, जबकि नक्सली दस्तों के हैबतनाक हौसले बुलंद हैं, कई चूजादिल विद्वान पोथे खोले बैठे हैं कि देश के संघीय ढांचे को चुनौती दिए बिना, सेना भेजे बिना, राज्य के स्वघोषित दुश्मनों के मानवाधिकारों का हनन किए बिना, स्थानीय जनजीवन में खलबली मचाए बिना, अगले चुनाव के संभावित घटक दल को खफा किए बिना कैसे इन हिंसक, अराजकता समर्थक गुरिल्ला जत्थों का जल्द और समूल विनाश हो! एक और छानबीन कमेटी बिठा दी गई है, जो छत्तीसगढ़ नरसंहार पर जब रपट देगी, तब देगी। जमीनी सच्चाई यह है कि अभी नक्सली वारदातें जारी हैं, पर चुनाव भी सर पर हैं। लिहाजा षड्यंत्र की अफवाहों में लिथड़ी समस्या की गेंद राजनीतिक दलों के बीच लतियाई जाने लगी है। गृहमंत्री तथा रक्षामंत्री की तरफ से मिले संकेतों के अनुसार नक्सली जत्थे भले बेगुनाह नागरिकों और सशस्त्र बलों के खून की नदियां बहाते रहें, अपने कैदियों को जेल तोड़कर उड़ा लें, स्कूल बंद करा दें, सड़क निर्माण रोक दें और जिलाधिकारियों का अपहरण कर फिरौती मांगें, लेकिन भारतीय सशस्त्र बल उनसे अंतरराष्ट्रीय शांतिसेना की तरह पेश आते रहेंग