पोस्ट

नवंबर, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

एफ डी आई का प्रबल विरोध ,व्यापारियों ने भीख मांगने का पूर्व - अभ्यास.

देश के साथ सिर्फ शत्रुता...... आर्थिक उदारीकरण के नाम पर, सम्पन्न और अति सम्पन्न देशों के उद्योगपतियों और व्यापारियों को भारत बुला कर भारत के नागरिकों के उद्योग - धंधो , खेत - खलिहानों और रोजगार के अवसरों को छिनवा देने का कार्य देश के साथ सिर्फ और सिर्फ शत्रुता के अलावा और क्या कहा जा सकती है। व्यापारियों ने भीख मांगने का पूर्व - अभ्यास. .... आज भारत के एक शहर में व्यापारियों ने कपडे उतार कर भीख मांगी और खुदरा क्षैत्र में एफ डी आई का प्रबल विरोध करते हुये कहा कांग्रेस और सोनिया गांधी की यह केन्द्र सरकार पूरे देश को भिखारी बनाने पर तुली है। आखिर आगे भीख मांगनी ही पढेगी,यह उसका पूर्व - अभ्यास है। ------ रिटेल कंपनियां पहुंचाएंगी चार लाख को चोट http://www.amarujala.com/state/Uttar-pradesh/43189-1.html इलाहाबाद। रिटेल कारोबार में विदेशी कंपनियों की आहट जिले के कारोबारियों और उनसे जुड़े लोगों को डराने लगी है। वजह, सरकार ने तय किया है कि दस लाख से ज्यादा आबादी वाले शहरों में बहुराष्ट्रीय कंपनियां मल्टी ब्रांड और सिंगल ब्रांड स्टोर खोल सकेंगी। कंपनियों के स्टोर से नफा-नुकसान को लेक

राहुल गांधी ने कहा : वंशवाद & भ्रष्टाचार .......

इमेज
देश की राजनीतिक व्यवस्था में सर्वाधिक भ्रष्टाचार - कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी जिम्मेवार कौन............? देश पर कुछ मौंकों को छोड कर,ज्यादातर राज तो कांग्रेस का ही रहा है। ------ कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने कहा- अब सिस्टम से चुनाव होगा। सबके लिए राजनीति के दरवाजे खुले होंगे। राजनीति में रिश्तेदारी नहीं चलेगी। हम वर्तमान स्थिति को बदलने की कोशिश करेंगे। माफ करें ! वंशवादीयों के मुंह से यह शोभा नहीं देता...!!

एनजीओ : दाल में काला तो है

इमेज
 दाल में काला तो है.... एनजीओ माफियाई भी एक बहुत बडा भ्रष्टाचार है........ विदेशी पैसा लेने वाले सभी एनजीओज की जांच होनी ही चाहिये..... भारत में विदेशी पैसा लेकर उसके दुरउपयोग द्वारा अन्य निहित स्वार्थ साधना परम्परा बन गया है। इन स्वार्थ सिद्धियों के द्वारा देश को, व्यवस्था को , न्याय को और मानवता को जम कर नुकसान पहुचाया जाता है। धर्मामंतरण को धंधा बना दिया गया है। यह इसलिये संभव होता है कि सरकारें कभी यह देखती ही नहीं हैं कि पैसा आया किस लिये और खर्च कहां हो रहा है।यही कारण है कि एनजीओज चलाने वालों की जिन्दगी भी असरदार सम्पन्न व्यक्तियों की तरह होती है और मीडिया भी इनको वीआईपीओं की तरह महत्व देता है।

चूहे की लड़ाई हाथी से ,खुदरा व्यापर क्षैत्र में बहुराष्ट्रीय व्यापार कंपनियों को प्रवेश

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया   कई दशकों पहले एक गीत बजता था..दिए की लड़ाई हे तूफान से .., मगर सच यही हे की दिए की लड़ाई कभी तूफान से हुई ही नहीं ..,क्यों की मात्र एक छोंके ने ही दिए को बुछा दिया..., कोंगेस की वर्तमान केंद्र सरकार तो अब लगनें लगी हे की वह भारत की नहीं अमरीका की सरकार हे...! पहले भी यु पी ए १ में यही सरकार अमरीकी हितों के परमाणु बिल को पास करानें के लिए अपने ही गठबंधन से धोका करती हे..नोटों से सरकार बचाती हे...! इस बार इस सरकार ने अमरीकी और यूरोपीय हितों के लिए एकल ब्रांड में १०० प्रतिशत तक और मल्टी ब्रांड में ५१ प्रतिशत तक निवेश की अनुमति देकर देश को नए तरीके से गुलामी में फंसा दिया हे...यही कर्ण हे की पुरे भारत में एक सुर में खुदरा व्यापर क्षैत्र में बहुराष्ट्रीय व्यापार कंपनियों को प्रवेश दिए जाने का विरोध हो रहा हे..., वहीं अमरीका में भारत के इस कदम का स्वागत हो रहा हे ...यानीं की वे प्रशन्ना हें की भारतीय छोटे व्यापारियों के हितों को छिनने का अवसर मिलेगा. इन बहु राष्ट्रिय कंपनियों  का  आकर प्रकार और क्षमताएं इस तरह की  हें की छोटा व्यापारी या दुकानदार तो क्या कर पायेगा,

26/11 , सच्ची श्रृद्धांजली : चाहिये अपराधी की फांसी

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया  26/11 , सच्ची श्रृद्धांजली : चाहिये अपराधी की फांसी  26 नवम्बर 2008 , आज की ही दिन में, मुम्बई में 10 पाक आतंकवादी हमलावर एके 47 हाथों में लिये हुये, कई घातक हथियारों के साथ घुसे और खून की होली खेली। जिसमें 164 लोगों की नृशंस हत्या हुई और 308 लोग घायल हुये। जबावी कार्यवाही में 9 आतंकवादी मारे गये एक जिंदा पकडा गया कसाव......!!! मगर तीन साल गुजरने के बाद भी अपराधी को सजा नहीं दे पाई सरकार !!!!! यह उन शहीदों के साथ अन्याय है जिन्होने प्राणों की बाजी लगाई थी। हलांकी श्रृद्धांजली की रश्म तो पूरी तरह निभाई गई मगर सच्ची श्रृद्धांजली के इंतजार में आंखे तरस रहीं है। जिन्हे चाहिये अपराधी की फांसी................ ----- लिंक http://www.bhaskar.com/article मुंबई हमलाः मुआवजा कसाब के खर्च से भी कम, विरोध करने पर पीड़ित हिरासत में मुंबई. मुंबई हमले के तीन साल पूरे होने पर कम मुआवजे के विरोध में मार्च कर रहे करीब 50 हमला पीड़ितों को हिरासत में लिया गया है। ये लोग बीजेपी ऑफिस से मार्च पर निकले थे। हिरासत में लिए गए लोग कम मुआवजा मिलने के विरोध में शांति मार्च कर रहे थ

खुदरा क्षैत्र एफ डी आई की मंजूरी का मतलब,भारतीय खुदरा तथा फुटकर व्यापार और उत्पादन क्षैत्र की बली......

इमेज
- अरविन्द  सिसोदिया  खुदरा क्षैत्र एफ डी आई की मंजूरी का मतलब... गरीबों के जले पर नमक..... भारतीय खुदरा तथा फुटकर व्यापार और उत्पादन क्षैत्र की बली....... देश के आम आदमी को मंहगाई से मारते - मारते अब मनमोहन सिंह एंड सोनिया गांधी सरकार भारतीय छोटे,खुदरा तथा फुटकर दुकानदारों , उत्पानकर्ताओं के धंधे की बली लेने पर उतारू है। यह सब यूरोप और अमरीका की बडी नामी कंपनियों को लाभ पहुचानें के लिये हो रहा है। पहले एक ईस्ट इण्डिया कंपनी आई थी जिसने सैंकडों वर्षों तक देश को गुलाम बना कर रखा, स्वदेशी व्यापार और उत्पादन प्रक्रिया को नष्ट कर दिया और संशाधनों को वे ब्रिटेन लूट ले गये। अब सैंकडों ईस्ट इण्डिया कंपनीयों जैसे वालमार्ट और दूसरी बडी कंपनियां आ रहीं है। जो हमारे देश के लघु व्यापार और उत्पादन को समाप्त कर देगी। वहीं इनके दुष्प्रभाव सें सामाजिक और सांस्कृतिक सहित राजनैतिक पराभव का आसन्न संकट आ खडा होगा । एफ डी आई की अनुमति रोकने के हर कार्यक्रम का समर्थन करना चाहिये । तमाम राष्ट्रहित चिन्तकों को एक जुट हो जाना चाहिये। --------- 1 http://business.bhaskar.कॉम एफडीआई में रिटेल ? ना बाबा

शरद पंवार के थप्पड,कोई आश्चर्य नहीं

इमेज
शरद पंवार के थप्पड..... कोई आश्चर्य नहीं ....... इस कृषिमंत्री ने जनता का जीना मुश्किल कर रखा है। गोदामों में अनाज सड़ रहा है और जनता को जबरदस्त मंहगाई छेलनी पड रही है। उसका जीना हराम हो रहा है। घटना- दिल्ली में कृषिमंत्री शरद पवार को एक शख्स ने थप्पड़ मारा और पवार के साथ धक्कामुक्की भी की. पवार एनडीएमसी सेंटर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने गए पहुंचे थे.समारोह के दौरान हरविंदर सिंह नाम के एक शख्स ने पवार को थप्पड़ मारा.युवक बढ़ती महंगाई और पूरी व्यवस्था से नाराज था. 

अब शक्कर की मंहगाई........

इमेज
अब शक्कर की मंहगाई........ प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह सरकार आम नागरिक के प्रति कितनी संवेदनशील है, इसका उदाहरण है मंगलवार को मंत्रीमंडलीय समूह के द्वारा,10 लाख टन शक्कर के निर्यात की अनुमति देना। पहले ही शक्कर मंहगी हो रही थी, इससे शक्कर और मंहगी होगी। शरद पंवार के रहते खाद्य पदार्थें के बिचैलिये मजे में हैं। माल जमा करते हैं और सरकार से मिल कर मूल्यवृद्धि करवा लेते हैं और मोटा मुनाफा बसूलते हैं। भुगतना जनता को पडता है। चीनी के दस लाख टन निर्यात की मंजूरी..... नई दिल्ली , 22 नवम्बर 2011। कन्द्र सरकार के मंत्रीमण्डलीय समूह की हुई बैठक में, 10 लाख टन चीनी निर्यात की मंजूरी दे दी गई है। चीनी व्यापारियों पर से स्टाक लिमिट भी हटा ली गई है। सरकार के फैसले से चीनी 2 रूपये किलो मंहगी होने की आशंका है। 09 November 2011 बड़े पैमाने पर चीनी निर्यात होनी चाहिए : पवार.... केंद्रीय कृषि मंत्री शरद पवार ने कहा है कि इस साल देश में खपत से कहीं ज्यादा चीनी का उत्पादन होने की संभावना है। इस वजह से चालू मार्केटिंग सीजन में बड़े पैमाने पर चीनी का निर्यात किया जाना चाहिए। इससे विश्व बाजार के ऊंचे

" प्रताप गौरव केंद्र "

इमेज
वीर शिरोमणि महाराणा  प्रताप  समिति उदयपुर महाराणा प्रताप के यशस्वी जीवन और अन्य शौर्य पूर्ण घटनों पर आधारित " प्रताप गौरव केंद्र  "  की स्थापना राजस्थान के  उदयपुर में की जा रही हे|  अनुमानित लगत १०० करोड़ रूपये मानी गई है | यह जनता के द्वारा दान तथा जन सहयोग किये जानें वाले धन से बनेगा |  http://www.bhaskar.com/article मेवाड़ की भक्ति और शक्ति के इतिहास का यहां होगा अनोखा संगम! उदयपुर. शहर के टाइगर हिल क्षेत्र में 25 बीघा क्षेत्र में निर्माणाधीन प्रताप गौरव केंद्र म्यूजियम के पहले चरण का काम पूरा हो चुका है। इसका लोकार्पण प्रताप जयंती पर होगा। वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप समिति उदयपुर की ओर से तैयार करवाए जा रहे इस म्यूजियम पर एक अरब रुपए खर्च किए जाएंगे। संपूर्ण निर्माण वर्ष 2020 तक पूरा होना है। मेवाड़ की भक्ति और शक्ति के इतिहास की जीवंत जानकारी देने वाला यह विराट केंद्र होगा। योजना का मुख्य उद्देश्य पर्यटन नगरी में आने वाले सैलानियों को मेवाड़ के गौरवशाली इतिहास से रूबरू कराना है। यहां आने वाले व्यक्ति को बप्पारावल से महाराणा राजसिंह तक के इतिहास की जानकार

सी डी की आँख मिचोली ख़त्म,सरकार का नोटिस गलत : नारी मर्यादा का ध्यान सभी को रखना चाहिए

इमेज
सरकार का नोटिस गलत : नारी मर्यादा का ध्यान सभी को रखना चाहिए... १० और ११ नवम्बर को P - ७ न्यूज चेनल   ने महिपाल मदेरणा और भंवरी के संबंधों की सी डी दिखा कर, लम्बे समय से चल रही सी डी की आँख मिचोली अर्थात सस्पेंस को ख़त्म कर दिया ... में  राजस्थान के   ब्यूरो चीफ     श्रीपाल सिंहजी  शक्तावत  को बधाई देता हूँ ...उन्होंने मदेरणा और सी बी आई को मजबूर कर दिया कि वे हाँ भरें ....   P - ७ न्यूज चेनल ने  अपने मिडिया धर्म का पालन किया ..मगर इसके कुछ दृश्य आपतिजन  थे उन्हें दिखाए बिना भी काम चल सकता था | अच्छा होता की देर रात उसे दिखाते.....  मगर सरकार का  भी इस  मामले में नोटिस देना गलत इसलिए हे कि आप अनेकों सीरियलों  में , फिल्मों में भी बहुत कुछ अश्लील परोसनें की अनुमति दे रहे  हो.... नारी मर्यादा का ध्यान सभी को रखना चाहिए. सवाल यह नहीं है की महिपाल मदेरणा के  भंवरी से अनेतिक या अबैध संबंध थे...बल्कि सवाल यह है कि राजनेतिक रसूख के द्वारा, मनचाहा उपयोग कर उसे मौत  के हवाले कर दो ....!! राजनीती , माडलिंग और फिल्मो में अबैध संबंध तो आम हैं, बगेहर कम्प्रोमाइज  के बिरला ही आगे बड प

राजस्थानी एलबमों की अभिनैत्री भवंरीदेवी

इमेज
आज दिनांक १० नवम्बर २०११ की ,  अभी ई टीवी राजस्थान पर, राजस्थानी एलबमों की अभिनैत्री भवंरीदेवी और राजस्थान सरकार में मंत्री रहे महीपाल मदेरणा की सीडी के अंश दिखाये जा रहे हैं और सीडी के सार्वजनिक होने की खबर दी जा रही है।   भंवरी को सिर्फ मामूली नर्स बिकाऊ मीडिया के द्वारा प्रचारित करवाया जा रहा है जो की गलत है वह राजस्थानी फिल्मों / एलवमों की अभिनेत्री भी थी और प्रशिद्ध थी .... लिंक  http://hindi.webdunia.com/news-regiona भंवरी देवी के 'एलबम' की मांग बढ़ी बाडमेर/जयपुर, रविवार, 18 सितंबर 2011 सूर्यनगरी जोधपुर से नर्स भंवरी देवी के संदिग्ध परिस्थितियों में लापता होने और उससे जुड़ी चर्चाओं की वजह से हाल के दिनों में जहां एक ओर राजस्थान की राजनीति में हलचल मची हुई है वहीं दूसरी ओर लोक संगीत के बाजार में यकायक उनके एलबम की मांग बढ़ गई है। बाडमेर के म्यूजिक स्टोर विक्रेता कन्हैयालाल खोसाणी ने बताया कि बाडमेर में पहले भंवरी के वीडियो एलबम की कोई खास मांग नहीं थी, लेकिन पिछले कुछ दिनों से ग्राहक उसके वीडियो एलबम मांगने लगे हैं और मांग इतनी बढ़ी है कि इन वीडियो एलबम का स्ट

यूपीए की अल्पमत सरकार को बचाने के लिए सांसदों को खरीदा गया -आडवाणी

इमेज
जोधपुर। भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की जनचेतना यात्रा का आगाज राजस्थान में बुधवार को मारवाड़ आंचल के केन्द्र जोधपुर से हुआ। इस अवसर पर हुई जनसभा में आडवाणी व प्रतिपक्ष की नेता वसुन्धरा राजे से लेकर अनेक भाजपा नेताओं ने  कांग्रेस की आलोचना की और जन  भावना जताई कि महंगाई, भ्रष्टाचार व कालेधन जैसे मुद्दों पर अब जनता कांग्रेस से त्रस्त है और परिवर्तन चाहती है। यहां गांधी मैदान में हुई आम सभा में आडवाणी ने जहां प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह व कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी को ललकारते हुए कालेधन पर श्वेतपत्र जारी करने की मांग की। जोधपुर व बाद में जैतारण, ब्यावर व अजमेर में सभाओं में आडवाणी ने  कहा कि संसद के आगामी सत्र में सरकार ने काले धन पर श्वेत पत्र जारी नहीं किया तो जनता परिवर्तन करने में देर नहीं लगाएगी। उन्होंने सांसद खरीद फरोख्त काण्ड का जिक्र करते कहा कि कांग्रेस ने पूरे लोकतंत्र को कलूषित किया है। पूर्व उप प्रधानमंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने बुधवार को गांधी मैदान से प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को चुनौती देते हुए कहा कि हिम्मत है

पाकिस्तान में महा चरमपंथ का राज

इमेज
अति कट्टरवाद ... पाकिस्तान का निर्माण ही साम्रदायिक आधार पर हुआ , उसमें रहने वालों और शासन करने वालों की मानसिकता भी वही रही ... विश्व के अन्य देशों को उस पर कठोर नियंत्रण रखना चाहिए था.., मगर अमरीका, ब्रिटेन  सहित तम देशों ने उसकी हर नाजायज बात का पक्ष लिया , अमरीका और ब्रिटेन के कुछ कुछ भुगता है ...!!! मगर अब इन्होनें ठीक से पाकिस्तान पर सिकंजा नहीं कसा तो , बड़े नुकशान को उठाना  पडेगा...    -------- "पाकिस्तान में चरमपंथ का राज" लिंक  http://www.dw-world.de/dw/article जर्मनी की ग्रीन पार्टी की करीबी संस्था हाइनरिष बोएल में काम करने वाले ग्रेगर एन्स्टे पाकिस्तान में पांच साल रहे. उन्होंने जो महसूस किया, उसे डॉयचे वेले के साथ एक इंटरव्यू में साझा किया. ग्राहम लूकस से बातचीत के अंश. पिछले कुछ सालों में पाकिस्तान में चरमपंथ बहुत बढ़ गया है. पिछले तीन दशकों में हजारों धार्मिक स्कूल खुल गए हैं, जो युवाओं में पश्चिम के खिलाफ भावनाएं भरने का काम कर रहे हैं. उनका पहला लक्ष्य धार्मिक आधार पर राष्ट्र चलाना है. पाकिस्तान में आतंकवाद पनपाने वाली संस्थाएं काफी सालों से बड़े धड़ल

पाकिस्तान में फिर हिन्दुओं की हत्या

इमेज
भारत सरकार की लगातार , हिन्दू विरोधी निति का नतीजा यह निकला की पाकिस्तान सहित दुनिया में कहीं भी , कोई भी हिन्दू को कुछ  तो  भी बोल देता है , कोई भी अपराध कर देता है.., खरगोश के शिकार की तरह हिन्दू का कहीं भी कोई भी कुछ भी कर ले , कोई न बोलने बाला न कोई विरोध करने वाला .., आज पाकिस्तान में हिन्दू मात्र २ प्रतिशत क्यों रह गया ....? कोई जवाब देगा...?  मेरा मन है की भारत सरकार को हिदुओं के मानव अधिकारों के सन्दर्भ  में प्रखरता से बात रखनी चाहिए...जो की अभी तक कभी भी देखनें में नहीं आई......... ---- लिंक  http://www.dw-world.de/dw/article पाकिस्तान में चार हिंदू डॉक्टरों की हत्या पाकिस्तान के दक्षिणी सिंध प्रांत में बंदूकधारियों ने चार हिंदू डॉक्टरों की हत्या कर दी है जिसके बाद अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय में दहशत है. यह घटना सोमवार को प्रांतीय राजधानी कराची से 400 किलोमीटर दूर चक कस्बे में हुई. प्रांतीय असेंबली के पूर्व सदस्य और पाकिस्तान हिंदू परिषद के संरक्षक डॉक्टर रमेश कुमार ने पुष्टि की है कि डॉक्टर अशोक, डॉक्टर नरेश, डॉक्टर अजीत और डॉक्टर सत्य पॉल की हथियारबंद लोगों ने हत्या कर

भंवरी का भंवर ...इन्द्रा के आरोप...

इमेज
सीबीआई का राजनैतिक दुरउपयोग अब साफ लगने लगा है कि भंवरी को बदनाम कर उसकी हत्या को जायज ठहराने के मकसद पर सीबीआई जुट गई है......? वह 15 वर्ष से लगातार राजस्थानी भाषा की एलबमों की अभिनेत्री है भंवरी की सम्पन्नता में उसका भी बडा हाथ है। मगर उसे मामूली एएनएम बताया जा रहा है। जो - जो बातें उसके खिलाफ जा सकती हैं उन्हे मीडिया में लीक कर छपवाया जा रहा है। मगर उन सीडीयों में राजस्थान सरकार के मंत्रियों की और प्रशासनिक अधिकारियों की भूमिका क्या - क्या हैं उन्हे आसानीं से ढांकां जा रहा है। यह सीबीआई का राजनैतिक दुरउपयोग है।  ------ http://www.bhaskar.com/article/NAT-bhanwari-devi-sex-cd-2549594.html भंवरी सेक्स सीडी केस : तस्वीरों में देखें भंवरी के कई रूप दैनिक भास्कर - ‎ कुछेक हजार की सरकारी नौकरी करने वाली भंवरी देवी के कारण राजस्थान की राजनीति में बवाल आया हुआ। दावा किया जा रहा है कि कई मंत्रियों और अधिकारियों से निकट के संबंध के कारण उसका पहले अपहरण हुआ और फिर हत्या। भंवरी कहां है? किसी को नहीं पता। यह मानकर चला जा रहा है कि उसकी हत्या हो चुकी है। लेकिन भंवरी के कारण एक बार फिर से यह स

भंवरी: आधुनिक राजनैतिक भोग विलास

इमेज
भंवरी कांड पर अब बहुत जल्द, सारे पर्दे उठाने का दावा होने वाला है। मगर अभी तक तो इसी बात पर अधिक बल दिया जा रहा है कि.., भंवरी चरित्रहीन थी भंवरी ब्लेक मेल कर रही थी।  भंवरी के पास इतनी सम्पत्ती कहां से आई। भंवरी की सम्पती की आज कीमत इतनी है।  आदि आदि... भंवरी राजस्थानी एलबमों में काम करती थी सो पैसा तो उस पर पहले से ही था वह राजस्थान की एक क्षैत्रीय अभिनैत्री थी।। मगर यह कोई नहीं कह रहा कि राजस्थान के मंत्रियों को फिसलने को किसने कहा था ? राजस्थान के प्रसाशनिक अधिकारियों को किसने कहा कि तुम भंवरी के नजदीक जाओ ?? भंवरी ने मौज उडाई या उसे मजबूर किया.....??? भंवरी कौन है, कहां की है, किस तरह की है, यह तो सब पूर्व बिदित था!!!! उस पर मेहरवानी करने की अतिरिक्त चिंता मंत्रीजी ने क्यों की ......????? गिरेवान में आधुनिक राजवाडों को झांकना ही होगा कि हम तो मनोवृति से आज भी सामंतशाही से ही ग्रस्त हैं। ====== http://www.bhaskar.com 3 मंत्रियों,3 आईएएस अफसरों से हैं भंवरी के रिश्ते!  bhaskar news   |   06/11/2011 जोधपुर.करीब दो माह के अनुसंधान एवं चर्चाओं से यह साफ हो रहा है कि पूर