पोस्ट

अप्रैल, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

BJP बनी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी

इमेज
अमित शाह का दावा, BJP बनी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी आईबीएन-7 | Apr 30, 2015 नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बन गई है। ये ऐलान आज बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने किया। उनके मुताबिक सदस्यता अभियान के आखरी दिन पार्टी के कुल 10 करोड़ 43 लाख सदस्य बन गए हैं। बीजेपी एक महासंपर्क अभियान के तहत इन सदस्यों को कार्यकर्ता बनाएगी। अब तक चीन की कम्युनिस्ट पार्टी साढ़े सात करोड़ सदस्यों के साथ सबसे बड़ी पार्टी मानी जाती थी। फिलीपींस की आबादी से ज्यादा, ऑस्ट्रेलिया की आबादी के चार गुना से ज्यादा भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों की संख्या हैं। बीजेपी का दावा है वो दुनिया की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी बन गई है। उसके सदस्यों की संख्या 10 करोड़ 43 लाख के पार पहुंच गई है। बीजेपी के 10 करोड़ी होने के अवसर पर दिल्ली में पार्टी मुख्यालय पर खूब जश्न मनाया गया। बीजेपी से पहले चीन की कम्युनिस्ट पार्टी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी थी। आंकड़ों के मुताबिक चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के साढ़े 7 करोड़ से भी ज्यादा सदस्य हैं। लेकिन अब बीजेपी उससे बहुत आगे निकल चुकी है। हालांकि बीजेपी पर ये आरोप भ

विदेश से चंदा लेने वाले एनजीओ पर कड़ी कार्रवाई : नौ हज़ार लाइसेंस रद्द

सरकार ने 8,975 एनजीओ के लाइसेंस किए रद्द Vishal Kasaudhan's picture Tue, 28/04/2015 लाइव इंडिया डिजिटल विदेश से चंदा लेने वाले एनजीओ पर एक और कड़ी कार्रवाई की गई है। सरकार ने विदेशी चंदा विनियमन अधिनियम (एफसीआरए) का उल्लंघन करने वाली 8,975 एनजीओ के पंजीकरण रद्द कर दिए हैं। गृह मंत्रालय ने अपने एक आदेश में कहा है कि साल 2009-10, 2010-11 और 2011-12 के लिए सालाना रिटर्न नहीं भरने वाले 10,343 एनजीओ को नोटिस जारी किए गए थे। पिछले साल 16 अक्टूबर को जारी किए गए इन नोटिसों में कहा गया था कि वे एक माह के भीतर अपने-अपने सालाना रिटर्न दाखिल करें। इसमें उन्हें यह भी बताना था कि विदेश से उन्हें कितना चंदा मिला। चंदे का स्रोत और इसे लेने के पीछे उद्देश्य क्या था। साथ ही यह जानकारी भी देनी थी कि एनजीओ ने इस चंदे का क्या उपयोग किया। रविवार को गृह मंत्रालय से जारी अधिसूचना के अनुसार, 10,343 एनजीओ में से महज 229 ने ही अब तक जवाब दिए हैं। इससे पहले, सरकार ग्रीनपीस इंडिया का एफसीआरए लाइसेंस निरस्त कर चुकी है। साथ ही कथित रूप से कई कानूनों का उल्लंघन करने पर उसके सात बैंकों के खाते फ्रीज

पाकिस्तान ने नेपाल को भेजा गौ मांस : मचा हंगामा

इमेज
पाकिस्तान ने नेपाल को भेजा ‘बीफ मसाला’ ( गौ मांस ), मचा हंगामा ibnkhabar.com | Apr 30, 2015 काठमांडू। 25 अप्रैल को आए भूकंप की त्रासदी के बाद सभी देश नेपाल को अपनी तरफ से हरसंभव मदद भेजने में लगे हैं। भारत ने तो अपने सभी संसाधन नेपाल के लिए खोल दिए हैं और तेजी से राहत-बचाव कार्य के अंजाम दिया जा रहा है।लेकिन इस बीच नेपाल को पाकिस्तान ने राहत पैकेज में ऐसी चीज भेजी है जिसे देख सभी लोग हैरान हैं और कोई भी इसे हाथ लगाने को तैयार नहीं है। दरअसल पाकिस्तान की ओर से भेजी गई राहत सामग्री में 'बीफ मसाला' के पैकेट हैं। नेपाल में गोवध पर पूरी तरह प्रतिबंध है। ऐस में पाकिस्तान से इस तरह की सामग्री आने से लोगों में हैरत है। अब कोई भी इन पैकेट को छूने को तैयार नहीं है। बीफ मसाला भरे कई पैकेट ट्रकों में ही पड़े हुए हैं। काठमांडू के अस्पताल में तैनान भारतीय डॉक्टरों ने अंग्रेजी वेबसाइट से बातचीत में बताया कि मंगलवार को पाकिस्तान की ओर से भेजी गई राहत सामग्री में बीफ मसाला के पैकेट्स हैं। भारत की ओर से 34 सदस्यीय चिकित्सा दल नेपाल भेजा गया है। इन्हीं में शामिल डॉ. बलविंदर सिंह ने कहा

क्लिंटन फाउंडेशन और अमर सिंह के बीच क्या पका ..?

इमेज
क्लिंटन फाउंडेशन को अमर सिंह के दान पर उठे सवाल Publish Date:Wed, 29 Apr 2015 वाशिंगटन। रूसी चंदे पर घिंरी हिलेरी क्लिंटन को 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति पद की दावेदार के दौरान मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है। इस बीच, एक अमेरिकी अखबार ने एक नया खुलासा किया है। जिसके मुताबिक, 2008 के भारत-अमेरिका परमाणु समझौते के दौरान एक भारतीय राजनीतिज्ञ अमर सिंह की ओर से क्लिंटन फाउंडेशन को पांच करोड़ रुपये दान प्राप्त हुआ था। गौरतलब है कि उस समय अमर सिंह समाजवादी पार्टी (सपा) के महासचिव थे। अखबार ने एक किताब का हवाला देते हुए सवाल किया है कि अमर सिंह के पास इतनी अधिक धनराशि कहा से आई। अमर सिंह का नाम उन दानदाताओं की श्रेणी में है, जिन्होंने दस लाख से 50 लाख डालर तक दान दिया है। यानी पांच करोड़ से लेकर 25 करोड़ रुपये। लेकिन अमर सिंह ने उस वक्त इंकार करते हुए कहा था कि उन्होंने क्लिंटन फाउंडेशन को ऐसी बड़ी राशि दान दी है। उनके मुताबिक, उनके पास तो इतना पैसा ही नहीं कि वे दान दें। अमर सिंह लाख मना करें, लेकिन हिंदुस्तान किसी दूसरे अमर सिंह को नहीं जानता जिसके क्लिंटन से संबंध हों। कौन

किसान खुदकुशी केसः चश्मदीदों ने बताया गजेंद्र को उकसाया गया

इमेज
किसान खुदकुशी केसः चश्मदीदों ने बताया गजेंद्र को उकसाया गया Publish Date:Mon, 27 Apr 2015 नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने सोमवार को किसान गजेंद्र सिंह खुदकुशी मामले की रिपोर्ट मजिस्ट्रेट को सौंप दी। रिपोर्ट में गजेंद्र की मौत को हादसा बताया गया है। लेकिन इस मामले की तफ्तीश के दौरान दिल्ली पुलिस को दो अहम चश्मदीद मिले हैं। चश्मदीदों ने यह दावा किया है कि पेड़ पर चढ़ने के लिए कुछ लोग गजेंद्र सिंह को उकसा रहे थे। माना जा रहा है कि दिल्ली पुलिस इन दोनों चश्मदीदों को गवाह बना सकती है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार दिल्ली पुलिस ने वीडियो फुटेज के आधार पर यह रिपोर्ट तैयार की है। यह वीडियो फुटेज उसे विविध न्यूज चैनलों से प्राप्त हुए थे जो उस वक्त जंतर-मंतर पर आम आदमी पार्टी की किसान रैली को कवर कर रहे थे। पुलिस को किसान गजेंद्र की पोस्टमार्टम रिपोर्ट भी मिल गई है। जिसमें उसकी मौत का कारण दम घुटना बताया गया है। गौरतलब है कि 22 अप्रैल को आम आदमी पार्टी की जंतर-मंतर पर भूमि अधिग्रहण के खिलाफ आयोजित रैली के दौरान एक किसान ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। रैली में उस समय दिल्ली के मुख्यमंत्री अरवि

बाबा साहब के संदेश आज भी उतने ही प्रासंगिक - दुर्गादास जी

इमेज
बाबा साहब के संदेश आज भी उतने ही प्रासंगिक - दुर्गादास जी बीकानेर।  १४ अप्रैल २०१५. समरसता मंच बीकानेर द्वारा वेटेरीनरी प्रेक्षागृह मे समरसता समागम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का आयोजन महानायक भीमराव अंबेडकर की 125 जयंती के अवसर पर किया गया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के क्षेत्र प्रचारक दुर्गादास थे। उन्होने अपने उद्बोधन मे कहा कि इस युग मे जिन महापुरुषों ने राष्ट्र की एकता और अखंडता के लिए अपना जीवन लगाया है, उनमे डॉ  अंबेडकर एक अग्रणी महापुरुष हैं। डॉ  अंबेडकर ने अपने व्यक्तित्व और कृतित्व से समाज के सबसे पिछड़े तबके को आगे लाने के लिए जो प्रयास किया वही एक समर्थ राष्ट्र की नींव स्थापित हुआ।  उन्होने जिन विपरीत परिस्थितियों मे आगे बढ़कर संविधान और नीति निर्माण के प्रयास किए वे अतुलनीय हैं। अंबेडकर का जीवन ही अपने आप मे प्रेरणास्पद और स्मरणीय है। उनका संदेश समरसता के माध्यम से एकता और अखंडता रहा। वे अखंड भारत के पक्षधर तो थे ही, भारत की प्राचीन और सनातन संस्कृति के अध्येता और उपासक भी रहे। उन्होने भारत की जड़ों से जुड़े विकास पर बल दिया जिसमे रूढ़ियोंए जा

इटैलियन मूल की कांग्रेसी बनाम राष्ट्र गौरव

जिस पार्टी की नेता ही विदेशी इटैलियन मूल की हो उसे विश्वख्याति पा रही भारत की कोई गौरव गाथा क्यों अच्छी लगेगी.? इनदिनों युद्धग्रस्त यमन में पानी की तरह बरस रहे बमों की वर्षा के मध्य अपनी वायुसेना जलसेना तथा एयर इंडिया द्वारा लगभग 4800 भारतीयों के अतिरिक्त अमेरिका जापान जर्मनी स्पेन रूस ब्राज़ील और स्वीडन सहित दुनिया के 48 देशों के लगभग 2000 नागरिकों की प्राणरक्षा कर के भारत समस्त विश्व से सराहना और सम्मान प्राप्त कर रहा है. भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज जब भारतीय संसद के माध्यम से देश के नागरिकों को भारत की इस गौरव गाथा से विस्तार से परिचित कराना प्रारम्भ किया तो कांग्रेसी सांसदों ने इसके विरोध में संसंद के भीतर गज़ब का हल्ला हुड़दंग करके इसका जबरदस्त विरोध किया और सुषमा स्वराज को ऐसा करने से रोकने का भरपूर प्रयास किया. अपने इस दुष्प्रयास में वे सफल भी रहे क्योंकि कांग्रेसी सांसदों के भयंकर हल्ले और हुड़दंग के कारन सुषमा स्वराज का सम्बोधन सुन पाना लगभग असम्भव हो गया. मित्रों कांग्रेसी सांसदों के इस आचरण पर हमको आपको आश्चर्य नहीं करना चाहिए क्योंकि जिस पार्टी के नेताओं ने अपन

भूमि अधिग्रहण बिल की बड़ी बातें

भूमि अधिग्रहण बिल की छह बड़ी बातें Publish Date:Mon, 20 Apr 2015 भूमि अधिग्रहण अध्यादेश को मोदी सरकार जहां विकास का पर्याय मान रही है वहीं विपक्ष इस अध्यादेश को किसान विरोधी बता रहा है। आखिर क्या है इस अध्यादेश में खास। इसके पक्ष में क्या है भाजपा के तर्क। 1- किसानों को अपनी जमीन की जायज कीमत मिलेगी। यह मूल्य बाजार भाव का चार गुना होगा। साथ ही किसान विकास के बाद विकास और अधिग्रहण लागत का भुगतान करके मूल भूमि का 20 फीसद प्राप्त कर सकते हैं। मिसाल के तौर पर, एक किसान जिसके पास 20 एकड़ जमीन है और जिसकी बाजार कीमत 2 लाख रुपये प्रति एकड़ है, उसे अपनी भूमि के लिए 1.6 करोड़ रुपये मिलेंगे। इसके अलावा विकास कार्य के बाद उसके पास अविकसित भूमि की कीमत पर ही बुनियादी सुविधाओं से परिपूर्ण दो एकड़ जमीन खरीदने का विकल्प रहेगा। 2 - भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया यदि आसान होगी तो कॉलेजों, अस्पतालों, रेलवे आदि सुविधाओं का विस्तार होगा और विकास भी। इससे निश्चित तौर पर किसानों को भी प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष लाभ मिलेगा। 3 - निजी उद्देश्यों (होटल निर्माण, इमारत बनाने, कल कारखानों) के लिए ली जाने वाली जमीन किसान

कांग्रेस की संधियों के कारण देश में 3500 से कुछ अधिक विदेशी बहुराष्ट्रीय कम्पनियाें की लूट जारी है

इमेज
http://rajivdixit.in/Books/makadjal.pdf बहुराष्ट्रीय कम्पनियों का भारत में प्रवेश भारत में विदेशी कम्पनियाँ तीन तरीके से कम कर रही है। पहला, सीधे अपनी शाखायें स्थापित करके, दूसरा अपनी सहायक कम्पनियों के माध्यम से, तीसरा देश की अन्य कम्पनियों के साथ साझेदार कम्पनी के रूप में। जून 1995 तक प्राप्त आंकड़ों के अनुसार 3500 से कुछ अधिक विदेशी बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ, अपनी शाखाओं या सहायक कम्पनियों के रूप में देश में घुसकर व्यापार कर रही हैं। 20,000 से अधिक विदेशी समझौते देश में चल रहे हैं। औसतन 1000 से अधिक नये विदेशी समझौते प्रतिवर्ष देश में होते हैं। सन् 1972 के अन्त तक देश में कुल 740 विदेशी कम्पनियाँ थीं। जिनमें से 538 अपनी शाखायें खोलकर व 202 अपनी सहायक कम्पनियों के रूप में काम कर रही थीं। इनमें सबसे अधिक कम्पनियाँ ब्रिटेन की थीं। लेकिन आज सबसे अधिक कम्पनियाँ अमेरिका की हैं। समझौते के अन्तर्गत काम करने वाली सबसे अधिक कम्पनियाँ जर्मनी की हैं। 1977 में विदेशी कम्पनियों की संख्या 1136 हो गयी। आजादी के पूर्व सन् 1940 में 55 विदेशी कम्पनियाँ देश में सीधे कार्यरत थीं। आजादी के बा

आपातकाल के मीसा, डीआईआर बंदियों का जेलों में रिकॉर्ड नहीं

इमेज
आपातकाल के मीसा, डीआईआर बंदियों का जेलों में रिकॉर्ड नहीं आनंद चौधरी|  May 13, 2014, जयपुर. आपातकाल (1975 -77) के दौरान जेलों में यातना सहने वाले आधे से ज्यादा मीसा और डीआईआर बंदियों को नियम के फेर में पेंशन से महरूम रहना पड़ सकता है। दरअसल, पेंशन के लिए उन्हीं को पात्र माना गया है जो प्रदेश के मूल निवासी हैं और यहां की जेलों में बंद रहे। आवेदन के साथ जेल में बंद रहने का सर्टिफिकेट मांगा है, लेकिन कई जेलों में रिकॉर्ड नहीं है। जेल प्रशासन का कहना है कि 40 साल पुराना मामला होने से रिकॉर्ड जर्जर हैं। फटे-पुराने कागजों को जोड़कर सर्टिफिकेट दिए गए हैं। पूर्व सांसद रघुवीर सिंह कौशल, सवाई माधोपुर के नेता गिर्राज किशोर शर्मा का रिकॉर्ड भी नहीं है। कौशल को तो आरटीआई के तहत भी रिकॉर्ड हासिल नहीं हो पाया।  आपातकाल में सैकड़ों नेताओं की प्रदेश में गिरफ्तारी हुई थी। नियमों के तहत ये पेंशन से वंचित हो सकते हैं। यूपी, उत्तराखंड और एमपी में मीसा बंदियों को स्वतंत्रता सेनानी का दर्जा देकर 15 हजार पेंशन दी जा रही है, लेकिन राजस्थान के नेताओं की पेंशन में नियम रुकावट बने हैं। शुरुआत में 850 को

भूमि अधिग्रहण विधेयक खुली बहस को तैयार: नितिन गडकरी

इमेज
भूमि  अधिग्रहण  विधेयक  पर किसी भी मंच पर खुली बहस को तैयार: नितिन गडकरी भूमि अध्ािग्रहण विध्ोयक खेतों, खलिहानों मंे काम करने वालों और किसानों को समृह् बनानेवाला कानून है, इसलिए गांवों में विकास के लिए इस विध्ोयक का साथ देने को लेकर 19 मार्च को केंद्रीय परिवहन और राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं को पत्र लिखा। प्रस्तुत है पूरा पाठ: बदलावों को करते हुए हमने मुआवजे और पुनर्वास से कोई समझौता नहीं किया है। जिन विषयों को हमने इस सूची में शामिल किया है, उसमें से एक भी किसानों के विरोध में नहीं है, बल्कि यह विषय उन्हें समृ(िशाली बनाने वाले हैं। इंडस्ट्रियल कोरीडोर दिल्ली या फिर किसी महानगर में नहीं बनेगा। यह ग्रामीण इलाकों से होकर गुजरेगा। इसके तहत अगर ग्रामीण इलाकों में उद्योग लगते हैं तो इसका सीधा फायदा किसानों को होगा। बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा। प्रध्ाानमंत्री श्री नरेनर््ी मोदी की सरकार ने ग्रामीण विकास और किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए वर्तमान भूमि अध्ािग्रहण कानून में कुछ महत्वपूर्ण बदलाव किए हैं। लेकि

भाजपा के 35 वर्ष : 2 से 282 तक की यात्रा...

इमेज
                                         भाजपा स्थापना दिवस 6 अप्रैल पर विशेष                              भाजपा के 35 वर्ष : 2 से 282 तक की यात्रा... जनसंघ के बाद भाजपा गठन को 6 अप्रैल 2015 को 35 वर्ष हो जाएंगे। 2 से चले थे और आज लोकसभा में 282 तक पहुंचे हैं। भाजपा का यह राजनीतिक सफर संगठन की जीवंतता का एक अनुपम उदाहरण है। यह अवसर है उन अनाम कार्यकर्ताओं को प्रणाम करने का, जो बिना लाग-लपेट, बिना लोभ-लालच के, अहर्निश बिना कहे, संगठन के काम में लगे रहते हैं। भारतीय राजनीति में भाजपा ही एक ऐसा दल है जिसे सामाजिक और आध्यात्मिक राजनैतिक दल कहा जा सकता है। दर्शनहीन राजनीतिक दलों के बीच दर्शन से पूर्ण एक दल है, जिसका नाम भारतीय जनता पार्टी है। दोहरी सदस्यता के नाम पर जनता पार्टी के तत्कालीन अध्यक्ष चन्द्रशेखर ने जनसंघ को जनता पार्टी से अलग कर दिया। अटल बिहारी वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी, डाॅ. मुरली मनोहर जोशी, सुंदर सिंह भंडारी, कुशाभा≈ ठाकरे, जगन्नाथ राव जोशी, राजमाता विजयाराजे सिंध्ािया, भैरो सिंह शेखावत, जना कृष्णमूर्ति, के.एल. शर्मा, यज्ञदत्त शर्मा, जे.पी. माथुर

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने नरेंद्र मोदी की तारीफ में लेख लिखा

इमेज
               ओबामा ने की पीएम मोदी की तारीफ, बताया 'रिफॉर्मर-इन-चीफ' ibnkhabar.com | Apr 16, 2015 वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ में लेख लिखा है। लेख में ओबामा ने मोदी की जी खोलकर तारीफ की है और उन्हें भारत का रिफॉर्मर-इन-चीफ करार दिया है। ओबामा ने ये लेख दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली शख्सियतों की लिस्ट निकालने के मौके पर लिखा है। ओबामा ने लिखा है कि नरेंद्र मोदी बचपन में अपने परिवार के जीवकोपार्जन के लिए चाय बेचने में पिता का हाथ बंटाया करते थे। आज वो दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के मुखिया हैं और एक गरीब किशोर से प्रधानमंत्री बनने तक की उनकी कहानी उभरते भारत के जोश और क्षमताओं को प्रदर्शित करती है। ओबामा ने लिखा है कि देश को आगे ले जाने के लिए दृढ़संकल्पित मोदी का मकसद गरीबी को कम करना, शिक्षा को बढ़ावा देना, महिलाओं और लड़कियों का सशक्तिकरण है। भारत की तरह, वो आधुनिकता और परंपरा के समागम हैं। जो योग के लिए समर्पित हैं और भारतीय नागरिकों से ट्विटर के जरिए जुड़ते है व डिजिटल इंडिया का सपना देखते हैं। ओबामा ने लिखा

भाजपा : कोटा शहर में सक्रीय सदस्यता अभियान प्रारम्भ

इमेज
कोटा शहर में सक्रीय सदस्यता अभियान  प्रारम्भ वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को युवा कार्यकर्ता सक्रीय सदस्य बनाने में सहयोग करें - पंचारिया कोटा 15 अप्रेल । भाजपा के प्रदेश महामंत्री, सदस्यता अभियान के प्रदेश संयोजक एवं राज्यसभा सांसद नारायण पंचारिया ने कोटा सर्किट हाउस में सायं 4 बजे, कोटा शहर जिला के सदस्यता अभियान के जिला एवं मण्डलों के सदस्या प्रमुखों की बैठक ली तथा निर्देश दिये कि भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को सक्रीय सदस्य बनाने में युवा कार्यकर्ता सहयोग करें। उन्होने कहा नई तकनीक से हो रही सदस्यता में अनेकों वरिष्ठ कार्यकर्ता 100 साधारण सदस्य नहीं बना पाये हैं। किन्तु पार्टी के संविधान के अनुसार अब 100 साधारण सदस्य बनाये बिना सक्रीय सदस्य बन नहीं सकता । उन्होने कहा 30 अप्रेल साधारण सदस्यता अभियान की अंतिम तिथि है इससे पहले - पहले सभी को सदस्य बन जाना चाहिऐ। उन्होने कहा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह जी ने बहुत सोच समझ कर प्रमाणित पद्यती से पार्टी हित में सदस्यता की नई विधि को अपनाया और इससे हम अब चीन की कम्युनिष्ट पार्टी के विश्व रिकार्ड को तोड़ कर, उस

1 मई, 2015 से प्रारंभ होगा भाजपा का महासंपर्क अभियान

इमेज
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह द्वारा दिए गए भाषण के मुख्य अंश दस करोड़ सदस्यों से संपर्क करेंगे भाजपा कार्यकर्ता 01 मई, 2015 से प्रारंभ होगा भाजपा का महासंपर्क अभियान * दस सदस्यों से मिलकर बनी पार्टी आज 10 करोड़ सदस्यों की पार्टी बन गई है: अमित शाह * भाजपा ही वह पार्टी है, जिसने पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र को बनाए रखा है: अमित शाह * संगठन पर्व का यह वर्ष भाजपा के लिए महत्वपूर्ण वर्ष: अमित शाह * सदस्यता अभियान के माध्यम से भाजपा का काम सर्वस्पर्शी और सर्वसमावेशक हुआ है: अमित शाह * सबसे लोकप्रिय नेतृत्व हमारे पास है और सबसे लोकप्रिय सरकार हमारे पास है: अमित शाह * संपर्क और संवाद संगठन के प्राण: अमित शाह * विचारधारा के परिचय के लिए ही है हमारा महासंपर्क अभियान: अमित शाह * सरकार के अच्छे कार्यों को जनता तक पहुंचाना और भ्रांतियों को दूर करने का कार्य भी करेगा हमारा महासंपर्क अभियान: अमित शाह     मित्रों, सदस्यता अभियान का काम अभी रूका नहीं है और पार्टी ने महासंपर्क सदस्यता अभियान की शुरूआत कर दी है। अलग से टीम बनाकर थोड़ा प्रयास किया है कि उन्हीं लोगों पर बोझ ना आए जिन्होंने

भाजपा कोटा शहर : जनसंघ कालिक पांच कार्यकर्ताओ का सम्मान किया

इमेज
             अरविन्द सिसोदिया 9414180151/ 9509559131                                                                        जनसंघ कालिक पांच कार्यकर्ताओ का सम्मान किया                                   अमितशाह अमरूदों के बाग जयपुर मे सम्बोधित करेगे 25 अप्रैल को                                      भाजपा कोटा शहर की जिला बैठक एवं सम्मान समारोह सम्पन्न                                      पार्टी कार्य की कर्मठता ही कार्यकर्ता की पहचान - पंचारिया                                                        पार्टी के विस्तार में जुटजायें - बिरला जनसंघ कालिक कार्यकर्ता वैद्य देवीशंकर शर्मा, एडवोकेट बजरंगलाल वर्मा, एडवोकेट प्रेमचन्द जैन दमदमा वाले, व्यवासाही चांदमल विजय दानमलजी का आहता वाले और नारायणलाल खण्डेलवाल रामपुरा वालों को सम्मानित किया गया । सम्मान में माल्यापर्ण कर साफा बंधवाया गया, शाल उढ़ाया गया, श्रीफल भेंट किया गया और एक एक अभिनंदन पत्र दे कर सम्मान किया गया । कोटा 14 अप्रैल। हमारी पार्टी आज की नहीं हम 21 अक्टूबर 1951 से राजनैतिक यात्रारत हैं। हमारा बहुत गहरा अनुभ