पोस्ट

मई, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

महाराण प्रताप : सूरवीर राष्ट्रभक्त

इमेज
 यह आलेख क्षत्रिय कल्याण सभा भिलाई .. के द्वारा परिश्रम पूर्वक तैय्यार किया गया है ....   http://kshatriyakalyansabha.org/kks/king.asp   महाराणा प्रताप और सिसोदिया राजवंश  सन 712 ई० में अरबों ने सिंध पर आधिपत्य जमा कर भारत विजय का मार्ग प्रशस्त किया। इस काल में न तो कोई केन्द्रीय सत्ता थी और न कोई सबल शासक था जो अरबों की इस चुनौती का सामना करता। फ़लतः अरबों ने आक्रमणो की बाढ ला दी और सन 725 ई०  में जैसलमेर, मारवाड, मांडलगढ और भडौच आदि इलाकों पर अपना आधिपत्य जमा लिया। ऐसे लगने लगा कि शीघ्र ही मध्य पूर्व की भांति भारत में भी इस्लाम की तूती बोलने लगेगी। ऐसे समय में दो शक्तियों का प्रादुर्भाव हुआ। एक ओर जहां नागभाट ने जैसलमेर. मारवाड, मांडलगढ से अरबों को खदेड कर जालौर में प्रतिहार राज्य की नींव डाली, वहां दूसरी ओर बप्पा रायडे ने चित्तौड के प्रसिद्ध दुर्ग पर अधिकार कर सन 734 ई० में मेवाड में गुहिल वंश का वर्चश्व स्थापित किया और इस प्रकार अरबों के भारत विजय के मनसूबों पर पानी फ़ेर दिया।मेवाड का गुहिल वंश संसार के प्राचीनतम राज वंशों में माना जाता है। मेवाड राज्य की क

वीर सपूत महाराणा प्रताप

इमेज
४ जून २०११ को तिथि के अनुसार जन्मदिन है ........ http://www.pravakta.com/story/10555 पराक्रमी देशभक्त - महाराणा प्रताप  _ विनोद बंसल देश और धर्म की रक्षा के लिए प्रण-पण से अपने आपको आहूत कर देने वाले महान पुरूषों में मेवाड सपूत महाराणा प्रताप का नाम सदा अग्रणी रहा है। जब मुगलों के आतंक व अत्याचार के चलते लोग हताश हो रहे थे ऐसे समय वीर बालक महाराणा प्रताप ने मेवाड़ की भूमि को मुगलों के चंगुल से छुड़ाने हेतु न सिर्फ वीरता पूर्वक संघर्ष किया बल्कि समस्त देशवासियों के लिए एक अनन्य प्रेरणा का संचार किया। ज्येष्ठ शुक्ल तीज सम्वत् 1597 को मेवाड़ के राजा उदय सिंह के घर जन्मे उनके ज्येष्ठ पुत्र महाराणा प्रताप को बचपन से ही अच्छे संस्कार, अस्त्र-शस्त्रों का ज्ञान और धर्म की रक्षा की प्रेरणा अपने माता-पिता से मिली। उन दिनों दिल्ली में सम्राट अकबर का राज्य था जो भारत के सभी राजा-महाराजाओं को अपने अधीन कर मुगल साम्राज्य का ध्वज फहराना चाहता था। मेवाड़ की भूमि को मुगल आधिपत्य से बचाने हेतु महाराणा प्रताप ने प्रतिज्ञा की थी कि जब तक मेवाड़ आजाद नहीं होगा, मैं महलों को छो

संविधान के पुनर्लेखन की जरूरत

- अरविन्द सिसोदिया        यह सही है की जब भारत का संविधान बना तब , भारत पर अंग्रेजों का अत्यधिक प्रभाव था , जवाहरलाल नेहरु परोक्ष गुलामी के दस्ताबेज कामनवेल्थ पर दस्तखत करके , ब्रिटेन की महारानी और अंग्रेजी ताज के प्रति प्रतिवद्धता संधि कर चुके थे ! अंगेजो और नेहरूजी की सांठ - गांठ से बना संविधान देश पर तब  लागू हुआ | उसमें आज तक लगभग १०० से अधिक संशोधन हो चुके हैं | इसे भारतीय स्थिति के प्रतिकूल ; संघ के पूर्व सरसंघ चालक सम्मानीय  सुदर्शन जी ने भी ठहराया था, भारतीय स्थिति,देशहित और  वास्तविक लोकतंत्र के लिए संविधान को नए सिरे से लिखे जाने की जरूरत बताया था | इसलिए डॉ. मुरली मनोहर जोशी के वक्तव्य का स्वागत किया जाना चाहिए |  *  लोक लेखा समिति के अध्यक्ष व वरिष्ठ भाजपा नेता सांसद डॉ. मुरली मनोहर जोशी ने बदलते समय और राष्ट्रीय भावना की मांग के अनुसार भारतीय संविधान के पुनर्लेखन की जरूरत पर जोर दिया है। लागू संविधान को ब्रितानी हुकूमत के नियमों का रूपांतर करार देते हुए भाजपा नेता ने प्रकारांतर से इस मुद्दे पर राष्ट्रीय बहस की शुरूआत की। उनका कहना था कि यह संविधान भारत की मनीषा से न

सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो शुंगुलू समिति के आरोपों की जांच

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया     जिस भ्रष्टाचार के मामले में कांग्रेस के वरिष्ठ सांसद और महत्वपूर्ण पदाधिकारी रहे सुरेश कलमाड़ी जेल में बंद हैं तथा उसी आयोजन से जुड़े दिल्ली सरकार के भ्रष्टाचार को केंद्र सरकार की जांच कमेटी शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट में दोषी ठहराया गया है ..! इसलिए मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को तुरंत पद से हटाया जाना चाहिए  अन्यथा जांच हो ही नहीं सकेगी ..? हाल ही में उन्होंने जिस तरह से रिपोर्ट रद्द की यह स्थिति खुद ही बता रही है की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित सच सामनें नहीं आने देंगी..!! * शीला दीक्षित जितनी ही कोशिश कर रही हैं शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट को नकारने की वो इस जाल उतनी ही फंसती जा रही हैं. मुश्किल ये कि विपक्ष के साथ-साथ अब उनकी पार्टी से भी विरोध के सुर निकलने लगे हैं. कांग्रेस के दिल्ली प्रभारी वीरेंद्र सिंह चौधरी ने कहा है कि कमेटी की सिफारिशों पर आगे जांच होनी चाहिए. शुंगलू रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के लिए अपनी ही पार्टी के अंदर से मुश्किलें पैदा हो रही हैं. शीला दीक्षित शुंगलू कमेटी की रिपोर्ट को खारिज कर चुकी हैं लेकिन पार्टी के महासचिव वीरेंद्र सिंह च

वीर सावरकर

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया    भारतीय स्वतंत्रता के महान पुरोधा वीर विनायक दामोदर सावरकर की आज जयंती है , उन्हें शत शत नमन!   विनायक दामोदर सावरकर (२८ मई, १८८३ - २६ फरवरी, १९६६)  भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन के अग्रिम पंक्ति के सेनानी और प्रखर राष्ट्रवादी नेता थे। उन्हें प्रायः वीर सावरकर के नाम से सम्बोधित किया जाता है। हिन्दू राष्ट्र की राजनीतिक विचारधारा (हिन्दुत्व) को विकसित करने का बहुत बडा श्रेय सावरकर को जाता है। ये न केवल स्वाधीनता-संग्राम के एक तेजस्वी सेनानी थे अपितु महान क्रांतिकारी, चिंतक, सिद्धहस्त लेखक, कवि, ओजस्वी वक्ता तथा दूरदर्शी राजनेता भी थे। वे एक ऐसे इतिहासकार भी हैं जिन्होंने हिन्दू राष्ट्र की विजय के इतिहास को प्रमाणिक ढंग से लिपिबद्ध किया है। उन्होंने १८५७ के प्रथम स्वातंत्र्य समर का सनसनीखेज व खोजपूर्ण इतिहास लिख कर ब्रिटिश शासन को हिला डाला था। लिक्स..... http://hi.wikipedia.org

बिनायक सेन : भारतीय अदालतों में विदेशी षडयंत्रकारीयों को अनुमति क्यों ..?

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया       भारत  में कांग्रेस सरकार को यह अधिकार किसनें दे दिया कि वह देश को फिरसे विदेशी गुलामी में धकेले और व्यवस्था कि छिन्न भिन्न करावा कर, अपराधियों के हाथ में सत्ता  को परोक्ष सोंप दे ..!! आतंकवाद से लेकर नक्सलवाद तक यही हो रहा है !! हर बड़ा अपराधी देश का बाप हो जाता है , उसकी आवभगत दामाद कि तरह होनें लगाती है , यह क्या पाखंड है देश के साथ ..!!         जिस तरह अमरीका और उसके मित्र देशों नें सोवियत रूस के खिलाफ अफगानिस्तान में पाकिस्तान के माध्यम से तालिवान और आतंकवादियों को पैदा किया और फिर वे ही अब नासूर बन गए , येसा ही  कार्य पश्चिमी देशों के पाखंडी तत्व , नक्सलवादियों को समर्थन देकर कर रहे हैं , उनकी हाँ हजूरी में कांग्रेसियों और एनी कुछ लोगों का खड़ा होना दुर्भाग्यपूर्ण है !  यह बात बहुत पहले २००८ में ही स्पष्ट हो गई थी कि नक्सलवादियों को ईसाई मिशनरीज   का परोक्ष अपरोक्ष सहयोग है और इनमें भारत की सांस्कृतिक, सामाजिक  और राजनैतिक व्यवस्था को हथियानें का कोई करार है! यह तथ्य उड़ीसा में स्वामी लक्ष्मणानन्द  सरस्वती की हत्या के अवसर पर सामनें आई थी ! कुख्यात नक्सली

पाकिस्तान में रहनें वाले हिन्दुओं की दर्दनाक रिपोर्ट : इण्डिया टुडे

इमेज
इण्डिया टुडे के १ जून २०११ का अंक बाजार में आचुका है , इसमें पाकिस्तान में रहनें वाले हिन्दुओं की दर्दनाक रिपोर्ट छपी है , पढ़े  और महामहिम राष्ट्रपति महोदया और प्रधान मंत्री महोदय को पत्र लिखें , की वह हिन्दुओं के  मानव अधिकारों की रक्षा  के लिए कुछ करें ..! पूरी दुनिया में फैले हुए उन मानव अधिकारवादियों को भी आव्हान करें कि वे हिन्दुओं के साथ होनें वाले मानव अधिकार उलंघन को भी देखें ..!

सावधान भारत ...पाक परमाणु बम आतंकवादियों के हाथ में ....

इमेज
* अरविन्द सिसोदिया  - सावधान भारत ...पाक परमाणु बम आतंकवादियों के हाथ में .... - संयक्त राष्ट्र संघ पाकिस्तान के परमाणु हथियारों को अपने कब्जे में ले पाकिस्तान में परमाणु बम भी आतंकवादियों के कब्जे में जा सकते हैं ,क्यों कि पाकिस्तान के मेहरान  नौसेना के  एयरबेस पर पर जहाँ  हमला कर कब्जे में लिया गया था उससे मात्र २४ किलोमीटर दूर पर पाकिस्तान का परमाणु जखीरा मौजूद था | यदि हमलावरों ने इस जखीरे पर कब्ज़ा कर लिया होता तो क्या होता ...! यह तो तय हो गया कि अब पाकिस्तान असुरक्षित राष्ट्र हो गया है , उसके परमाणु बम और अन्य हथियार सुरक्षित नहीं है ! ये किसी भी वक्त आतंकवादियों के हाथ में जा कर मानवता कि तवाही मचा सकते हैं ..!! संयक्त राष्ट्र संघ पाकिस्तान के परमाणु हथियारों को अपने कब्जे में ले . यही अच्छा होगा ! भारत कि विश्व स्तर पर इस तरह कि सक्रिय पहल करनी चाहिए, क्यों कि इस तरह के हालत उत्पन्न होनें पर भारत को ही सबसे ज्यादा तवाही झेलनी पड़ सकती है |     आतंकवादियों पर, सुरक्षाबलों को काबू पानें में पसीनें छुट गए हैं ..!  इस में पाकिस्तानी सेना के 10 जवान मारे गए, जबकि 15 घायल हो गए।

तकरार से शिरुआत यूपीए २ के तीसरे साल की ...

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  यूपीए २ के दो साल पूरे होनें और तीसरी साल शिरू होनें के अवसर पर , दो बड़े घटकों के मुखिया जश्न में शामिल नहीं हुए | यूपीए की सरकार में कांग्रेस के साथ जो दो सबसे बड़े घटक हैं वे हैं ममता बनर्जी उनकी पार्टी पर १९ संसद हैं , दुसरे हैं द्रुमुक जो १८ सांसदों के साथ है | अब ये दिनों नाराज हैं .., मगर सबक नहीं सिखा सकते .., क्यों कि मुलायम और मायावती कांग्रेस को समर्थन देनें , सर्कार में शामिल होनें तैय्यार बैठे हैं ..| क्योंकि दोनों आय से अधिक संम्पत्ति के मामलों में फंसे हुए है और कांग्रेस ने ही सी बी आई के द्वारा डोर को अभी ढील देने के इशारे के कारण, मामला सुस्ती में है | ममता इसलिए नाराज है कि उसके शपथ ग्रहण समारोह में सोनिया नहीं पहुची , करुनानोधी इसलिए नाराज हैं क्वात्रोच्ची बचाया जा सकता है तो उनकी बेटी भी बचाई जा सकती थी , कांग्रेस सोची समझी साजिस के तहत ही उन्हें फंसा रही है ! इन कारणों से दोनों प्रमुख घटक दलों के मुख्यों कि जगह उनके प्रतिनिधि ही प्रधान मंत्री  के द्वारा दी गई पार्टी में पहुचे | --- 

मुकेश अंबानी का 27 मंजिलों वाला नया घर : स्वतंत्रता का अनर्थ ही कहा जाएगा

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया    क्या भारत के गरीवों के मुह पर यह तमांचा  नहीं है की मुकेश अंबानी या अन्य कोई इतनें बड़े मकानों में रहे की वह अन्य नागरिकों की भावनाओं को अपमानित करे ..? समता के संवैधानिक मूल अधिकार पर आघात करे .., भारत सरकार तय करे की एक नागरिक को अधिकतम कितना स्थान आवास हेतु चाहिए ..? १००० वर्ग फुट, १५०० या २००० वर्ग फुट ...अनाप सनाप क्यों ..असीमित क्यों.! यह स्वतंत्रता का अनर्थ ही कहा जाएगा !! -------  मुकेश अंबानी का 27 मंजिलों वाला नया घर , एक चॅनल के अनुसार २० लाख वर्ग फीट में बनें इस बंगले में , ४ मंजिल गार्डन और ६ मंजिला पार्किंग , ५ सदस्यीय परिवार के लिए बनें इस महल में ६०० कर्मचारी साफ़ सफाई के लिए है | ७० लाख रूपये बिजली का बिल है | सुख-सुविधा इतनीं  की फाइव और इससे अधिक सितारा वाले  होटल भी कहीं नहीं लगते ..!! क्या यह एसो आराम , हराम नहीं है ..!! ------- दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष मुकेश अंबानी का 27 मंजिलों वाला नया घर दुनिया का सबसे महंगा घर है।प्रतिष्ठित पत्रिका ‘फोर्ब्स’ के मुताबिक अंबानी परिवार की इस माह अपने नए घर ‘अंतिल

मदद का राजनीतिकरण

इमेज
भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने हाल ही में ग्रेटर नोएडा के भट्टा परसौल में हुई हिंसा में गंभीर रूप से ज़ख्मी हुए लोगों को 50 हज़ार रुपए और मामूली रूप से ज़ख्मी हुए लोगों को 10 हज़ार रुपए की वित्तीय मदद देने का ऐलान किया है. २२ मई २०११ / रविवार को प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ़ से जारी बयान में इसकी सूचना दी गई है कि उत्तर प्रदेश के भट्टा परसौल और गौतम बुद्ध नगर ज़िले के अन्य इलाक़ों के ज़ख्मी किसानों और उनके परिवार के सदस्यों को ये वित्तीय मदद दी जाएगी.       उत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा किए गए भूमि अधिग्रहण के एवज़ में ज़्यादा मुआवज़े की मांग कर रहे किसानों के हिंसक होने पर उत्तर प्रदेश पुलिस ने कथित तौर पर उनकी पिटाई की थी.इस हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई थी जबकि ज़िला कलक्टर और वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ज़ख्मी हो गए थे. पिछले हफ़्ते कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी के किसानों के समर्थन में भट्टा परसौल पहुंचने और पीड़ित किसानों के परिजनों के साथ पूरा दिन बिताने पर ये एक बड़ा राजनीतिक मुद्दा बन गया था.इसके बाद माहौल बिगड़ने की आशंका को देखते हुए पुलिस ने राहुल गांधी को

यूपीए २ .......दो साल .. भूल गया सब कुछ .. याद रही मंहगाई .....

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  यूपीए २  .......दो साल ..  भूल गया सब कुछ .. याद रही मंहगाई .....  .......पिछले काफी समय से आम जनता मांहगाई से परेशान है, काफी धरने और हा-हा-कर कर के भी देख लिया सबने, लेकिन यूपीये सरकार के कानो पर जूं तक नहीं रैंगी। प्रधानमंत्री जी ने भी जनता को कह दिया कि वो इस बारे में चर्चा करेंग और कहे मुताबिक उन्होंने मांहगाई के मुद्दे पर काफी विचार-विमर्श भी किया। अब आप सोच रहे होंग की भाई उन्होंने तो ठीक ही किया है, जनता कि परेशानी को समझा और उस पर विचार भी किया। भाई वो तो बहुत अच्छे प्रधानमंत्री है, लेकिन मुझे ये समझाए कि सिर्फ चर्चा करने भर से ही परेशानी का हल थोड़ी निकल आता है। प्रधानमंत्री साहब के सामने जब भी कोई समस्या रखता है तो वो उस समस्या पर अपने सभी ज्ञानी मंत्रियों के साथ बैठ कर चर्चा करते है। चाय पकोड़े खाते है, यूपीए सरकार के मंत्रियों को बस चाय-पकोड़े खाने में ही दो-चार घंटों का समय लग जाता है और चाय-पकोड़े खाने में ही चर्चा का सार समय खत्म हो जाता है। तभी तो चर्चा करने के बाद भी प्रधानमंत्री साहब के

कांग्रेस ने ७ प्रतिशत वोटर गँवा दिए

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  यूपीए २ की दूसरी वर्ष गाँठ पर स्टार न्यूज चॅनल के लिए नीलसन कंपनी द्वारा किये गए सर्वेक्षण में पता चला है की कांग्रेस ने इन दो वर्षों में अपने ७ प्रतिशत वोटर गँवा दिए हैं..! २८ शहरों के ९ हजार नागरिकों में से २००९ में ३७ प्रतिशत ने कांग्रेस को वोट दिया था , अब उन्ही से ३० प्रतिशत वोट प्राप्त हुआ है | खबर के अनुसार २३ प्रतिशत लोग भाजपा को वोट कर रहे हैं | यह खबर विस्तार से राष्ट्रदूत के अंक में आज २२ मई २०११ के अंक में प्रकाशित हुई है |   इसकी मुख्य वजह वे हताशा मूल्यवृद्धि और २ जी स्पेक्ट्रम सहित भ्रष्टाचार है | इस रायसुमारी में बहुमत ने महसूस किया है कि नक्सल समस्या , कानून व्यवस्था , रोजगार , लोगों के आर्थिक हालत और भारत-पाक संम्बन्धों में कोई कार्यवाही नहीं हुई है | यह आम राय है कि खाद्ध एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं के मूल्यों पर नियंत्रण न रखपाना सबसे बड़ी विफलता है |  

रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के ख़ज़ाने में नक़ली नोट ...

इमेज
मेंने यह खबर फेसबुक पर पड़ी है ..यदि यह सही है तो अत्यंत गंभर बात है ....., इसकी जांच सर्वोच्च न्यायलय की देखरेख में होनी चाहिए ..... ----- एक जानकारी जो पूरे देश से छुपा ली गई________, अगस्त 2010 में सीबीआई की टीम ने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के वाल्ट में छापा मारा. सीबीआई के अधिकारियों का दिमाग़ उस समय सन्न रह गया, जब उन्हें पता चला कि रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के ख़ज़ाने में नक़ली नोट हैं. रिज़र्व बैंक से मिले नक़ली नोट वही नोट थे, जिसे पाकिस्तान की खु़फिया एजेंसी नेपाल के रास्ते भारत भेज रही है. सवाल यह है कि भारत के रिजर्व बैंक में नक़ली नोट कहां से आए? क्या आईएसआई की पहुंच रिज़र्व बैंक की तिजोरी तक है या फिर कोई बहुत ही भयंकर साज़िश है, जो हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था को खोखला कर चुकी है. सीबीआई इस सनसनीखेज मामले की तहक़ीक़ात कर रही है. छह बैंक कर्मचारियों से सीबीआई ने पूछताछ भी की है. इतने महीने बीत जाने के बावजूद किसी को यह पता नहीं है कि जांच में क्या निकला? सीबीआई और वित्त मंत्रालय को देश को बताना चाहिए कि बैंक अधिकारियों ने जांच के दौरान क्या कहा? नक़ली नोटों के इस ख़तरनाक खेल पर

फिर जले आग में देश : जातीय जनगणना

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया    केंद्र सरकार ने जातीय जनगणना के आदेश देकर वह आग फिरसे लगादी है जो कभी मंडल आयोग के द्वारा प्रधान मंत्री वी पी सिंह के समय लगी गई थी |  अब यह होगा की जातीय जनगणना के आंकड़े आते ही मुलायम सिंह , लालू यादव , रामविलास पासवान देश में नये आरक्षण फार्मूले के नाम पर हुड़दंग करेंगे , चुनावी मुद्दों से भ्रष्टाचार , भुखमरी, स्विस बैंकों में जमा काला धन  और  महंगाई जैसे असली असली मुद्दे फिर से गायब हो जायेंगे और जातीय आरक्षण का नया मुद्दा सामनें आ जाएगा | देश भर में जनता आपस में मुर्गों की तरह लडेगी , राजनेता इस लडाई का आनंद उठाएंगे | कुल  मिला  कर  जातीय  जनगणना , जनता को आपस में मुर्गों की तरह लड़ने का खेल है ..!    ----- सागर जिले के बीना में भारत-ओमान रिफायनरी लिमिटेड के लोकार्पण समारोह में प्रधानमंत्री की मौजूदगी में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जातिगत जनगणना के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा , "जाति के आधार पर जनगणना हिन्दुस्तान में फिर से मत कराइए। महात्मा गांधी और पंडित जवाहर लाल नेहरू ने भी कहा था कि जातिगत भेदभाव ठीक नहीं है, सामाजिक

पाक - चीन गठजोड़ : सिर्फ बातों ही बातों से काम चला रही है भारत सरकार

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया       इन दिनों यूपीए २ कि कांग्रेस नेतृत्व भारत सरकार इतनी निकम्मी सरकार हो गई है  की वह अन्दर - बहार , दोनों तरफ पूरी तरह फैल है ! सिर्फ बातों ही बातों से काम चला रही है | अकर्मण्यता की यह स्थिति है कि वह चीन और पाकिस्तान से भी भयभीत है ! मनमोहन सिंह अफगानिस्तान में कहते हैं भारत, अमरीका जैसी कार्यवाही पाकिस्तान में आंतकीयों के खिलाफ नहीं कर सकता ..! यही हाल चीन के खिलाफ है वह भारतीय सीमा के अन्दर आकर पाकिस्तान के पक्ष में बहुत सारे निर्माण कर रहा है , भारत सरकार विरोध तक नहीं कर पा रही | यदि इतने निकम्मे नेता ही कुर्सियों  पर बैठे रहे तो देश का भविष्य अंधकार मय हो चुका  है| ========== समाचार .......        पाकिस्तान और चीन के बीच बढ़ते रक्षा संबंधों पर भारत ने गहरी चिंता जाहिर की है। भारत ने कहा है कि इस चुनौती का मुकाबला करने के लिए हमें अपनी क्षमता बढ़ानी होगी। तीनों सेनाओं के साझा कमांडर सम्मेलन को संबोधित करने के बाद रक्षा मंत्री ए.के.एंटनी ने कहा कि इस नई चुनौती का एक ही जवाब है क

कांग्रेस : भ्रष्टाचार की जय हो

- अरविन्द सिसोदिया     सवाल यह नहीं है की ए राजा किस पार्टी के हैं ..,सवाल यह है की उन्हें किसनें बनाया था और उनसे किसने इतना बड़ा भ्रष्टाचार करवाया ..! इसमें शक नहीं होना चाहिए की कांग्रेस में छोटी छोटी बातों का फैसला हाई  कमान उर्फ़ सोनिया गाँधी जी पर ही छोड़ा जाता है ..! चाहे मनमोहन सिंह जी हों या ए राजा हों .., नियुक्ति किसनें की ..उसकी पार्टी को ही ये अपयश जाएगा की भारत   सत्ता का दुरुपयोग कर व्यक्तिगत संपत्ति बनाने वाले शीर्ष-10 लोगों की सूची में दूसरे क्रम पर रखा है।     2जी स्पेक्ट्रम घोटाले में फंसे पूर्व दूरसंचार मंत्री ए राजा को अमेरिकी मैगजीन 'टाइम' ने सत्ता का दुरुपयोग कर व्यक्तिगत संपत्ति बनाने वाले शीर्ष-10 लोगों की सूची में दूसरे क्रम पर रखा है। मैगजीन के मुताबिक ए, राजा की वजह से भारत में सरकारी खजाने को अब तक की सबसे बड़ी चपत लगी है। टाइम मैगजीन की इस सूची में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन पहले क्रम पर हैं। चर्चित वाटरगेट कांड में महाभियोग झेल चुके निक्सन ने अपने विरोधियों के खिलाफ सत्ता का गलत इस्तेमाल किया था। लीबिया के तानाशाह मुअम्मर गद्दा

कांग्रेस सरकार : देश की इज्जत की कोई चिता है..?

- अरविन्द सिसोदिया  इस समय कांग्रेस सरकार चलाना भूल गई है .., उसके सरकारी कामकाज देश को अन्दर तो लम्बे समय से ही विफलता की इबारत लिख रहे हैं ..मगर अब उसने विदेश स्तर पर भी देश की नाक कटाना शिरू  कर दिया है ..! पाकिस्तान को सोंपी गई मोस्ट वांटेड सूची को न तो अपडेट किया गया न ही पुनर्निरीक्षण  की जरुरत समझी गई | उस सूची में से दो मोस्ट वांटेड ठाणें और मुम्बई में ही निकल आये  | तारीख  निकला वारंट लेकर  सीबीआई की टीम पुरुलिया मामले के मास्टर माइंड किम डेवी के प्रत्यर्पण के लिए डेनमार्क के कोपनहेगन जा पहुंची,  सीबीआई के पास डेवी की गिरफ्तारी के लिए जो वॉरंट था, उसकी समय सीमा पहले ही खत्म हो चुकी थी।  ------- पाकिस्तान को सौंपी गई भारत के 50 ‘मोस्ट वांटेड’ भगोड़ों की सूची का एक अपराधी मुंबई की आर्थर रोड जेल में है। इस खुलासे होने के बाद सीबीआई ने एक इंस्पेक्टर को निलंबित कर दिया है और एक एसपी व एक डीएसपी स्तर के अधिकारी का तबादला कर दिया है। भारत की पाकिस्तान को सौंपी गई ‘मोस्ट वांटेड’ सूची में 24वें स्थान पर फिरोज अब्दुल खान उर्फ हमजा (51) का नाम है, जो 1993 के मुंबई ब्लास्ट मामले का आ

कोटा में सृष्टि के प्रथम पत्रकार देवर्षि नारद मुनि की जयंती उत्साह पूर्वक मनाई गई

इमेज
नारद जी सृष्टि के प्रथम पत्रकार थे  नारद से आज के मिडिया जगत को अप्रभावित   रहना सिखाना चाहिए |  हम अपनी सांस्कृतिक पहचान को अधिक मुखर करें      सदैव सत्य कहना,सत्य के मार्ग पर चलना , सत्य को जीवन में धारण करना और जीवन को सत्य के अनंत आकाश में विचरण करनें के लिए आजाद पंछी की भांति छोड़   देना , ये वो गुण हैं , जो देवर्षि मुनि नारद ने समाज को सिखलाये |            कोटा १९ मई | राष्ट्र चेतना अभियान समिति , कोटा महानगर के तत्वाधान में,गुरुवार  सांयकाल ६ बजे , मानव विकास भवन , कोटा में एक विचार गोष्ठी आयोजित कर सृष्टि के प्रथम पत्रकार देवर्षि नारद मुनि की जयंती उत्साह पूर्वक मनाई गई | उन्हें भावभीनी  आदरांजलि अर्पित करते हुए धर्म के प्रवक्ता , देवताओं के संवाददाता,  प्रथम पत्रकार और लोक - कल्याण को समर्पित देव व्यक्तित्व के रूप में चित्रित किया गया |        गोष्ठी के मुख्यवक्ता अरविन्द सिसोदिया ने आदि काल के पत्रकार देवर्षि नारद जी से जुड़े अनेक प्रशंगों को सुनते हुए उनकी  विविध गुणवत्ताओं तथा बहुआयामी व्यक्तित्व  पर प्रकाश डाला |  उनके जीवन को आधुनिक संदर्भों के लिए नए ढंग से श