पोस्ट

जुलाई, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

World's Parliament of Religions, Chicago : Swami Vivekananda

इमेज
http://www.ramakrishnavivekananda.info/vivekananda/volume_1/vol_1_frame.htm RESPONSE TO WELCOME At the World's Parliament of Religions, Chicago 11th September, 1893 Sisters and Brothers of America, It fills my heart with joy unspeakable to rise in response to the warm and cordial welcome which you have given us. I thank you in the name of the most ancient order of monks in the world; I thank you in the name of the mother of religions; and I thank you in the name of millions and millions of Hindu people of all classes and sects. My thanks, also, to some of the speakers on this platform who, referring to the delegates from the Orient, have told you that these men from far-off nations may well claim the honour of bearing to different lands the idea of toleration. I am proud to belong to a religion which has taught the world both tolerance and universal acceptance. We believe not only in universal toleration, but we accept all religions as true. I am proud to belong

स्वामी विवेकानन्द का राष्ट्र-ध्यान – II

इमेज
स्वामी विवेकानन्द का राष्ट्र-ध्यान – II स्वामी विवेकानन्द ने सारे भारत को अत्यन्त निकट से देखा था। उन्होंने भारतीयता को अपने अन्दर जीया था। इस जीवन्त अनुभूति पर आधारित उनका चिन्तन था। सामान्यतः इतिहास को विदेशी दृष्टि से देखने के आदी आधुनिक विद्वान स्वामीजी की अन्तर्दृष्टि की गहराई को नहीं पकड़ पाते है। उन्हें स्वामीजी की राष्ट्रभक्ति व उनकी मानवता में विरोधाभास दिखाई पड़ता है। इसका कारण उनका स्वयं का राष्ट्रबोध आधुनिक पश्चिमी विचार से प्रभावित है। पश्चिम में प्रथमतः साम्राज्य की राजनैतिक दृष्टि से राष्ट्रबोध जगा और द्वितीय महायुद्ध के बाद जब साम्राज्यों का पतन हुआ तब अमेरिकी नेतृत्व में आर्थिक राष्ट्रवाद का उद्भव हुआ। इन दोनों ही दृष्टि से भारत को समझने का प्रयत्न असफल ही होगा। वास्तव में इन अधुरी धारणाओं से वे भी स्वयं को परिभाषित नहीं कर पा रहे हैं। आर्थिक आधार पर अपनी मुद्राको एक कर युरोप में एक संघीय रचना युरोजोन का निर्माण हुआ किन्तु ब्रिटन मुद्रा के स्तर पर आज भी उससे अलग है और जर्मनी ने मुद्रा भले ही अपना ली किन्तु अपनी राष्ट्रीय पहचान कायम रखी है। युरोप की वर्तमान उथलपुथ

HERO OF YOUTH - Swami Vivekananda

इमेज
HERO OF YOUTH - Swami Vivekananda "Let us proclaim to every soul. - Arise, awake and stop not till the goal is reached. Arise, Awake from hypnotism of this weakness. None is really weak; the soul is infinite, omnipotent and omniscient. Stand up, assert yourself, proclaim the GOD within you, do not deny him!  Too much of inactivity, too much of weakness, too much of hypnotism, has been & is upon our race. O ye modern Hindus, de-hypnotise yourselves.  The way to do that is found in your own sacred books. Teach yourself, teach everyone his real nature, call upon the sleeping soul and see how it awakes.Power will come, glory will come, goodness will come, purity will come, everything that is excellent will come when this sleeping soul is roused to self-conscious activity. Ay, If there is anything in the Gita that I like , it is these verses, coming out strong as the very gist, the very essence, of Krishna's teaching "He who sees the supreme Lord dwelling alike in

रणकपुर : जैन समुदाय के लिए पाँच पवित्र स्थलों में से एक

इमेज
रणकपुर :  जैन समुदाय के लिए पाँच पवित्र स्थलों में से एक    खूबसूरती sculptured जैन मंदिरों इस प्रसिद्ध जगह की महिमा निशान. एक जैन समुदाय के लिए पाँच पवित्र स्थलों में से एक माना जाता, ये 15 वीं सदी में राणा कुम्भ के शासनकाल के दौरान बनाया गया था. ये एक दीवार में संलग्न हैं. केन्द्रीय Chaumukha [चार सामना मंदिर] Adinathji करने के लिए समर्पित है. यह मंदिर 29 हॉलों और 1444 खम्भों सब साफ़ खुदवाए, नहीं, दो स्तंभों की जा रही के साथ एक जैसा वास्तुशिल्प महिमा का एक अद्भुत रचना है. मंदिर के हर हॉल है अचिंतनीय सतह बराबर विनम्रता के साथ नक़्क़ाशीदार. मुख्य मंदिर के मंदिरों का सामना कर रहे हैं Parasvanath - Neminath उत्तम अंक जो कि खजुराहो मूर्तियां के समान लग रहे टेक्सचराइज़र के साथ. दौरा कर लायक एक अन्य मंदिर है कि 'आसपास के सूर्य मंदिर' को समर्पित की 'सूर्य भगवान'. मंदिर, बड़े योद्धा, घोड़े और आकाश के carvings के साथ संवरना एक polygonal दीवार है (नक्षत्रों, grahs) bodies.The सूर्य भगवान ने अपने वाहन की सवारी के रथ पर दिखाया गया है. वहाँ श्रद्धालुओं की एक धारा के आ

गंगा अवतरण

इमेज
गंगावतरण श्रावण मास भगवान भोले शंकर का प्रिय महीना युधिष्ठिर ने लोमश ऋषि से पूछा, "हे मुनिवर! राजा भगीरथ गंगा को किस प्रकार पृथ्वी पर ले आये? कृपया इस प्रसंग को भी सुनायें।" लोमश ऋषि ने कहा, "धर्मराज! इक्ष्वाकु वंश में सगर नामक एक बहुत ही प्रतापी राजा हुये। उनके वैदर्भी और शैव्या नामक दो रानियाँ थीं। राजा सगर ने कैलाश पर्वत पर दोनों रानियों के साथ जाकर शंकर भगवान की घोर आराधना की। उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शंकर ने उनसे कहा कि हे राजन्! तुमने पुत्र प्राप्ति की कामना से मेरी आराधना की है। अतएव मैं वरदान देता हूँ कि तुम्हारी एक रानी के साठ हजार पुत्र होंगे किन्तु दूसरी रानी से तुम्हारा वंश चलाने वाला एक ही सन्तान होगा। इतना कहकर शंकर भगवान अन्तर्ध्यान हो गये। "समय बीतने पर शैव्या ने असमंज नामक एक अत्यन्त रूपवान पुत्र को जन्म दिया और वैदर्भी के गर्भ से एक तुम्बी उत्पन्न हुई जिसे फोड़ने पर साठ हजार पुत्र निकले। कालचक्र बीतता गया और असमंज का अंशुमान नामक पुत्र उत्पन्न हुआ। असमंज अत्यन्त दुष्ट प्रकृति का था इसलिये राजा सगर ने उसे अपने देश से निष्कासित कर दि

सावन मास में भगवान शिवशंकर के सोमवार व्रत

इमेज
बड़े ही फलदायक हैं श्रावण में  भगवान शिवशंकर के सोमवार व्रत पं. केवल आनंद जोशी Tuesday July 03, 2012 http://blogs.navbharattimes.indiatimes.com श्रावण मास में भगवान त्रिलोकीनाथ, डमरुधर भगवान शिवशंकर की पूजा अर्चना का बहुत अधिक महत्व है। भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए श्रावण मास में भक्त लोग उनका अनेकों प्रकार से पूजन अभिषेक करते हैं। भगवान भोलेनाथ जल्दी प्रसन्न होने वाले देव हैं। वह प्रसन्न होकर भक्तों की इच्छा पूर्ण करते हैं। 13 जुलाई 2014 : सावन मास का पहला दिन, 14 जुलाई: पहला सावन (श्रावण) सोमवार व्रत, 21 अगस्त: दूसरा सावन (श्रावण) सोमवार व्रत, 04 अगस्त: तीसरा सावन (श्रावण) सोमवार व्रत, 10 अगस्त: चौथा और आखिरी सावन (श्रावण) सोमवार व्रत, 16 अगस्त: सावन (श्रावण ) मास 2014  का आखिरी दिन           श्रावण मास के इन समस्त सोमवारों के दिन व्रत लेने से पूरे साल भर के सोमवार व्रत का पुण्य मिलता है। सोमवार के व्रत के दिन प्रातः काल ही स्नान ध्यान के उपरांत मंदिर देवालय या घर पर श्री गणेश जी की पूजा के साथ शिव पार्वती और नंदी बैल की पूजा की जाती है। इस दिन प्रसाद के रू

देवकीनन्दन खत्री : 'चन्द्रकान्ता' अमर उपन्यास

इमेज
बाबू    देवकीनन्दन ख त्री - प्रतिबिम्ब बड़थ्वाल (जन्म- 29 जून, 1861 - मृत्यु- 1 अगस्त, 1913) हिन्दी के प्रथम तिलिस्मी लेखक थे। देवकीनन्दन खत्री जी का जन्म पूसा, मुजफ्फ़रपुर, बिहार में हुआ था। उनके पिता का नाम 'लाला ईश्वरदास' था। उनके पूर्वज पंजाब के निवासी थे और मुग़लों के राज्यकाल में ऊँचे पदों पर कार्य करते थे। महाराज रणजीत सिंह के पुत्र शेरसिंह के शासनकाल में लाला ईश्वरदास काशी आकर बस गये। देवकीनन्दन खत्री जी की प्रारम्भिक शिक्षा उर्दू - फ़ारसी में हुई थी। बाद में उन्होंने हिन्दी, संस्कृत एवं अंग्रेज़ी का भी अध्ययन किया। मुजफ्फरपुर देवकीनन्दन खत्री के नाना नानी का निवास स्थान था। आपके पिता 'लाला ईश्वरदास' अपनी युवावस्था में लाहौर से काशी आए थे और यहीं रहने लगे थे। देवकीनन्दन खत्री का विवाह मुजफ्फरपुर में हुआ था, और गया ज़िले के टिकारी राज्य में अच्छा व्यवसाय था। कुछ दिनों बाद उन्होंने महाराज बनारस से चकिया और नौगढ़ के जंगलों का ठेका ले लिया था। इस कारण से देवकीनंदन की युवावस्था अधिकतर उक्त जंगलों में ही बीती थी। इन्हीं जगंलों और उनके खंडहरों से देवकीनन्दन ख

उत्तरप्रदेश निकाय चुनाव में भाजपा की भारी जीत, कांग्रेस का सूपड़ा साफ

इमेज
यूपी में भाजपा की वापसी..... उत्तरप्रदेश में मात्र कुछ महीनें पहले बहूमत हांसिल करने वाली सपा ने गुंडाराज के चलते अपना जनमत बुरी तरह गंवा दिया है। वहां 12 नगरनिगम चुनावों में 9 में भाजपा ने जीत हांसिल की है कांग्रेस खता नहीं खेल सकी। जबकि सत्ता रूढ सपा मात्र 1 स्थान पर और 1 पर बसपा समर्थित जीत पाये है। एक की मतगणना जारी है। ---------------- यूपी निकाय चुनाव में भाजपा की भारी जीत, कांग्रेस का सूपड़ा साफ लखनऊ/अमर उजाला ब्यूरो Story Update : Saturday, July 07, 2012 उत्तर प्रदेश के महानगरों में भाजपा ने परचम फहरा दिया है। सूबे के 12 नगर निगमों में राजधानी लखनऊ सहित नौ में भाजपा के महापौर चुनाव जीतने में सफल रहे हैं। एक-एक सीट सपा और बसपा समर्थित प्रत्याशियों के कब्जे में गई है। गाजियाबाद नगर निगम के महापौर पद के लिए भाजपा व सपा समर्थित उम्मीदवार के बीच संघर्ष चल रहा है, लेकिन यहां का महापौर पद भी भाजपा के ही खाते में जाने की संभावना दिख रही है। नगर पालिका परिषदों व नगर पंचायतों के अब तक जो रुझान मिले हैं, उनमें निर्दलियों का दबदबा दिख रहा है। पार्टी वार विश्लेषण करें तो यहां