पोस्ट

जून, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

प्याज की जमाखोरी पर शिकंजा कसें राज्य सरकारें : केंद्र सरकार

इमेज
प्याज की खुदरा जमाखोरी पर शिकंजा कसें राज्य : केंद्र Monday,Jun 30,2014 नई दिल्ली। प्याज के थोक व खुदरा मूल्यों में भारी अंतर से हैरान केंद्र सरकार ने राज्यों से खुदरा व्यापारियों की जमाखोरी के खिलाफ अभियान चलाकर सख्त कार्रंवाई करने को कहा है। केंद्रीय उपभोक्ता मामले मंत्रालय ने महंगाई के खिलाफ राज्यों के उठाए कदमों को नाकाफी व असंतोषजनक बताया है। इसके लिए राज्यों को एक और पत्र लिखकर प्याज की जमाखोरी व कालाबाजारी करने वाले थोक व खुदरा व्यापारियों के विरुद्ध कार्रवाई करने को कहा जाएगा। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की थोक मंडियों में प्याज के थोक मूल्य 18 रुपये किलो हैं तो खुदरा में यही प्याज 25 से 30 रुपये किलो बिक रहा है। थोक व खुदरा मूल्यों के अंतर को लेकर केंद्र सरकार बेहद गंभीर है। उपभोक्ता मामले मंत्रालय के सचिव केशव देसीराजू ने कहा, पर्याप्त स्टॉक होने के बावजूद कीमतों में होने वाली वृद्धि की कोई वजह नहीं है। प्याज की दैनिक आपूर्ति कहीं भी बाधित नहीं है। मंडियों में प्याज की कीमतों पर सरकार की कड़ी नजर है। देसीराजू के मुताबिक, इसीलिए राज्य सरकारों से महंगाई बढ़ाने वाले कारकों

राज्यपाल एम के नारायणन ने दिया इस्तीफा

इमेज
पश्चिम बंगाल के राज्यपाल एमके नारायणन ने दिया इस्तीफा Monday, 30 June 2014 नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल एम. के. नारायणन ने आज इस्तीफा दे दिया। राजग सरकार के गठन के बाद संप्रग सरकार के समय नियुक्त कुछ राज्यपालों को हटाए जाने का दबाव बनने के पश्चात वह इस्तीफा देने वाले चौथे राज्यपाल हैं। गृह मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि नारायणन ने राज्यपाल पद से इस्तीफा दे दिया है। सीबीआई ने हाल ही में नारायणन से बतौर ‘गवाह’ के रूप में अगस्तावेस्टलैंड वीवीआईपी हेलिकॉप्टर सौदे के बारे में पूछताछ की है। नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नयी राजग सरकार बनने के बाद केंद्रीय गृह सचिव अनिल गोस्वामी ने कुछ सप्ताह पहले ऐसे कुछ राज्यपालों को फोन करके इस्तीफा देने को कहा था, जिनकी नियुक्तियां संप्रग शासन में हुई थीं। पिछले कुछ दिनों में नगालैंड के राज्यपाल अश्विनी कुमार, उत्तर प्रदेश के बी. एल.जोशी और छत्तीसगढ़ के शेखर दत्त इस्तीफा दे चुके हैं। पूर्व आईपीएस अधिकारी नारायणन खुफिया ब्यूरो के निदेशक और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रह चुके हैं। उन्हें जनवरी 2010 में पश्चिम बंगाल का राज्यपाल बनाया गया था। र

'डिजिटल इंडिया विजन एक-दूसरे से जुड़े 125 करोड़ भारतीयों की शक्ति है - मोदी

इमेज
 फिल्म 'ग्रैविटी' से भी सस्ता है भारत का मंगल मिशन: मोदी एजेंसियां | Jun 30, 2014, श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश) पीएसएलवी सी-23 के जरिए चार देशों के पांच सैटलाइटों के अंतरिक्ष में सफल प्रक्षेपण पर इसरो के वैज्ञानिकों को बधाई देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह हर भारतीय के लिए आनंदित और गौरवान्वित होने का क्षण है। प्रक्षेपण के दौरान श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र में मौजूद पीएम ने कहा कि विदेशी सैटलाइटों के प्रक्षेपण से अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारतीय क्षमता की वैश्विक पुष्टि हुई है। उन्होंने अंतरिक्ष वैज्ञानिकों से एक सार्क सैटलाइट विकसित करने की अपील की। अमूमन हिन्दी में बोलने वाले मोदी ने यहां अंग्रेजी में भाषण देते हुए भारतीय स्पेस टेक्नॉलजी के सस्ता और विश्वसनीय होने का उल्लेख विशेष तौर पर किया। उन्होंने कहा कि हमारा मंगल मिशन हॉलिवुड की फिल्म 'ग्रैविटी' से सस्ता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि हमें गर्व है कि हमारा कार्यक्रम स्वदेशी है। वैज्ञानिकों की पीढ़ियों ने भारत को आत्मनिर्भर अंतरिक्ष शक्ति बनाने के लिए बहु त काम किया

मोदी सरकार ने, काला धन वापस लाने की मुहिम तेज की

इमेज
http://www.amarujala.com मोदी सरकार की , काला धन वापस लाने की मुहिम तेज स्विट्जरलैंड के बैंकों में जमा काले धन की वापसी के लिए केंद्र सरकार एक बार फिर से सक्रिय हो गई है। काले धन के खिलाफ अपने अभियान को तेज करते हुए केंद्र सरकार ने स्विट्जरलैंड की सरकार से वहां के बैंकों में भारतीयों के जमा धन के बारे में जानकारी मांगी है। ताजा अनुरोध वित्त मंत्रालय की ओर से किया गया है। ऐसा स्विट्जरलैंड सरकार की ओर से काले धन के मामले में भारत सरकार के साथ हर तरह के सहयोग की बात दोहराने के बाद किया गया। -------------- केंद्र ने लिखी चिट्ठी वित्त मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, "इस संबंध में स्विट्जरलैंड की सरकार को चिट्ठी लिखकर जानकारी मांगी गई है।" पत्र में द्विपक्षीय समझौतों और अंतरराष्ट्रीय प्रोटोकॉल का हवाला देते हुए भारत सरकार ने स्विस सरकार से वहां के बैंकों में काला धन जमा करने वाले अपने नागरिकों के नाम और अन्य जानकारियां उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है। इस मामले में खुद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा था, "विदेश में जमा काले धन को भारत लाने के लिए सरकार ग

पीएम मोदी के फरमान से अफसरों में मची खलबली

इमेज
पीएम मोदी के फरमान से अफसरों में मची खलबली सुजय मेहदूदिया रविवार, 29 जून 2014 अमर उजाला, दिल्‍ली पीएम मोदी का नया फरमान मोदी सरकार ने यूपीए सरकार के दौरान सुस्त और गैर जवाबदेह हो चुकी नौकरशाही को झकझोर कर रख दिया है। सत्ता में परिवर्तन और नरेंद्र मोदी सरकार के कार्यभार संभालते ही ऊंघ रही नौकरशाही को जिम्मेदार और जवाबदेह बनाने की कवायद शुरू हो गई है। नौकरशाहों को उनके काम के प्रति जिम्मेदार बनाने के लिए मोदी सरकार ने आला सचिवों के लिए फाइलों को निपटाने के साथ ही कैबिनेट से जुड़े नोट और अंतर मंत्रालय विचार-विमर्श के लिए डेडलाइन तय करने का फैसला किया है। इतना ही नहीं प्रधानमंत्री कार्यालय ने खुद इस दिशा में मिसाल पेश करने की ठानी है। उसने कैबिनेट सचिव अजित सेठ के जरिये यह संदेश दिया है कि उसने अंतर मंत्रालय नोट और कैबिनेट से जुड़े मुद्दों पर फैसला करने के लिए 15 दिन की मियाद तय की है। इस अवधि के दौरान अगर उसकी अनुमति नहीं मिलती है तो संबंधित मंत्रालय या विभाग आगे की कार्यवाही के लिए स्वतंत्र है। इसे एक तरह से पीएमओ की अनुमति ही मानी जाएगी।

भाई-भतीजावाद से बचकर रहें - नरेंद्र मोदी

इमेज
बीजेपी के नए सांसदों को नसीहत,  भाई-भतीजावाद से बचकर रहें - नरेंद्र मोदी Akhilesh Sharma जून 28, 2014 सूरजकुंड: लोकसभा में पहली बार चुनकर आए बीजेपी के डेढ़ सौ से भी ज्यादा सांसदों को दिल्ली−हरियाणा के पर्यटन स्थल सूरजकुंड के एक होटल में आज से दो दिनों की ट्रेनिंग दी जा रही है। इसकी शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण से हुई, जो खुद पहली बार चुनकर लोकसभा पहुंचे हैं। सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में कहा कि सभी सांसदों को एक−दूसरे के संपर्क में रहना चाहिए और सभी के पास एक-दूसरे के मोबाइल नंबर जरूर होने चाहिए। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि सांसद अपने आचार, विचार और व्यवहार का ध्यान रखें। सूत्रों के मुताबिक पीएम ने कहा कि सांसदों और पार्टी नेताओं को बयानों से दूर होकर अपने काम पर फोकस करना होगा। पीएम ने कहा, मैं भी पहली बार जीता हूं, मैं भी नया हूं, मुझे भी अपने सीनियर्स से सीखना है...आप भी उनके अनुभव का लाभ लें, भाई−भतीजावाद और करप्शन सबसे गंभीर समस्या है, इससे सबको दूर रहना होगा... बीजेपी ने अपने नए सांसदों को दी जा रही ट्रे

राहुल गांधी में शासन का मिजाज नहीं : दिग्विजय सिंह

इमेज
कांग्रेस को पूरी तरह से डुबोने वाले ,  दिग्विजय सिंह  कभी कभी  सही बात भी कर जाते हैं ! राहुल  गांधी को परोक्ष अपरोक्ष उन्होंने कटघरे में खड़ा कर ही दिया !! सत्ता की भूख में विचारधारा भूली कांग्रेस,  राहुल गांधी में शासन का मिजाज नहीं : दिग्विजय सिंह aajtak.in [Edited By: संदीप कुमार सिन्हा] | नई दिल्‍ली, 28 जून 2014 कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने अपनी ही पार्टी पर निशाना साधा है. लोकसभा चुनाव में मिली हार के लिए दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस में सत्ता की भूख को जिम्मेदार बताया है. उन्होंने कहा है कि पार्टी ने अपनी विचारधारा से समझौता किया जिस वजह से हार हुई. दिग्विजय यहीं नहीं रुके. उन्होंने ये भी कह दिया कि राहुल गांधी का मिजाज सत्ताधारी नहीं है. वो इंसाफ की लड़ाई लड़ना चाहते हैं. दिग्विजय ने कहा कि राहुल को लोकसभा में नेता विपक्ष बनना चाहिए था. दिग्विजय सिंह का कहना है कि मोदी ने जहां अपनी बात का ढिंढोरा पीटा, तो वहीं कांग्रेस अपने काम का दस में पांच भी नहीं बता पाई. दिग्विजय का ये बयान उस वक्त आया है, जब कांग्रेस की हार के लिए पहले ही राहुल गांधी निशाने पर आ रहे है

लव भारत और लीव भारत : इंद्रेशजी

इमेज
लव भारत और लीव भारत : इंद्रेशजी June 23, 2014 कुरुक्षेत्र. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की केन्द्रीय कार्यसमिति के सदस्य एवं वरिष्ठ प्रचारक इंद्रेश कुमार जी ने कहा कि ऐसे लोगों के लिये हिंदुस्थान में कोई जगह नहीं है, जो देश के विभाजन की बात करते हों. ऐसे लोगों को केवल एक ही विकल्प है कि या तो वे भारत भूमि से प्रेम करें अन्यथा इसे छोड़ कर चले जायें. 21 जून को संघ के 20 दिवसीय प्रशिक्षण शिविर के समापन अवसर पर इंद्रेश जी ने कहा कि कोई उन्हें संविधान के अनुच्छेद 370 के दस लाभ गिनवा दे, तो भारतीय इसके समर्थन को तैयार हैं, लेकिन इसका कोई लाभ नहीं, बल्कि बहुत हानि हुई है. जो अनुच्छेद देश में दो ध्वज, दो संविधान व दोहरी नागरिकता का पक्षधर हो, वह किसी भी प्रकार से जोडऩे वाला प्रावधान नहीं हो सकता. उन्होंने कहा कि कश्मीर में तिरंगे के अपमान, संविधान के अपमान पर कार्रवाई का प्रावधान नहीं है. कश्मीर का संविधान भारत के संविधान का अपमान करता है. इसके कारण कश्मीर में भारत के ही नागरिकों व महिलाओं में भेद किया जाता है, ऐसे विध्वंसक संवैधानिक प्रावधान का समाप्त होना आज देश की आवश्यकता है. उन्होंने क

नहीं बढ़ेंगे गैस के दाम - मोदी सरकार

इमेज
मोदी सरकार का रिलायंस को झटका, 3 महीने नहीं बढ़ेंगे गैस के दाम इकनॉमिक टाइम्स | Jun 26, 2014 नई दिल्ली रेल किराए में बढ़ोतरी के झटके बाद मोदी सरकार फिलहाल तीन महीने तक गैस कीमतें बढ़ाने का कड़वा डोज नहीं देगी। रिलायंस को झटका देते हुए कैबिनेट ने गैस के दाम बढ़ाने का फैसला 3 महीने के लिए टाल दिया है। वह इस मामले को अच्छी तरह समझना चाहती है और उसके बाद आम लोगों के हित को ध्यान में रखकर कोई फैसला करना चाहती है। यह रिलायंस इंडस्ट्रीज और ओएनजीसी जैसी तेल और गैस कंपनियों के लिए झटका है। इससे उन एक्सपर्ट्स की उम्मीदें भी टूटी हैं, जो मोदी सरकार से जल्द बिजनेस-फ्रेंडली फैसले की उम्मीद कर रहे थे। 3 महीने में दूसरी बार सरकार ने गैस प्राइस बढ़ाने का मामला टाला है, जो रिलायंस और ओएनजीसी के कई अरब डॉलर के इनवेस्टमेंट के लिहाज से काफी अहमियत रखता है। यूपीए सरकार की कैबिनेट ने रंगराजन फॉर्म्युले के हिसाब से गैस की कीमत तय करने को मंजूरी दी थी। इससे गैस का दाम 1 अप्रैल से 8.4 डॉलर प्रति यूनिट हो जाता। हालांकि, चुनाव आयोग ने आचार संहिता की वजह से इसे रोक दिया था, जिसकी इंडस्ट्री ने आलोचना की

इन्दिरा गांधी की हिटलर शाही के कारण लगा था आपातकाल

इमेज
इन्दिरा गांधी की हिटलर शाही के कारण लगा था आपातकाल आज के ही दिन लागू हुआ था आपातकाल,मौलिक अधिकार थे सीज Jun 26 2014 -इंटरनेट डेस्‍क- नयी दिल्‍ली : भारतीय इतिहास में काला दिन के रूप में दर्ज हो चुके आपातकाल को भला कौन याद करना चाहेगा. भारतीय लोकतंत्र ने इमरजेंसी को युवाकाल में झेला . आज के ही दिन यानी 26 जून 1975 को देश में पहली बार आपातकाल लगाये जाने की घोषणा की गयी थी. इमरजेंसी के 39 साल बाद यही वो तारीख है जब तात्‍कालिन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने अपने खिलाफ उठ रही विरोध के आवाज को दबाने के लिए इमरजेंसी जैसी कानून का सहारा लिया. 1971 में बांग्लादेश बनवाकर शोहरत के शिखर पर पहुंचीं इंदिरा को अब अपने खिलाफ उठी हर आवाज एक साजिश लग रही थी. उन्‍होंने लाखों लोगों को जेल में डाल दिया. लिखने-बोलने पर पाबंदी लग गई. देश में व्‍याप्‍त भ्रष्‍टाचार और महंगाई से त्रस्‍त जनता ने सरकार का विरोध करना शुरू कर दिया. इस मुद्दे को लेकर देशव्‍यापी आंदोलन होने लगे. गुजरात कर्फ्यू इसका प्रबल उदाहरण था. इस मामले को लेकर गुजरात के चिमनभाई को इस्‍तीफा भी देना पड़ा. देश में छा रही अशांति को लेकर

आपातकाल बंदियों को माना जाएगा स्वतंत्रता सेनानी - नरेन्द्र मोदी

इमेज
http://dainiktribuneonline.com आपातकाल बंदियों को माना जाएगा स्वतंत्रता सेनानी Posted On June - 25 - 2014 नयी दिल्ली, 25 जून (भाषा) सरकार आपातकाल के दौरान बंदी बनाए गये लोगों को स्वतंत्रता सेनानियों के समकक्ष मान्यता देकर उचित सम्मान दिलाने तथा भत्ता या पेंशन देने की मांग पर विचार कर रही है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस संबंध में राज्यसभा सांसद केसी त्यागी के पत्र का जवाब देते हुए कहा, ‘आपका पत्र प्राप्त हुआ जो आपात काल के दौरान बंदी बनाए गये लोगों को स्वतंत्रता सेनानियों के समकक्ष मान्यता देकर उचित सम्मान दिलाने एवं भत्ता या पेंशन देने के संबंध में है। मैं इस मामले पर गौर करवा रहा हूं।’ त्यागी ने आपातकाल में मीसा के तहत बंद शिव कुमार मिश्र के पत्र का हवाला देते हुए कहा कि मिश्र ने केन्द्र सरकार से आपातकालीन बंदियों को स्वतंत्रता सेनानियों के समकक्ष मान्यता देकर उनको सम्मानित करने और उनको स्वाधीनता सेनानियों के बराबर भत्ता या पेंशन देने का निवेदन किया है। आज आपातकाल की 39 वीं वर्षगांठ है। उन्होंने कहा कि स्वाधीन भारत में जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में यह जन आं

अमेरिकी संसद में गूंजा गायत्री मंत्र...

इमेज
अमेरिकी संसद में गूंजा गायत्री मंत्र... आपने मंदिरों और घरों में होते हवन यज्ञ आदि में गायत्री मंत्र की गूंज सुनी होगी लेकिन जब आपको ये पता लगे कि किसी संसद में गायत्री मंत्र बोला गया तो आप शायद यहीं कहेंगे कि भारतीय संसद में ही ऐसा हो सकता है लेकिन आपके चेहरे का रिएक्शन क्या होगा जब आपको यह पता चले कि गायत्री मंत्र भारत संसद में नहीं अमेरिकी संसद में बोला गया। जी हां इस मंत्र का जाप कपूरथला के सपूत व यूनिवर्सल सोसायटी ऑफ हिंदुइज्म के प्रधान राजन जैड ने किया। इस दौरान उन्होंने ऋग्वेद, उपनिषद व भगवत गीता की पंक्तियों का उच्चारण किया। राजन ने बताया कि उन्होंने भगवा वस्त्र धारण कर दोपहर बारह बजे हाऊस में गायत्री मंत्र का जाप आरंभ किया और इसके बाद हिंदू ग्रंथ ऋग्वेद, उपनिषद् और भगवत गीता के उच्चारण से पूरा हाऊस हिंदू धर्म में रंगा हुआ दिखाई दिया। उन्होंने भगवत गीता की एक कापी कांग्रेसमैन माइकल होडा को दी, जिन्होंने उनका हाऊस से परिचय करवाया और उनका धन्यवाद किया। राजन ने बताया कि उन्हें हाऊस के चैपलेन पैट्रिक जे. कॉर्नराय का निमंत्रण मिला था, जिसमें उन्हें हाऊस का शुभारंभ हिंदू प

रेल्वे और देश को डुबानें वालों से सावधान

इमेज
रेल्वे और देश को डुबानें वालों से सावधान  देश बचाने वालों के साथ चलो । कांग्रसे ने देश के 200 से ज्यादा सार्वजनिक उपक्रम डुबा दिये, राज्यों में बिजली बोर्ड डूब गये, रोडबेजों के निगम डूब गये । अब पिछले दस साल से रेल्वे डूब रही है। रेल लाईने ं डल नहीं पा रहीं, नये रेल रूट बन नहीं पा रहे, यात्री रेलगाडियां पर्याप्त हैं नहीं । आखिर इसे बचाना और फिर से खडा करना तो पडेगा ही ! लालू प्रसाद ने पहले बिहार निंबटाया, फिर रेल्वे को निंवटाया और इसके बाद कांग्रेस को निबंटा दिया ! रेल्वे को भी न्याय मिले ! लालू प्रसाद यादव, नितिष कुमार और ममता बनर्जी ने रेल्वे इस तरह नुकसान पहुचाया कि मानों इनकी मिल्कियत का माल हो। आज रेल्वे की हजारो योजनाओं को पूरा करने के लिये धन नहीं है। क्यों कि सस्ती लोकप्रियता के लिये लगातार किराया नहीं बढ़ाया गया , जबकि हर चीज दिन दूनी रात चैगुनी मंहगी होती चली गई । रेल्वे टी बी का मरीज बन कर रह गई। इसे यदि बचाना है तो वाजिव किराया दिया जाना चाहिये। बस में हम 200 रूपये देने तैयार हैं और रेल्वे को 100 रूपये भी न देना नाइंसाफी नहीं जो क्या है। -------------- जानि‍ए वो 7

हिंदी में करें पूरा काम : गृह मंत्रालय का निर्देश

इमेज
अपने विभागों को गृह मंत्रालय का निर्देश, अब हिंदी में करें पूरा काम आज तक वेब ब्यूरो [Edited By: पीयूष शर्मा] | नई दिल्‍ली, 19 जून 2014 गृह मंत्रालय में अब सभी कामकाज हिंदी में होंगे. इस संबंध में बुधवार को गृह मंत्रालय ने निर्देंश जारी कर दिए. बताया जाता है कि सबसे अधिक हिंदी का इस्‍तेमाल करने वाले नौकरशाहों को पुरस्‍कृत भी किया जाएगा. सभी पीएसयू और केंद्रीय मंत्रालयों के लिए सोशल मीडिया और इंटरनेट पर हिंदी को अनिवार्य किया गया. गौरतलब है कि केंद्र सरकार चाहती है कि उसके अफसर हिंदी में ट्वीट करें और साथ ही फेसबुक, गूगल, ब्लॉग्स वगैरह में भी इसका इस्तेमाल करें. ऐसा निर्देश गृह मंत्रालय ने दिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पसंद के कारण ऐसा किया जा रहा है. मालूम हो कि गृह मंत्रालय ने 27 मई को एक पत्र लिखा था, जिसमें सोशल मीडिया इस्तेमाल करने वालों (सरकार तथा सरकारी अधिकारियों) के लिए हिंदी भाषा का इस्‍तेमाल अनिवार्य माना गया है. पत्र में कहा गया था कि सरकारी अधिकारियों को अपने कमेंट अंग्रेजी के अलावा हिंदी में भी पोस्ट करने होंगे. कुल मिलाकर उनसे हिंदी को वरीयता देने का

दिवंगत प्रचारक - स्व. श्री सुन्दर सिंह जी भण्डारी

इमेज
दिवंगत प्रचारक - स्व. श्री सुन्दर सिंह जी भण्डारी स्वर्गीय सुन्दर सिंह जी भण्डारी जन्म -  12 अप्रैल, 1921   स्वर्गवास - 22 जून, 2005 Posted by Manohar SATURDAY, 21 MAY 2011 BHARTI BHAWAN, JAIPUR       प्रारम्भ में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रचारक तथा बाद में जनसंघ व भाजपा के नेता तथा बिहार एवं गुजरात के राज्यपाल रहे मा.सुन्दरसिंह जी भण्डारी का जन्म 12 अप्रैल, 1921 को उदयपुर में हुआ । उनके पिता डा.सुजानसिंह जी उदयपुर के ख्याति प्राप्त चिकित्सक थे तथा माता श्रीमति फूल कँवर धार्मिक गृहिणी थी । भण्डारी जी की प्रारम्भिक शिक्षा उदयपुर एवं सिरोही में हुई । एन.बी.कालेज, उदयपुर से इन्टरमीजिएट करने के पश्चात 1937 में सनातन धर्म कालेज, कानपुर में बी.ए.प्रथम वर्ष में प्रवेश लिया तथा वहाँ से बी.ए. व एल.एल.बी. करने के पश्चात एम.ए.की परीक्षा डी.ए.वी.कालेज, कानपुर से उतीर्ण की । जब ये बी.ए. में अध्ययनरत् थे तो पण्डित दीनदयाल उपाध्याय इनके सहपाठी थे । दोनो ने ही कानपुर की नवाबगंज शाखा में जाना प्रारम्भ किया और उन्हीं दिनो रा.स्व.संघ के प्रति उनका समपर्ण व घनिष्ठता हुई ।       1940-194

किसके पंजे में पाकिस्तान - पाञ्चजन्य

इमेज
आवरण कथा -  किसके पंजे में पाकिस्तान तारीख: 14 Jun 2014   - प्रशान्त वाजपेयी -    9 जून को कराची स्थित पाकिस्तान के सबसे बड़े, जिन्ना अन्तरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) ने रात एक बजे भीषण आतंकी हमला किया। आग की लपटें बुझने से पहले ही टीटीपी ने 10 जून को पास की एक सैनिक छावनी पर बड़ा आत्मघाती हमला किया। हमले की जिम्मेदारी लेते हुए टीटीपी ने इसे अपने नेता की मृत्यु का बदला बताया। तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के पीछे कौन है? यदि कहा जाए आई.एस.आई.और पाक फौज? तो शायद आपको झटका लगेगा,परन्तु सच यही है। पाकिस्तान में आतंकी संगठनों की दो धाराएं चलती हैं। एक अफगान केंद्रित- जिसमें टीटीपी, मुल्ला उमर की क्वेट शूरा ऑफ तालिबान, हक्कानी नेटवर्क, गुलबुद्दीन हिकमतयार का हिज्ब-ए-इस्लामी,अलकायदा अफगानिस्तान वगैरह हैं। दूसरी धारा भारत केंद्रित है। इसमें लश्करे तैयवा,जमात-उद-दावा, जैश-ए-मुहम्मद, हरकत-उल-मुजाहिद्दीन जैसी जिहादी तंजीमें हैं। फिर शियाओं-अहमदियों की हत्या करने वाले सिपह-ए-सहाबा उर्फ लश्कर-ए-झांगवी जैसे सुन्नी आतंकी संगठन हैं। इनके अपन

तुझे सूरज कहूं या चंदा - 'एक फूल दो माली'

इमेज
 फिल्म 'एक फूल दो माली' का यह गीत ' प्रेम धवन ' की कलम से निकला और गीत के अनुकूल गंभीरतापूर्ण आवाज 'मन्नाडे' की रही । इसे असल में अविस्मरणीय बलराज साहनी के अभिनय ने बना दिया । कुछ जल्लाद किस्म के पिताओं को छोड़ दिया जाये तो सामान्यतः , हर पिता की अभिलाषा होती हे की उसकी संतान उससे भी बहुत आगे बढे ! तुझे सूरज कहूं या चंदा, तुझे दीप कहूं या तारा, मेरा नाम करेगा रौशन, जग में मेरा राज दुलारा ! ==1== मेरा घर था खाली खाली,छाई थी अजब उदासी जीवन था सूना सूना,हर आस थी प्यासी प्यासी तेरे आते ही खुशियों से,भार गया है जीवन सारा मेरा नाम करेगा रौशन ... ==2 == मैं कब से तरस रहा था,मेरे आँगन में कोई खेले नन्ही सी हँसी के बदले,मेरी सारी दुनिया ले ले तेरे संग झूल रहा है,मेरी बाहों में जग सारा मेरा नाम करेगा रौशन ... ==3 == आज उँगली थाम के तेरी,तुझे मैं चलना सिखलाऊँ कल हाथ पकड़ना मेरा,जब मैं बूढ़ा हो जाऊँ तू मिला तो मैं ने पाया,जीने का नया सहारा मेरा नाम करेगा रौशन ... ==4  == मेरे बाद भी इस दुनिया में,ज़िंदा मेरा नाम रहेगा जो भी तुझ को देखेगा,तुझे मेरा ला

केशव की जय - जय : माधव की जय - जय

इमेज
आलेख केशव की जय - जय माधव की जय - जय - अरविन्द सिसोदिया ( कोटा , राजस्थान ) संघ का एक स्वंयसेवक, नरेन्द्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बन गये हैं , उनकी सरकार ने काम संभाल लिया है, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह श्री सुरेश (भय्याजी) जोशी ने विश्वास व्यक्त किया है कि ” परिवर्तन की आकांक्षा व्यक्त करने वाले करोड़ों देशवासियों की भावनाओं एवं अपेक्षाओं की पूर्ति करने में नव निर्वाचित सरकार सफल सिद्ध होगी।“ निश्चित रूप से संघ को नरेन्द्र मोदी सरकार बनने की प्रशन्नता है और इसके पीछे उनको घोर परिश्रम भी है। कांग्रेस नेतृत्व में देश रसातल में पंहुच चुका था राष्ट्र को अद्योपतन से बाहर निकाने के लिये तो संघ हमेशा ही संकल्पबद्ध रहा है। येशी स्थिति में संघ ही क्या जो भी देश भक्त था वह कांग्रेस नेतृत्व को सिंहासन से उतारने में सक्रीय था , संघ के सरसंघचालक परमपूज्य मोहनजी भागवत ने शतप्रतिशत मतदान का जो आव्हान किया था, उसके कारण मतदान प्रतिशत में भी अभूतपूर्व वृद्धि हुई और इसने भाजपा की विजय को ऐतिहासिक बना दिया। यह संघ ने इसलिये किया कि देश हित हो , समाज हित हो और स्वाभिमान से जीने की

समाज के सहयोग से ही साकार परिवर्तन - परम पूज्य डॉ0 मोहनजी भागवत

इमेज
समाज के सहयोग से ही साकार परिवर्तन - परम पूज्य  डॉ0  मोहनजी भागवत राष्ट्रीय  स्वंयसेवक संघ के तृतीय संघ शिक्षा  वर्ग के समापन कार्यक्रम में स्वंयसेवकों को संबोधित करते हुए संघ प्रमुख सरसंघचालक परमपूज्य डा0 मोहन जी भागवत ने कहा कि आज भी शिवाजी के यश  गाथा हम सुनते है और शिवाजी को बड़ी शिद्दत  के साथ स्वीकार करते है इसका कारण यह है कि देश  को शिवाजी के रूप में एक उत्तम शासक मिला। शिवाजी के राज में न्यायपूर्ण, समतायूक्त और शोषणमुक्त  शासन था।शिवाजी का शासन अनुशासन पर कड़ाई से चलने वाला शासन था। शिवाजी का शासन दीन दुखियो के भलाई से काम करने वाला शासन था। परम पूज्य मोहन जी भागवत ने कहा कि अब लोगों को लगने लगा है कि देश के अच्छे दिन आने वाले है। देश के आम जन को  इस सरकार से काफी उम्मीद है। इस बार सब लोगो ने विचार किया। अपने मन को  सुना। इस सरकार को देखकर लगता है कि सरकार का इरादा पक्का है। सिर्फ सरकार से ही  नहीं होगा। संपूर्ण देश को जगाना होगा। संपूर्ण देशवासियों को जगाने के लिए सबको जागृत करना होगा। परम पूज्य भागवत  जी ने कहा कि हमारा देश मानवता को मानने वाला है।         संघ

एलपीजी के दाम में नहीं होगी बढ़ोत्तरी: पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान

इमेज
एलपीजी के दाम में नहीं होगी बढ़ोत्तरी: पेट्रोलियम मंत्री http://www.samaylive.com केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान ने कहा कि रसोई गैस (एलपीजी) में कोई बढ़ोत्तरी नहीं होगी और सब्सिडी वाले सिलेंडरों की संख्या व मूल्य यथावत रहेंगे. पटना पहुंचे प्रधान से रसोई गैस सिलेंडर पर देय सब्सिडी समाप्त किए जाने तथा इस कारण उसकी कीमत लगभग दोगुनी होने की चर्चा के बारे में पूछा गया था. इस पर उन्होंने कहा कि एलपीजी के दाम में कोई वृद्धि नहीं होगी और सब्सिडी वाला रसोई गैस सिलेंडर जितनी कीमत व मात्रा में मिल रहा है, सरकार उसे जारी रखेगी. उन्होंने कहा कि बिहार में एलपीजी के कनेक्शन अन्य राज्यों की तुलना में काफी कम मात्र 26 प्रतिशत हैं जो कि देश के अन्य राज्यों में 45 से 50 प्रतिशत है.पेट्रोल एवं डीजल के दाम के बारे में धमेंद्र ने कहा कि यह बड़े मुद्दे हैं और केंद्र सरकार उनपर ध्यान दे रही है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2006 से बाजार मूल्य तंत्र से जुडने के बाद पेट्रोल के दाम सरकार के नियंत्रण के बाहर हैं. डीजल मूल्य अब भी सब्सिडी के साथ नियंतण्रमें है. देश में तेल और प्राकृतिक गैस उत्पानदन

'कुशल भारत' की छवि बनानी होगी: नरेंद्र मोदी

इमेज
'कुशल भारत' की छवि बनानी होगी: नरेंद्र मोदी (भाषा) http://www.jansatta.com नई दिल्ली। हाशिए पर खिसके विपक्ष की ओर दोस्ताना हाथ बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कहा कि वह निर्णय लेने की प्रक्रिया में विपक्ष को साथ लेकर चलेंगे और मुसलमानों सहित सभी वर्गों के विकास के लिए कार्य करेंगे। संसद के दोनों सदनों में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर हुई धन्यवाद प्रस्ताव की चर्चा के जवाब के रूप में अपने पहले भाषण में मोदी ने कहा कि विजय कई सबक देती है। उन्होंने आलोचनाओं का स्वागत किया ताकि उनकी सरकार अहंकारी होने से बच सके। मोदी ने विपक्ष से कहा कि पूर्व की कड़वाहट भूल जाइए। हमें देश के विकास के लिए मिलकर कार्य करना है। हम बदलाव ला सकते हैं। ‘‘मैं आपके (विपक्ष के) बिना आगे नहीं बढ़ना चाहता। मैं संख्या के आधार पर नहीं बल्कि सामूहिक निर्णय करने के आधार पर आगे बढ़ना चाहता हूं।’’ मोदी ने कहा कि उन्हें वरिष्ठों यहां तक कि विपक्ष के वरिष्ठों का भी मार्गदर्शन चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि उनकी ओर से किसी गलत शब्द का इस्तेमाल हो गया तो उन्हें माफ कर दिया जाए। लेकिन साथ ही वह सदन में कां

हिन्दू साम्राज्य दिवस : स्वराज्य और सुशासन की विरासत - रमेश पतंगे

इमेज
हिन्दू साम्राज्य  दिवस : ज्येष्ठ शुक्ल त्रयोदशी छत्रपति शिवाजी का राज्यभिषेक दिवस तारीख: 09 Jun 2014 13:18:53 हिन्दू साम्राज्य दिवस पर विशेष  http://www.panchjanya.com पाञ्चजन्य से  स्वराज्य और सुशासन की विरासत  - रमेश पतंगे छत्रपति शिवाजी महाराज ने 340 साल पहले स्वराज्य, स्वधर्म, स्वभाषा और स्वदेश के पुनरुत्थान के लिए जो कार्य किया, उसकी तुलना नहीं हो सकती। उनका राज्याभिषेक एक व्यक्ति को राजसिंहासन पर बैठाने तक सीमित नहीं था। शिवाजी महाराज एक व्यक्ति नहीं थे, वे एक सोच थे, वे एक विचार थे, वे एक युगप्रवर्तन के शिल्पकार थे। भारत एक सनातन देश है, यह हिन्दुस्थान है, तुर्कस्थान नहीं, और यहां पर अपना राज होना चाहिए।  ज्येष्ठ शुक्ल त्रयोदशी को शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक समारोह रायगढ़ किले पर संपन्न हुआ। तारीख 6 जून 1674, आज इस घटना को तीन सौ चालीस साल हो रहे हैं। शिवाजी महाराज का राज्याभिषेक एक युगप्रवर्त्तक घटना थी। महाराजा पृथ्वीराज चौहान के बाद भारत से हिन्दू शासन लगभग समाप्त हो चुका था। दिल्ली में मुगलों की सल्तनत थी, और दक्षिण में आदिलशाही, कुतुबशाही आदि मुस्लिम र