पोस्ट

मार्च, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भाजपा : दुनिया की नंबर वन पार्टी राजनीति बनी

इमेज
राजनीति के मैदान में दुनिया की नंबर वन पार्टी बनी BJP Mar 30 2015 नई दिल्ली (एसएनएन): भारतीय जनता पार्टी यानी बीजेपी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है. सदस्यों के मामले में बीजेपी ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को पीछे छोड़ते हुए यह उपलब्धि हासिल की है. चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के जहां अब 8.4 करोड़ सदस्य हैं तो वहीं बीजेपी के सदस्यों की संख्या 8 करोड़ 79 लाख हो गई है. पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद अमित शाह ने सदस्यों की संख्या बढ़ाने के लिए अभियान चलाने का फैसला किया था. पीएम नरेंद्र मोदी ने एक नवंबर, 2014 को नई दिल्ली में सदस्यता अभियान का शुभारंभ किया. उसी वक्त शाह ने यह घोषणा की थी कि वे बीजेपी को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बनाना चाहते हैं. इसके लिए 10 करोड़ सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा गया था. इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए पार्टी का सदस्यता अभियान अभी भी जारी है. पार्टी सूत्रों के अनुसार, एक अप्रैल के बाद भी सदस्यता अभियान जारी रहेगा. इसके जरिये बीजेपी 10 करोड़ सदस्य बनाने का लक्ष्य हासिल करने का प्रयास करेगी. आपको बता दें कि इस समय चीन में भी कम्युनिस्ट पार्टी

आतंक के संदर्भ में श्रीराम की प्रासंगिकता - प्रमोद भार्गव

इमेज
आतंक के संदर्भ में श्रीराम की प्रासंगिकता - प्रमोद भार्गव (28 मार्च, श्रीरामनवमी पर प्रासंगिक लेख) दुनिया में बढ़ रहे आतंकवाद को लेकर अब जरूरी हो गया है कि इनके समूल विनाश के लिए भगवान श्री राम जैसी सांगठनिक शक्ति और दृढ़ता दिखाई जाए। आतंकवादियों की मंशा दहशत के जरिए दुनिया को इस्लाम धर्म के बहाने एक रूप में ढालने की है। जाहिर है, इससे निपटने के लिए दुनिया के आतंक से पीड़ित देशों में परस्पर समन्वय और आतंकवादियों से संघर्ष के लिए भगवान राम जैसी दृढ़ इच्छा शक्ति की जरुरत है। - प्रमोद भार्गव दुनिया के शासकों अथवा महानायकों में भगवान राम ही एक ऐसे अकेले योद्धा हैं, जिन्होंने आतंकवाद के समूल विनाश के लिए एक ओर जहां आतंक से पीड़ित मानवता को संगठित  किया, वहीं आतंकी स्त्री हो अथवा पुरुष किसी के भी प्रति उदारता नहीं बरती। अपनी इसी रणनीति और दृढ़ता के चलते ही राम त्रेतायुग में भारत को राक्षसी  या आतंकी शक्तियों से मुक्ति दिलाने में सफल हो पाए। उनकी आतंकवाद पर विजय ही इस बात की पर्याय रही कि सामूहिक जातीय चेतना से प्रगट राष्ट्रीय भावना ने इस महापुरुष का दैवीय मूल्यांकन किया और भगवान विष्णु के अव

संगठन के कार्यकर्ताओं को श्रीराम-चरित से सन्देश

इमेज
संगठन के कार्यकर्ताओं को श्रीराम-चरित से सन्देश'  - राघवलु, संयुक्त महामंत्री, विहिंप राम शब्द में तीन बीजाक्षर है- ‘र’कार, ‘अ’कार, और ‘म’कार| ‘र’ अग्नि बीज है, ‘अ’ आदित्य बीज है, ‘म’ चंद्र बीज है| सृष्टि में अग्नि, सूर्य और चंद्रमा यह तीन ही प्रकाश देनेवाले है| ये तीन एक राम शब्द में समाविष्ट है| यदि हम एक बार मनसे राम कहेंगे तो शरीर के अंदर प्रकाश उत्पन्न होता है| कोटी-कोटी बार राम जप करनेसे ही शबरी सशरीर स्वर्ग पहुँची, हनुमान देवता स्वरूप बने और वाल्मीकि ऋषी बनें| इतना सामर्थ्य है राम शब्द में| श्रीराम का आदर्श जीवन त्रेतायुग में बहुत आतंकवाद फैला था| उस समय ऋषि-मुनियों की हत्या करना, यज्ञ-याग आदि का विध्वंस करना, कन्या-अपहरण, अपनी राज्य सत्ता के लिए समाज में पूरा आतंक निर्माण करना, ऐसी उस समय की परिस्थिति रही| इस पृष्ठभूमि में श्रीराम एक आदर्श राजा एवं सामान्य मानव के रूप में कैसे जीवन चलाएँ, यह उनके जीवन से हमें सीखना हैं| स्थितप्रज्ञ राम श्रीराम को राज्याभिषेक की जानकारी मिली, उसके बाद दो घंटे के अंदर कोपगृह में बुलाकर १४ वर्ष जंगल जाने के लिए आज्ञा मिली| लेकिन दोनों

रामनवमी : मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की शोभायात्रा

इमेज
राम धुन के साथ उमड़ा आस्था का सैलाब By Prabhat Khabar | Publish Date: Mar 29 2015 मर्यादा पुरुषोतम श्रीराम की निकली शोभायात्रा, झांकियों ने मन मोहा, भक्तों ने दिखाया उत्साह श्रृंगार समिति ने किया उपायुक्त का स्वागत रांची : डोरंडा में रामनवमी की शोभायात्रा का श्रृंगार समिति व सेंट्रल मुहर्रम कमेटी की ओर से स्वागत किया गया. इस दौरान उपायुक्त मनोज कुमार, एसएसपी प्रभात कुमार, सिटी एसपी डॉ जया राय सहित विभिन्न पूजा समिति के सदस्यों को पगड़ी पहना कर सम्मानित किया गया और स्मृति चिह्न प्रदान किया गया. श्रृंगार समिति की ओर से राधे श्याम विजय, आलोक दूबे, राम लाल व अनिल विजय सहित अन्य पदाधिकारी शामिल थे. उधर, सेंट्रल मुहर्रम कमेटी के अध्यक्ष अशरफ अंसारी व मुमताज गद्दी की ओर से भी उनका स्वागत किया गया था. इसमें कई अन्य पदाधिकारी व सदस्य उपस्थित थे. रांची: मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान राम की शोभायात्रा में शनिवार को श्री राम भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी. शोभायात्रा में भीड़ का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि मुख्य जुलूस श्री राम जानकी मंदिर तपोवन में था, तो उसका अंतिम भाग शहीद चौक में था. इसके

राम नवमी : मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम

इमेज
राम नवमी श्री राम मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम : भारत डिस्कवरी प्रस्तुति http://hi.bharatdiscovery.org/india मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम हिन्दू धर्म में विष्णु के 10 अवतारों में से एक हैं। राम का जीवनकाल एवं पराक्रम, महर्षि वाल्मिकि द्वारा रचित, संस्कृत महाकाव्य रामायण के रूप में लिखा गया है। उनके उपर तुलसीदास ने भक्ति काव्य श्री रामचरितमानस रचा था। ख़ास तौर पर उत्तर भारत में राम बहुत अधिक पूज्यनीय माने जाते हैं। रामचन्द्र हिन्दुत्ववादियों के भी आदर्श पुरुष हैं। राम, अयोध्या के राजा दशरथ और रानी कौशल्या के सबसे बड़े पुत्र थे। राम की पत्नी का नाम सीता था (जो लक्ष्मी का अवतार मानी जाती है) और इनके तीन भाई थे, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न। हनुमान, भगवान राम के, सबसे बड़े भक्त माने जाते हैं। राम ने राक्षस जाति के राजा रावण का वध किया।  मर्यादा पुरुषोत्तम अनेक विद्वानों ने उन्हें 'मर्यादापुरुषोत्तम' की संज्ञा दी है। वाल्मीकि रामायण तथा पुराणादि ग्रंथों के अनुसार वे आज से कई लाख वर्ष पहले त्रेता युग में हुए थे। पाश्चात्य विद्वान उनका समय ईसा से कुछ ही हज़ार वर्ष पूर्व मान

अटलजी : 'भारत रत्न'

इमेज
                                             अटलजी का जीवन परिचय http://hindi.webdunia.com   धूल और धुएँ की बस्ती में पले एक साधारण अध्यापक के पुत्र श्री अटलबिहारी वाजपेयी दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के प्रधानमंत्री बने। उनका जन्म 25 दिसंबर 1925 को हुआ। अपनी प्रतिभा, नेतृत्व क्षमता और लोकप्रियता के कारण वे चार दशकों से भी अधिक समय से भारतीय संसद के सांसद रहे। उनमें मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की संकल्पशक्ति, भगवान श्रीकृष्ण की राजनीतिक कुशलता और आचार्य चाणक्य की निश्चयात्मिका बुद्धि है। वे अपने जीवन का क्षण-क्षण और शरीर का कण-कण राष्ट्रसेवा के यज्ञ में अर्पित कर रहे हैं। उनका तो उद्‍घोष है - हम जिएँगे तो देश के लिए, मरेंगे तो देश के‍ लिए। इस पावन धरती का कंकर-कंकर शंकर है, बिन्दु-बिन्दु गंगाजल है। भारत के लिए हँसते-हँसते प्राण न्योछावर करने में गौरव और गर्व का अनुभव करूँगा।' प्रधानमंत्री अटलजी ने पोखरण में अणु-परीक्षण करके संसार को भारत की शक्ति का एहसास करा दिया। कारगिल युद्ध में पाकिस्तान के छक्के छुड़ाने वाले तथा उसे पराजित करने वाले भारतीय सैनिकों का मनोबल

अटल बिहारी वाजपेयी : रग रग हिंदू मेरा परिचय

इमेज
मेरा परिचय - अटल बिहारी वाजपेयी *** हिंदू तन मन, हिंदू जीवन, रग रग हिंदू मेरा परिचय॥ मै शंकर का वह क्रोधानल, कर सकता जगती क्षार-क्षार डमरू की वह प्रलयध्वनि हूं, जिसमें नाचता भीषण संहार रणचंडी की अतृप्त प्यास, मैं दुर्गा का उन्मत्त हास मै यम की प्रलयंकर पुकार, जलते मरघट का धुंआधार फिर अंतरतम की ज्वाला से जगती में आग लगा दूं मैं यदि धधक उठे जल थल अंबर, जड चेतन तो कैसा विस्मय हिंदू तन मन, हिंदू जीवन, रग रग हिंदू मेरा परिचय॥ मै आज पुरुष निर्भयता का वरदान लिए आया भू पर पय पीकर सब मरते आए, मैं अमर हुआ लो विष पीकर अधरों की प्यास बुझाई है, मैंने पीकर वह आग प्रखर हो जाती दुनिया भस्मसात, जिसको पल भर में ही छूकर भय से व्याकुल फिर दुनिया ने प्रारंभ किया मेरा पूजन मै नर नारायण नीलकण्ठ बन गया, न इसमें कुछ संशय हिंदू तन मन, हिंदू जीवन, रग रग हिंदू मेरा परिचय॥ मै अखिल विश्व का गुरु महान, देता विद्या का अमर दान मैने दिखलाया मुक्तिमार्ग, मैंने सिखलाया ब्रह्म ज्ञान मेरे वेदों का ज्ञान अमर, मेरे वेदों की ज्योति प्रखर मानव के मन का अंधकार, क्या कभी सामने सका ठहर मेरा स्वर्णाभा म

भाजपा : 31 मार्च के बाद विश्व में सबसे बड़ी पार्टी

इमेज
संगठनात्मक गतिविधियां: सदस्यता महाभियान 31 मार्च के बाद विश्व में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरेगी भाजपा: दिनेश शर्मा भाजपा राष्टन्न्ीय उपाध्यक्ष श्री दिनेश शर्मा उत्तर प्रदेश से सम्बह् हैं और वे उत्तर प्रदेश की राजध्ाानी के महापौर है। वे भाजपा सदस्यता अभियान के राष्टन्न्ीय संयोजक भी है। ‘कमल संदेश’ के सम्पादकीय मंडल सदस्य राम प्रसाद त्रिपाठी से हुई बातचीत में उन्होंने सदस्यता अभियान को अत्यध्ािक सफल बताते हुए संगठन की उपलब्ध्ाियां सामने रखीं। उन्होंने निकट भविष्य में संगठन की महत्वाकांक्षी योजनाओं का भी उल्लेख किया और इसकी सफलताओं पर विश्वास व्यक्त करते हुए कहा कि 31 मार्च के बाद भाजपा विश्व की सबसे बड़ी राजनैतिक पार्टी उभर कर आएगी। प्रस्तुत है मुख्य अंश: लोकसभा की ऐतिहासिक विजय और राज्य विध्ाानसभा के चुनावों में उसकी ऐतिहासिक जीत के बाद भाजपा ने राष्टन्न्व्यापी सदस्यता अभियान शुरू किया है, जिसमें कम से कम 10 करोड़ नए सदस्य बनाने की योजना है। किन्तु पार्टी इस लक्ष्य को कैसे प्राप्त कर पाएगी और इसका तंत्र क्या है? पार्टी संगठन को मजबू

गाँव से बात : नरेन्द्र मोदी , प्रधानमंत्री

इमेज
Text of PM’s Mann Ki Baat with Farmers March 22, 2015 http://www.narendramodi.in/text-of-pms-mann-ki-baat-with-farmers/ मेरे प्यारे किसान भाइयो और बहनो, आप सबको नमस्कार! ये मेरा सौभाग्य है कि आज मुझे देश के दूर सुदूर गाँव में रहने वाले मेरे किसान भाइयों और बहनों से बात करने का अवसर मिला है। और जब मैं किसान से बात करता हूँ तो एक प्रकार से मैं गाँव से बात करता हूँ, गाँव वालों से बात करता हूँ, खेत मजदूर से भी बात कर रहा हूँ। उन खेत में काम करने वाली माताओं बहनों से भी बात कर रहा हूँ। और इस अर्थ में मैं कहूं तो अब तक की मेरी सभी मन की बातें जो हुई हैं, उससे शायद एक कुछ एक अलग प्रकार का अनुभव है। जब मैंने किसानों के साथ मन की बात करने के लिए सोचा, तो मुझे कल्पना नहीं थी कि दूर दूर गावों में बसने वाले लोग मुझे इतने सारे सवाल पूछेंगे, इतनी सारी जानकारियां देंगे, आपके ढेर सारे पत्र, ढेर सारे सवाल, ये देखकर के मैं हैरान हो गया। आप कितने जागरूक हैं, आप कितने सक्रिय हैं, और शायद आप तड़पते हैं कि कोई आपको सुने। मैं सबसे पहले आपको प्रणाम करता हूँ कि आपकी चिट्ठियाँ पढ़कर के उसमें दर्द

त्रिकालज्ञ संत मावजी महाराज : - डॉ. दीपक आचार्य

इमेज
मावजी महाराज के चौपड़े को अब हिन्दी में पढ़ पाएंगे   Bhaskar News Network    Sep 03, 2014 लिंक http://www.bhaskar.com तीन नदियों के संगम पर स्थित प्रसिद्ध श्रद्धास्थल बेणेश्वरधाम के पहले महंत और भविष्यवक्ता के रूप में पहचाने जाने वाले मावजी महाराज के चौपड़े को अब आम श्रद्धालु हिन्दी और अंग्रेजी में पढ़ पाएंगे। एक साल के प्रयासों के बाद धाम के महंत अच्युतानंद महाराज के सानिध्य में फाउंडेशन के विद्वानों ने अनुवाद का काम पूरा कर लिया है। लगभग 600 पेज के अनुवाद को 200-200 पेजों के तीन खंड में विभाजित कर आम श्रद्धालुओं के सामने इस चौपड़े को रखा जाएगा। पिछली राज्य सरकार ने मावजी महाराज के चौपड़े का हिन्दी और अंग्रेजी अनुवाद करने के लिए जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग से 43.50 लाख रुपए की वित्तीय सहायता स्वीकृत कराई थी। इसके बाद इस कार्य को टीआरई (ट्राइबल रिसर्च इंस्टीट़्यूट) और मावजी फाउंडेशन के माध्यम से पूरा करने का जिम्मा दिया गया था। अनुवाद के लिए बनाई समिति के संरक्षक और मार्गदर्शक महंत अच्युतानंद महाराज रहे हैं। इस काम की पहल तत्कालीन मंत्री महेंद्रजीतसिंह मालवीया और प्रमुख शा