पोस्ट

अक्तूबर, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

लौहपुरुष सरदार पटेल,गांधीजी के कारण प्रधानमंत्री नहीं बन पाये

इमेज
गांधी जी ने नेहरू को ही देश का नेतृत्व क्यों सौंपा? - डा.सतीश चन्द्र मित्तल http://panchjanya.com/arch/2011/3/6/File22.htm देश-विदेश के अनेक विद्वानों के मन में आज भी यह प्रश्न जस का तस है कि लोकमान्य तिलक के बाद देश के सर्वोच्च राष्ट्रीय नेता महात्मा गांधी ने देश की बागडोर नेहरू तथा पटेल में से नेहरू को ही क्यों सौंपी? इसके पीछे उनकी कौन-सी मनोभूमिका रही होगी? इस प्रश्न के उत्तर के लिए गांधी जी के नेहरू एवं पटेल के साथ संबंधों को जानना महत्वपूर्ण होगा। गांधी-नेहरू संबंध जवाहर लाल नेहरू ने गांधी जी को सर्वप्रथम 1916 में लखनऊ में देखा था। असहयोग आंदोलन में दोनों एक-दूसरे के निकट आए। 1924 में बेलगाम में गांधी जी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने पर नेहरू ने उन्हें कांग्रेस का स्थायी सुपर प्रेसीडेंट (नेहरू आत्मकथा, पृ.132) कहा था। फिर धीरे-धीरे उनके संबंध गहरे होते गये थे। परंतु यह भी सत्य है कि दोनों व्यक्तिगत जीवन तथा वैचारिक दृष्टि से एक-दूसरे के विपरीत थे। गांधी जी पूर्ण हिन्दू थे, उनकी हिन्दू धर्म, हिन्दू संस्कृति तथा हिन्दू धर्म ग्रंथों के प्रति गहरी आस्था थी जबकि नेहरू हिन्दू होते ह

देश को वोट बैंक वाला सेक्युलरिज्म नहीं चाहिए : नरेंद्र मोदी

इमेज
देश को सरदार पटेल वाला सेक्युलरिज्म चाहिए, वोट बैंक वाला नहीं: नरेंद्र मोदी आज तक वेब ब्यूरो [Edited By: सौरभ द्विवेदी] | भरूच, 31 अक्टूबर 2013 | http://aajtak.intoday.in/story/we-need-sardar-patels-secularism-narendra-modi-1-745970.html बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को पटेल जयंती पर कहा कि देश को सरदार पटेल के सेक्युलरिज्म की जरूरत है, वोट बैंक के सेक्युलरिज्म की नहीं. वह गुजरात के भरूच में 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' के शिलान्यास कार्यक्रम में बोल रहे थे. प्रस्तावित सरदार पटेल की मूर्ति दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति होगी. इसकी ऊंचाई 182 मीटर होगी और इसका चेहरा नर्मदा बांध की ओर होगा. यह अमेरिका की मशहूर 'स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी' से दोगुना ऊंची होगी. 2500 करोड़ के खर्च वाली इस योजना को मोदी ने बड़ी चालाकी से प्रदेश के विकास, आकर्षण, देश के गौरव और पटेल के सपने से जोड़ा. उन्होंने संकेतों में कहा कि सरदार पटेल की यह प्रतिमा भारत को वैसा स्थान दिला सकती है जैसा चीन को उसके विकसित शहर शंघाई ने या जापान को बुलेट ट्रेन ने दिलाया. उन्होंने जोर देकर कहा कि भारत

अमेरिकी में दिवाली

इमेज
**अमेरिकी में दिवाली** अमेरिकी कांग्रेस में हिंदू पुजारियों के वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच अमेरिकी कांग्रेस में बुधवार को पहली बार दिवाली मनाई गई। जाने-माने भारतीय अमेरिकियों समेत दो दर्जन से अधिक सांसदों ने कैपिटल हिल पर पारंपरिक दीये जलाए। कांग्रेशनल कॉकस ऑन इंडिया एंड इंडियन अमेरिकन्स के दो सह अध्यक्षों एवं सांसदों जोए क्राउले और पीटर रोसकॉम ने भारतीय अमेरिकी समुदाय की बढ़ती मौजूदगी को ध्यान में रखते हुए कैपिटल हिल में अपनी तरह का यह पहला कार्यक्रम आयोजित किया। इस अवसर पर भारत-अमेरिकी साझेदारी की महत्ता पर भी प्रकाश डाला गया। प्रतिनिधि सभा में डेमोक्रेटिक पार्टी की नेता नैन्सी पेलोसी ने कहा कि मैं यहां दिवाली की शुभकामनाएं देने आई हूं। अमेरिका भारत का बहुत आभारी है, क्योंकि हमारा नागरिक अधिकार आंदोलन भारत के अहिंसा आंदोलन से प्रेरित था। क्राउले ने कहा कि यह वास्तव में एक ऐतिहासिक घटना है। रोसकॉम ने कहा कि जब हम भारत और अमेरिका के मजबूत होते संबंधों को देखते हैं तो हम पाते हैं कि ये बेहतरीन संबंध हैं और भविष्य के लिए फायदेमंद हैं।

सरदार वल्‍लभभाई पटेल,प्रधानमंत्री होते तो इतिहास कुछ ओर होता

इमेज
अहमदाबाद। सरदार वल्‍लभभाई पटेल संग्रहालय के उद्घाटन के अवसर पर भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और गुजरात के मुख्‍यमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक साथ मंच पर अपनी उपस्थिति दर्ज करवाई। इस दौरान गुजरात की राज्‍यपाल कमला बेनीवाल, केंद्रीय मंत्री प्रफुल्‍ल पटेल और कई पूर्व नेता मौजूद थे। इस अवसर पर मोदी ने कहा कि 'हम प्रधानमंत्री को इस अवसर पर आने के लिए धन्‍यवाद देते हैं और उन्‍होने जो गुजरात सरकार के विकास कार्यों की समय समय पर सराहना की, पुरस्‍कृत किया, उससे हमारा उत्‍साह बढ़ा। मोदी ने कहा कि आज भी हमारे देश के सामने आतंकवाद, नक्‍सलवाद जैसी बड़ी समस्‍याएं है, जिनसे हमें जूझना पड़ रहा है, ऐसे में जरूरी है कि हम अपने देश के युवाओं को सही दिशा दिखाएं जिससे कि वह हिंसा का रास्‍ता छोड़ सकें। हमें युवाओं को बताना होगा कि गोली और बंदूकों से देश और समाज की तरक्‍की नहीं होती है। मोदी ने सरदार पटेल के बारे में कहा कि वह सही मायने में भारत की एकता के प्रतीक हैं। उनके पास देश के विकास का एक मॉडल था। अगर वह देश के पहले प्रधानमंत्री होते तो देश का इतिहास आज कुछ दूसरा होता। हम यहां उन

पटना : पांच नहीं पांच हजार लोगों को मारने की थी साजिश

इमेज
हमनें आज सुबह ही कहा था कि मूल योजना हसंदों हजारों को भगदड़ मचा कर मारनें की थी यह भाजपा कि कुशल रणनीति रही कि उन्होंने भगदड़ नहीं मचानें दी। सायंकाल तक इस कि पुष्टि हो गई !! यह एक बहुत बड़ी साजिस हे मोदी की सभाओं को रोकनें की , इसकी पूरी ईमानदारी से जाँच होनी चहिये। इसके अलावा यह भारतीय लोकतंत्र पर हमला है।  उसे प्रभावित करनें कि कोशिस हे। पांच नहीं पांच हजार लोगों को मारने की थी साजिश, पढ़ें क्या थी योजना! राजेश कुमार ओझा   |  Oct 28, 2013 http://www.bhaskar.com/article/BIH-PAT-five-hadred-no-plans-to-kill-five-thousand-bihar-patna-news-4417835-PHO.html पटना। गांधी मैदान में पांच नहीं पांच हजार को मारने की योजना थी। इसलिए आतंकी गांधी मैदान की जगह मैदान के बाहर विस्फोट करा रहे थे। लेकिन नरेंद्र मोदी को देखने और सुनने आए लोगों के उत्साह के कारण इनके मंसूबे पर पानी फिर गया। सीरियल बम ब्लास्ट का मास्टर माइंड इम्तियाज ने गिरफ्तारी के बाद ये बात पटना पुलिस के सामने स्वीकार किया है। अपनी योजना को अंजाम देने के लिए इम्तियाज अपने छह सात साथियों के साथ पिछले कई दिनों से पटना में रूका था। पुल

सुनो केंद्र सरकार,मोदी की जान को खतरा वास्तव में है

इमेज
सुनो केंद्र सरकार , मोदी की जान को खतरा वास्तव में  है ……………… यह तो सच ही हे कि बिहार के मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने व्यक्तीगत द्वेष के चलते , राजधर्म निभाने में कोताही बरती , जो उन्हें बहुत महंगा पड़ा , आज उनकी निंदा  का मुख्यकारण यही रहा कि , उन्होंने अपनी जिम्मेवारी को गंभीरता से नहीं  लिया !! केंद्र सरकार भी यह कह कर पल्ला नहीं झाड़ सकती कि हमनें एलर्ट जारी कर दिया था , आप पर सूचना थी तो आपनें रोकने के लिए क्या किया !! सो गए या भूल गए !!!       अब यह भी ध्यान रहे कि " आप राजनैतिक द्वेष में यह मत भूल जाना कि मोदी जी की जान को बाकई में खतरा है और उनकी रक्षा करना आपका राजधर्म है !!!!!" 'मोदी आतंकियों के निशाने पर, 23 को बिहार पुलिस को भेजा गया अलर्ट' 2013-10-28 नई दिल्ली: बिहार में नरेंद्र मोदी की रैली में हुए सीरियल ब्लास्ट को लेकर नीतीश सरकार की पोल खुल गई है। जांच एजेंसी इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) के मुताबिक 23 अक्टूबर को बिहार पुलिस को आगाह किया गया था। आईबी के मुताबिक कई आतंकी संगठनों के निशाने पर मोदी हैं। आईबी ने बताया ये सुराग आईएम के पकड़े गए लोगों के

पटना हुंकार रैली में : विस्फोट से अप्रभावित नरेन्द्र मोदी

इमेज
पटना में मोदी ने नीतीश को अवसरवादी कहा पटना, 27-10-13 एजेंसी http://www.livehindustan.com रैली स्थल गांधी मैदान के पास विस्फोट से अप्रभावित नरेन्द्र मोदी ने अपने घोर विरोधी नीतीश कुमार पर करारा प्रहार करते हुए उनपर अवसरवादी तथा प्रधानमंत्री बनने का सपना पूरा करने के लिए जयप्रकाश नारायण, राममनोहर लोहिया तथा राज्य के लोगों को धोखा देने का आरोप लगाया।   राजग गठबंधन में जदयू के साथ रहने तक नीतीश कुमार द्वारा बिहार से दूर रखे जाने के बाद पहली बार बिहार आने पर भाजपा के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार ने भाजपा के साथ गठबंधन तोड़ने के लिए नीतीश को बार बार निशाना बनाया और कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री, कांग्रेस के साथ आंख मिचौली खेल रहे हैं जिसके खिलाफ उनके गुरु जयप्रकाश नारायण और लोहिया जीवन भर संघर्ष करते रहे क्योंकि वह प्रधानमंत्री बनने का सपना देख रहे हैं। लोगों से खचाखच भरे गांधी मैदान में हुंकार रैली को संबोधित करते हुए नरेन्द्र मोदी ने कहा कि जिसने जेपी (जयप्रकाश नारायण) को छोड़ दिया हो, वह बीजेपी को क्यों नहीं छोड़ सकता है। जिस व्यक्ति (जेपी, लोहिया) ने जीवन भर देश को कांग्रेस से मुक्त

नरेंद्र मोदी की रैली से पहले पटना में सीरियल ब्लास्ट

इमेज
यह नितीश सरकार की सबसे बड़ी विफलता है ! दूसरे नितीश और कांग्रेस से निष्पक्ष जाँच की आशा नही की जा सकती। पूरे मामले की जांच न्यायालय की देख रेख में होनी चाहिए । - अरविन्द सिसोदिया नरेंद्र मोदी की रैली से पहले पटना में सीरियल ब्लास्ट Published: October 27, 2013 नरेंद्र मोदी की हुंकार रैली से पूर्व रेलवे स्टेशन के परिसर में स्थित शौचालय में पहला धमाका हुआ, जहां घायल हुए शख्स ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। रैली के स्थान गांधी मैदान में एक के बाद एक पांच बम धमाके हए। सभी धमाके देसी बम से किए गए। रविवार को बिहार में गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी की सभा से पहले हुए सीरियल बम ब्लास्ट ने प्रशासन में खलबली मचा दी। किसी अनहोनी की आशंका के चलते प्रशासन सतर्क हो गया। क्षेत्राधिकारी राजेश चौधरी के नेतृत्व में रोडवेज बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और शहर के प्रमुख मंदिर, मस्जिदों की चेकिंग कराई गई। मंदिर-मस्जिदों के बाहर पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया। ---------------------------- पटना विस्फोट की जांच एनएसजी, एनआईए के जिम्मे Bhasha, अक्टूबर 27, 2013 नई दिल्ली: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री आरपी

राजस्थान की कांग्रेस सरकार में मंत्री रहते हुए बाबूलाल नागर ने , महिला से अबैध संबंध कबूले

इमेज
राजस्थान की कांग्रेस सरकार में मंत्री रहते हुए बाबूलाल नागर ने , महिला से अबैध संबंध कबूले  नागर को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया है नागर ने कबूला, साढ़े 3 साल से थे रेप पीड़िता से संबंध आईबीएन-7 | Oct 25, 2013    http://khabar.ibnlive.in.com/news/110660/12 जयपुर। बलात्कार के आरोपों से घिरे अशोक गहलोत सरकार के पूर्व मंत्री बाबूलाल नागर को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया गया है। 6 घंटे की लंबी पूछताछ के बाद सीबीआई ने नागर को गिरफ्तार किया है। नागर ने गिरफ्तारी के बाद ये मान लिया कि पीड़िता से उसके शारीरिक संबध थे, लेकिन बलात्कार के आरोपों से इंकार किया। सीबीआई शनिवार को नागर को कोर्ट में पेश करेगी। नागर पर पीड़ित महिला के साथ बलात्कार और बाद में धमकी देने का आरोप है। दरअसल सीबीआई ने शुक्रवार को नागर से जयपुर के सर्किट हाउस में पूछताछ की। पूछताछ की वीडियो रिकार्डिंग की गई है। वहीं नागर का कहना है कि बलात्कार का आरोप गलत है। हालांकि उन्होंने कहा कि करीब साढ़े तीन साल से उनके इस महिला के साथ अवैध संबंध थे।

झांसी में लगाये , राहुल की बॉलिंग पर मोदी ने छक्के ....

इमेज
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गत कुछ आम सभाओं में जितने भी मुद्दे जनता के बिच डाले थे अर्थात क्रिकेट की भाषा में बोलिंग की थी उन सभी पर भाजपा नेता नरेंद्र मोदी ने झांसी की आम सभा में जोरदार जबावी हमले बोले , कटघरे में खड़ा किया अर्थात क्रिकेट की भाषा में छक्के उडाये। झांसी में लगाये , राहुल की बॉलिंग पर मोदी ने छक्के http://abpnews.newsbullet.in/ind/34/57888 'ISI कनेक्शन वाले युवकों का नाम बताएं, नहीं तो माफी मांगे राहुल' एबीपी न्यूज  Friday, 25 October 2013 झांसी. गुजरात के मुख्यमंत्री और बीजेपी की तरफ से पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी यूपी के झांसी में राहुल गांधी पर जमकर बरसे. उन्होंने अपने भाषण की शुरुआत करते हुए कहा कि उनका सौभाग्य है कि उन्हें इस वीरभूमि से आशीर्वाद लेने का मौका मिला है.राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि वह आज रोने नहीं आए हैं. वह आपके आंसू पोछने आया हूं. कानपुर की रैली में जिस तरह से मोदी ने क्षेत्रीय समस्याओं को तवज्जो दी थी, उसके बाद अब झांसी में भी बुंदेलखंड के स्थानीय मुद्दों को उठाया. उन्होंने कहा कि यहां नदियां बह

प्याज की बंपर पैदावार, फिर कीमतें क्यों बढ़ीं?

इमेज
प्याज के बढ़ते दामों के चलते यह आम लोगों की पहुंच से बाहर हो गया है। ओडिशा के पुरी तट पर लोगों के इसी दर्द को सुदर्शन पटनायक ने कुछ यूं दर्शाया। पटनायक रेत पर कलाकृतियां बनाने के लिए मशहूर हैं। प्याज की बंपर पैदावार, फिर कीमतें क्यों बढ़ीं? प्याज: उत्पादन तो खूब बढ़ा फिर क्यों बढ़ीं कीमतें? टाइम्स न्यूज नेटवर्क | Oct 25, 2013, सुबोध वर्मा नई दिल्ली।। सच तो यह है कि यह बताना लगभग असंभव है कि प्याज की कीमतें आसमान क्यों छू रही हैं। पिछले 10 सालों में प्याज की पैदावार 42 लाख मीट्रिक टन (एलएमटी) से बढ़कर 163 एलएमटी पर पहुंच चुकी है। इसके बावजूद इसकी कीमतों में ऐसी वृद्धि हैरान करती है। कुल मिलाकर देखें तो एक दशक में प्याज की पैदावार में 300 फीसदी का उछाल आया है। इसी टाइम पीरियड की बात करें तो भारत की जनसंख्या में हर साल 1.7 फीसदी की वृद्धि हुई है। तो ऐसे में यह साफ है कि यदि पूरा देश केवल प्याज ही खा रहा हो, तो भी देश में पैदा हो रहा इतना प्याज आखिर जा कहां रहा है? नासिक के नैशनल हॉर्टिकल्चरल रिसर्च ऐंड डिवेलपमेंट फाउंडेशन के डेप्युटी डायरेक्टर एचआर शर्मा ने कहा कि इस साल

पद्मश्री मन्ना डे के निधन से एक युग का अंत

इमेज
बेंगलूर में ही होगा मन्ना डे का अंतिम संस्कार http://www.jagran.com/entertainment/bollywood-legendary-singer-manna-dey-dead-10817004.html                                                        ऐ मेरी जोहरा जबीं (फिल्म- वक्त) 24 Oct 2013 मन्ना डे के निधन से एक युग का अंत हो गया है। मन्ना डे को 1971 में पद्मश्री और 2005 में पद्म विभूषण से नवाजा जा चुका है। 2007 में उन्हें प्रतिष्ठित दादा साहब फाल्के पुरस्कार प्रदान किया गया। मन्ना डे ने यूं तो बॉलीवुड में हजारों गाने गाए। लेकिन उनके गाए दस गीत ऐसे हैं जिन्हें हमेशा से याद किया जाता रहा है। बेंगलूर। मन्ना डे का अंतिम संस्कार बेंगलूर में ही होगा। उनके परिवार ने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की उनका शव कोलकाता लाकर अंतिम संस्कार करने की अपील ठुकरा दी है। मन्ना का पैतृक घर भी कोलकाता में हैं और उनका जन्म भी इसी शहर में हुआ था। गुजरे दौर के मशहूर गायक मन्ना डे का बुधवार देर रात करीब साढ़े तीन बजे बेंगलूर में निधन हो गया था। आज दोपहर को 2 बजे उनका अंतिम संस्कार कर दिया जाएगा। वह 94 वर्ष के थे। उन्हें छाती में संक्रमण की शिकायत के

राजमाता से लोकमाता : आदरणीय विजयाराजे सिंधिया

इमेज
*** आदरणीय राजमाता सिंधिया की जयंती *** करबा चौथ   **** 12 अक्टूबर 1919 ***** **** 25 जनवरी ,  2001  पुण्य तिथि  *****     सम्मानीया ग्वालियर राजघराने की बहू और फिर देश की लोकप्रिय नेत्रियों में शुमार प्रखर राष्टवादी एवं धर्मनिष्ठ माननीया विजयाराजे जी सिंधिया यानी राजमाता का जन्म करवा चौथ (तिथि के अनुसार) 1919 ई. में, सागर, मध्य प्रदेश के राणा परिवार में हुआ था। सम्मानीया विजयाराजे सिंधिया के पिता श्री महेन्द्रसिंह जी ठाकुर जालौन जिला के डिप्टी कलेक्टर थे, उनका विवाह के पूर्व का नाम "लेखा दिव्येश्वरी" था। उनका विवाह 21 फरवरी 1941 ई में ग्वालियर के महाराजा सम्मानीय जीवाजी राव जी सिंधिया से हुआ था।  और  25 जनवरी ,  2001  में राजमाता विजयाराजे सिंधिया का निधन हो गया।|  राजमाता साहिबा के पांच संताने हुई, जिसमें प्रथम सम्मानीया पदमावती राजे सिंधिया, द्वितीय सम्मानीया ऊषा राजे सिंधिया, तृतीय सम्मानीय माधवराव सिंधिया, चतुर्थ सम्मानीया वसुंधरा राजे सिंधिया, पंचम सम्मानीया यशोधरा राजे सिंधिया ! राजमाता जी का आदर्श जीवन, सिद्धान्त और लोकसेवा भाव लाखों लोगों को प्

स्वस्थ प्रजातंत्र के लिए शतप्रतिशत मतदान : परम पूज्य सरसंघचालक डॉ. भागवत

इमेज
स्वस्थ प्रजातंत्र के लिए शत प्रतिशत मतदान जरूरी : परम  पूज्य सरसंघचालक Newsbharati      Date: 13 Oct 2013   http://vskkashi.blogspot.in/2013/10/blog-post.html नागपुर, अक्टूबर  13 : सामान्य नागरिकों के लिए चुनाव राजनीति नहीं है वरन वह उसके अनिवार्य प्रजातांत्रिक कर्तव्य निभाने का अवसर है। इसलिए मतदान करते समय मतदाता के रूप में नागरिकों द्वारा दलों की नीति व प्रत्याशी के चरित्र का सम्यक् समन्वित दृष्टि से मूल्यांकन करना चाहिए। नागरिकों के लिए चुनाव को महत्वपूर्ण मानते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने कहा कि सामान्य जनता को किसी छल, कपट अथवा भावना के बहकावे में नहीं आना चाहिए, बल्कि राष्ट्रहित की नीति पर चलनेवाले दल तथा सुयोग्य सक्षम प्रत्याशी को देखकर मतदान करना चाहिए। 100 प्रतिशत मतदान होना प्रजातंत्र के स्वास्थ्य को पोषित करता है। डॉ. भागवत संघ के विजयादशमी उत्सव के कार्यक्रम में सभा को सम्बोधित कर रहे थे। नागरिकों के चुनावी समय के कर्तव्य पर जोर डालते हुए सरसंघचालक ने कहा कि उदासीनता को त्यागकर इस दिशा में होनेवाले सभी प्रयासों में चुनाव क