पोस्ट

2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अंग्रेजी राजा जोर्ज पंचम के गुणगान में गाया गया था : जन गण मन अधिनायक

  राष्ट्र गान या गुलामी का गीत (जन गण मन की कहानी) पोस्टेड ओन: 9 Nov, 2011 http://roshni.jagranjunction.com सन 1911 तक भारत की राजधानी बंगाल हुआ करता था। सन 1905 में जब बंगाल विभाजन को लेकर अंग्रेजो के खिलाफ बंग-भंग आन्दोलन के विरोध में बंगाल के लोग उठ खड़े हुए तो अंग्रेजो ने अपने आपको बचाने के लिए के कलकत्ता से हटाकर राजधानी को दिल्ली ले गए और 1911में दिल्ली को राजधानी घोषित कर दिया। पूरे भारत में उस समय लोग विद्रोह से भरे हुए थे तो अंग्रेजो ने अपने इंग्लॅण्ड के राजा को भारत आमंत्रित किया ताकि लोग शांत हो जाये। इंग्लैंड का राजा जोर्ज पंचम 1911 में भारत में आया। रविंद्रनाथ टैगोर पर दबाव बनाया गया कि तुम्हे एक गीत जोर्ज पंचम के स्वागत में लिखना ही होगा। उस समय टैगोर का परिवार अंग्रेजों के काफी नजदीक हुआ करता था, उनके परिवार के बहुत से लोग ईस्ट इंडिया कंपनी के लिए काम किया करते थे, उनके बड़े भाई अवनींद्र नाथ टैगोर बहुत दिनों तक ईस्ट इंडिया कंपनी के कलकत्ता डिविजन के निदेशक (Director) रहे। उनके परिवार का बहुत पैसा ईस्ट इंडिया कंपनी में लगा हुआ था। और खुद रविन्द्र नाथ टैगोर की बहुत

अटल बिहारी वाजपेयी और मदन मोहन मालवीय को भारत रत्न

इमेज
पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी और मदन मोहन मालवीय को जन्म दिन पर भारत रत्न का तोहफा By  एबीपी न्यूज़   Thursday, 25 December 2014 नई दिल्ली: आज भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और मदन मोहन मालवीय का जन्मदिन है. जन्मदिन से पहले भारत सरकार ने दोनों को भारत रत्न दिए जाने का एलान किया है. वाजपेयी और मदन मोहन मालवीय को गणतंत्र दिवस यानि 26 जनवरी के मौके पर देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया जाएगा. अटल बिहारी वाजपेयी आज 90 साल के हो जाएंगे तो वहीं काशी हिंदू विश्वविधालय के संस्थापक पंडित मदनमोहन मालवीय का आज 153वां जन्मदिन है. बुधवार को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ट्वीट कर यह जानकारी दी.   राष्ट्रपति  प्रणब मुखर्जी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर ट्वीट कर भारत रत्न दिए जाने का एलान किया. लोकसभा चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने बीएचयू की स्थापना करने वाले मालवीय को भारत रत्न देने का वादा किया था. आपको बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी एनडीए के शासन काल में प्रधानमंत्री थे. मई 1996 में वाजपेयी 13 दिन के लिए पीएम बने थे फिर 1998 में 13 महीने के लिए

भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है 'भारत रत्न'

इमेज
नई दिल्ली। भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान है 'भारत रत्न'। यह सम्मान राष्ट्रीय सेवा के लिए दिया जाता है। इन सेवाओं में कला, साहित्य, विज्ञान, सार्वजनिक सेवा और खेल शामिल है। इस सम्मान की स्थापना 2 जनवरी 1954 में भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री राजेंद्र प्रसाद द्वारा की गई थी। अन्य अलंकरणों के समान इस सम्मान को भी नाम के साथ पदवी के रूप में प्रयुक्त नहीं किया जा सकता। प्रारम्भ में इस सम्मान को मरणोपरांत देने का प्रावधान नहीं था, यह प्रावधान 1955 में बाद में जोड़ा गया। तत्पश्चात 12 व्यक्तियों को यह सम्मान मरणोपरांत प्रदान किया गया। सुभाष चन्द्र बोस को घोषित सम्मान वापस लिए जाने के उपरान्त मरणोपरान्त सम्मान पाने वालों की संख्या 11 मानी जा सकती है। एक वर्ष में अधिकतम तीन व्यक्तियों को ही भारत रत्न दिया जा सकता है। पदक मूल रूप में इस सम्मान के पदक का डिजाइन 35 मिमि गोलाकार स्वर्ण मैडल था। जिसमें सामने सूर्य बना था, ऊपर हिन्दी में भारत रत्न लिखा था और नीचे पुष्प हार था। और पीछे की तरफ राष्ट्रीय चिह्न था। फिर इस पदक के डिजाइन को बदल कर तांबे के बने पीपल के पत्ते पर प्लेटिनम

आज अटलजी से बेहतर भारत रत्न कौन : डा. वेदप्रताप वैदिक

इमेज
आज अटलजी से बेहतर भारत रत्न कौन ! लेखक - डा0 वेदप्रताप वैदिक  लिंक  http://www.vpvaidik.com/atalji-se-behtar-bharat-ratan-kyon नया इंडिया, 25 दिसंबर 2014:  आज के दिन भारत रत्न के लिए श्री अटलबिहारी वाजपेयी से बेहतर उम्मीदवार कौन हो सकता था और उनको यह सम्मान कॉंग्रेस सरकार देती तो उससे बेहतर क्या होता? लेकिन यह श्रेय मोदी सरकार को ही मिलना था। अब तक कॉंग्रेसी अटल बिहारी वाजपेयी को ‘गलत पार्टी में सही आदमी’कहते रहे| उन्होंने वह मौका खो दिया, कि वे इस ‘सही आदमी’ के सिर पर ताज़ रख देते| अटलजी अभी भाजपा में हैं या नहीं, इसका कोई खास मतलब नहीं रह गया है और अब वे सक्रिय राजनीति करेंगे, इसकी भी कोई संभावना नहीं रह गई है| ऐसे में कॉंग्रेस अपने पुराने व्यंग्य को उलट सकती थी| वह कह सकती थी कि ‘सही आदमी सही जगह’ पर है याने अटलजी भारत-रत्न हैं| वैसे भी आज देश में जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी के कद का कोई नेता नहीं है| इन दोनों महान नेताओं का कोई सच्चा उत्तराधिकारी है तो वह अटलबिहारी वाजपेयी ही है| नेहरू की पहचान लोकतंत्र से और इंदिरा गॉंधी की पहचान शक्ति-पूजा से है| अटलजी नेहरू के

पाकिस्तान तो भारत भूमि ही है - परम पूजनीय सरसंघचालक श्री मोहन भागवतजी

इमेज
राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के परम पूजनीय सरसंघचालक श्री मोहन भागवत जी ने कलकत्ता में विश्व हिन्दू परिषद् के स्वर्ण जयंती वर्ष समारोह के अन्तरगत आयोजित सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि हमने पूरी दुनिया का मंगल करने का संकल्प किया है | उन्होंने कहा कि हिन्दू समाज जब-जब मन से संकल्प करता है, उस संकल्प को अवरुद्ध करने की शक्ति दुनिया में किसी की नहीं होती | क्योंकि हिन्दू समाज का संकल्प सत्य संकल्प होता है | सबका मंगल करने वाला संकल्प होता है | किसी के विरोध में वह संकल्प नहीं होता है | अपने पवित्र हिन्दू धर्म, हिन्दू संस्कृति व् हिन्दू समाज के संरक्षण तथा उसकी सर्वांगींण उन्नति का वह संकल्प होता है | और इतिहास साक्षी है, कि जब-जब हिन्दू समाज की उन्नति हुई है, तब-तब सब प्रकार के संत्राशो से आसमानिया सुलतानी संकटो से त्रस्त दुनिया को सुख-शांति का नया रास्ता मिला है | हम लोगो ने आज जो संक्ल्प लिया है वो सत्य संकल्प है | हम लोग संकल्प करते है, उल्टी-सीधी चर्चा करने वाले दुनिया में लोग है | उससे अपने मन में शंका नहीं लाना | यहाँ पर हम लोग सम्मलेन कर रहे है | हमारे कार्यकर्तागन हमारे लि

Vande Mataram: Language of every Bhartiya's heart-Param Poojniya SarSanghchalak Shri Mohan Bhagwat ji

इमेज
Param Poojniya SarSanghchalak Shri Mohan Bhagwat ji releasing the book "Samagra Vande Matram". The book is a detailed account of Bankim Chandra Chatterjee's works.          "We should definitely read this book. We keep the Bhagwad Gita at home. Similarly this tome should also be kept at home and read daily," said Bhagwat ji. He added that Vande Mataram is not merely two words rather a mantra which remained on the lips of our freedom fighters till their end. "Vande Mataram is a term that denotes the language of every Bhartiya's heart. And this is why everyone understands it," he said. Bankim Chandra's descendant Shantanu Chattopadhyay was honoured on the occasion.

चित्तौड़गढ़ दुर्ग को बचाने की मांग

इमेज
                                   चित्तौड़गढ़ दुर्ग को बचाने की मांग तारीख: 20 Dec 2014 हिन्दू जागरण मंच के एक प्रतिनिधिमंडल ने गत दिनों जयपुर में राजस्थान के विधि मंत्री राजेन्द्र सिंह राठौड़, खनन मंत्री राजकुमार रिणवा और धरोहर संरक्षण संस्थान के अध्यक्ष औंकारसिंह लखावत से मिलकर विश्व संरक्षित धरोहर चित्तौड़गढ़ दुर्ग को बचाने की मांग की है। मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रतापभानु सिंह शेखावत ने बताया कि दुर्ग के चारों ओर अबाध गति से खनन हो रहा है। खनन में भारी मशीनरी और बेहताशा विस्फोटक के उपयोग से हो रहे कम्पन से दुर्ग की दीवारों में जगह-जगह दरारें आ गई हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से यदि तत्काल खनन नहीं रोका गया तो ऐतिहासिक दुर्ग कुछ वषोंर् में पूरी तरह से ढह सकता है। चित्तौड़गढ़ दुर्ग करीब एक हजार वर्ष पुराना है। इसी दुर्ग में कई शौर्य एवं पराक्रम की गाथाएं लिखी गई हैं। यह मेवाड़ के महानायक जैसे-महाराणा हमीर, महाराणा सांगा, महाराणा प्रताप, पन्ना धाई, मीरा बाई इत्यादि की कर्मभूमि रहा है।

भारत की जमीन है पाकिस्तान - संघ प्रमुख परमपूज्य मोहनजी भागवत

इमेज
     भारत की जमीन है पाकिस्तान- आरएसएस प्रमुख परमपूज्य मोहन जी भागवत aajtak.in [Edited By: रंजीत सिंह] | कोलकाता, 20 दिसम्बर 2014 http://aajtak.intoday.in/story/rss-top-boss-adds-fuel-to-the-conversion-fire-mohan-bhagwat धर्मांतरण पर संघ की ओर से अब तक का सबसे बड़ा बयान आया है. आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने घर वापसी को सही ठहराया. उन्होंने पाकिस्तान को भारत की जमीन बताया और कहा कि पाकिस्तान परमानेंट नहीं है. केंद्र द्वारा प्रस्तावित धर्मांतरण विरोधी बिल की वकालत करते हुए भागवत ने विपक्षी दलों से कहा कि अगर वे धर्म परिवर्तन पसंद नहीं करते तो संसद में कानून बनाने में सहयोग करें. उन्होंने कहा कि अगर कोई हिंदू नहीं बनना चाहता तो इसी तरह हिंदुओं का भी धर्म परिवर्तन नहीं किया जाना चाहिए. भागवत ने यहां एक हिंदू सम्मेलन में कहा, 'हम हिंदू समाज बनाने का प्रयास कर रहे हैं. जो लोग भटक गए हैं वे खुद से नहीं गए. उन्हें लालच दिया गया और उन्हें जबरन ले जाया गया. जब चोर पकड़ा जा रहा है और मेरी संपत्ति बरामद हो गई है, जब मैं अपनी संपत्ति वापस ले रहा हूं तो इसमें नया क्या है?' उन्होंन

पंडित मदनमोहन मालवीय - अनिता शर्मा

इमेज
                                    पंडित मदनमोहन मालवीय  - अनिता शर्मा  http://www.achhikhabar.com_madan-mohan-malviya अनेक महापुरुषों एवं विभूतियों ने भारतवर्ष को अपने श्रेष्ठ कार्यों एवं सद्व्यवहार से गौरवान्वित किया है। युगपुरुष मदन मोहन मालवीय उन्ही में से एक महापुरूष, अपनी विद्वता, शालीनता, और विनम्रता की असाधारण छवी के कारण जन-जन के नायक थे। अंग्रेज जज तक उनकी तीव्र बुद्धि पर आश्चर्य प्रकट करते थे। अपने जीवन-काल में पत्रकारिता, वकालत, समाज-सुधार, मातृ-भाषा तथा भारतमाता की सेवा में अपना जीवन अर्पण करने वाले महामना, मदन मोहन मालवीय जी इस युग के आदर्श पुरुष थे। उनकी परिकल्पना ऐसे विद्यार्थियों को शिक्षित करके देश सेवा के लिए तैयार करने की थी, जो देश का मस्तक गौरव से ऊचा कर सकें। ऐसी महान विभूती पंडित महामना मदनमोहन मालवीय का जन्म भारत के उत्तरप्रदेश के इलाहाबाद शहर में २५ दिसम्बर सन १८६१ को एक साधारण परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम ब्रजनाथ और माता का नाम भूनादेवी था। चूँकि ये लोग मालवा के मूल निवासी थे, अतः मालवीय कहलाए। राष्ट्रीय नेताओं में अग्रणी मालवीय जी को शिक्ष

'ड्रग्स फ्री इंडिया' - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

इमेज
पीएम ने की 'ड्रग्स फ्री इंडिया' अभियान चलाने की अपील नवभारतटाइम्स.कॉम | Dec 14, 2014 नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को आकाशवाणी पर 'मन की बात' में ड्रग्स का मुद्दा उठाया। उन्होंने 'ड्रग्स फ्री इंडिया' का आह्वान करते हुए कहा कि नशे की लत से परिवार के साथ-साथ समाज भी बर्बाद हो रहा है। पीएम कहा कि नशे की रोकथाम के लिए एक हेल्पलाइन भी बनाई जाएगी। उन्होंने ड्रग्स के तीन नुकसान बताए -  D-डिस्ट्रक्शन, डिवस्टेशन और डार्कनेस लेकर आता है। प्रधानमंत्री ने कहा कि अक्सर नशा करने वाले बच्चों को खराब इंसान मान लिया जाता है, लेकिन असल में बच्चों में कोई कमी नहीं होती। कुछ विशेष कारणों के चलते वे नशे की गिरफ्त में चले जाते हैं। प्रधानमंत्री ने अभिभावकों को सलाह दी कि बच्चा अगर नशा कर रहा है तो उसे फटकार लगाने के बजाय प्यार से समझाएं। आतंकियों के पास जाता है ड्रग्स का पैसा पीएम ने कहा, 'नशे की हालत में युवाओं को कुछ देर के लिए जरूर सुकून का अहसास होता होगा। लेकिन क्या आपने यह सोचा है कि ड्रग्स का यह पैसा कहां जाता है। यह पैसा आतंकवादियों के हथिया

लोंगेवाला पोस्ट पर 2000 पाकिस्तानी सैनिकों पर भारी पड़े थे 120 भारतीय जवान

इमेज
1971: लोंगेवाला पोस्ट पर 2000 पाकिस्तानी सैनिकों पर भारी पड़े थे 120 भारतीय जवान dainikbhaskar.com | Dec 07, 2014 नई दिल्ली: 1971 में भारत और पाकिस्तान के बीच छिड़ी जंग में राजस्थान के लोंगेवाला पोस्ट पर हुआ संघर्ष एक टर्निंग प्वाइंट माना जाता है। भारत ने पाकिस्तान को यहां ऐसी धूल चटाई, जिसका दूरगामी असर उसके मनोबल पर पड़ा था। राजस्थान के थार के रेगिस्तान में भारत और पाकिस्तानी सेनाओं के बीच यह संघर्ष 4-5 दिसंबर को हुआ। लोंगेवाला पोस्ट आज 'इंडो पाक पिलर 638' के नाम से जाना जाता है। पाकिस्तान ने यहां सीमा से घुसने की कोशिश तो की, लेकिन कामयाब नहीं हो सका। इस जंग को 1997 की ब्लॉकबस्टर फिल्म 'बॉर्डर' में भी दिखाया गया है। इस फिल्म में सनी देओल ने जंग के हीरो रहे मेजर कुलदीप सिंह चांदपुरी का किरदार निभाया था। कुलदीप सिंह चांदपुरी को उनकी बहादुरी के लिए महावीर चक्र से सम्मानित किया गया। इस जंग में भारतीय पक्ष से 2 जवान शहीद हुए, जबकि पाकिस्तान को अपने 200 सैनिक गंवाने पड़े। इसके अलावा, उसके 34 टैंक और 500 से ज्यादा हथियारबंद वाहन बर्बाद हो गए। 2000 सैनिकों के साथ पाक ने क

अब रामलला को आजाद देखना चाहता हूं - हाशिम अंसारी

इमेज
बाबरी के मुकदमे से हटे मुद्दई हाशिम अंसारी नवभारत टाइम्स| Dec 3, 2014, फैजाबाद बाबरी मस्जिद मुकदमे के पैरोकार और मुद्दई हाशिम अंसारी अब केस की पैरवी नहीं करेंगे। उन्होंने मंगलवार को यह कहते हुए सबको चौंका दिया कि वह रामलला को आजाद देखना चाहते हैं। हाशिम ने यह भी साफ कर दिया कि वह छह दिसंबर को मुस्लिम संगठनों द्वारा आयोजित यौमे गम (शोक दिवस) में भी शामिल नहीं होंगे। वह छह दिसंबर को दरवाजा बंद कर घर में रहेंगे। हाशिम बाबरी मस्जिद पर हो रही सियासत से दुखी हैं। उन्होंने कहा कि रामलला तिरपाल में रह रहे हैं और उनके नाम की राजनीति करने वाले महलों में। लोग लड्डू खाएं और रामलला इलायची दाना यह नहीं हो सकता...अब रामलला को आजाद देखना चाहता हूं। हालांकि, बाबरी मस्जिद ऐक्शन कमिटी के संयोजक और यूपी के अपर महाधिवक्ता जफरयाब जिलानी को भरोसा है कि वह अंसारी को मना लेंगे। हाशिम ने कहा, 'बाबरी मस्जिद ऐक्शन कमिटी बनी थी मुकदमे की पैरवी के लिए। आजम खां तब साथ थे, अब वे सियासी फायदा उठाने के लिए मुलायम के साथ चल रहे हैं। मुकदमा हम लड़ें और फायदा आजम उठाएं! क्या जरूरत थी आजम को यह कहने

World Hindu Congress : RSS sarasanghchalak Shree Mohan Bhagwat Jii

इमेज
World Hindu Congress begins today, Mohan Bhagwat,Dalai Lama, Ashok Singhal in opening cermony 21 Nov 2014 New Delhi, November 21: RSS sarasanghchalak Mohan Bhagwat, Tibetan spiritual leader the Dalai Lama and VHP patron Ashok Singhal at World Hindu Congress, 2014 in New Delhi on Friday Emphasising that Indic tradition was, is and will always relevant to the world, Rashtriya Swayamsevak Sangh sarasanghchalak Mohan Bhagwat on Friday called upon the Hindu society to arise in unison. Addressing the inaugural ceremony of the three-day-long World Hindu Congress, 2014 in New Delhi, Bhagwat said, “The world has always needed Hindu thought or Indic tradition and will always continue to do so. It is the responsibility of Hindus to teach and guide the world.” Explaining the word ‘Hindu’, the RSS sarasanghchalak said, “Hindu is someone who sees unity in all human diversity.” Invoking Swami Vivekananda’s message — ‘Arise, awake and not stop till the goal is reached’ — Bhagwat said, “Hindus

राष्ट्रीय ध्वज में परिवर्तन के लिए न्यूजीलैंड में जनमत संग्रह

इमेज
राष्ट्रीय ध्वज में परिवर्तन के लिए न्यूजीलैंड में जनमत संग्रह By Live News Desk | Publish Date:29 Oct 2014 वेलिंगटन : राष्‍ट्रीय ध्‍वज में परिवर्तन को लेकर न्यूजीलैंड में जनमत संग्रह कराया जाएगा. प्रधानमंत्री जॉन की ने कहा कि राष्ट्रीय ध्वज में परिवर्तन किया जाए या नहीं, इस मुद्दे पर वर्ष 2016 में जनमत संग्रह कराया जाएगा. * जॉन की वर्तमान ध्वज को बदलने के प्रबल समर्थक प्रधानमंत्री जॉन की वर्तमान ध्वज को बदलने के प्रबल समर्थक हैं. इस ध्वज के एक कोने पर पूर्व औपनिवेशिक शक्ति ब्रिटेन का यूनियन जैक अंकित है. की ने एक बयान में कहा हमारा ध्वज हमारी राष्ट्रीय पहचान का सबसे महत्वपूर्ण प्रतीक है और मेरा मानना है कि न्यूजीलैंड वासियों के लिए यह सही समय है कि वह ध्वज का डिजाइन इस तरह बदलने पर विचार करें जिससे एक आधुनिक, स्वतंत्र राष्ट्र के तौर पर हमारी पहचान बेहतर तरीके से जाहिर हो. पूर्व में की कह चुके हैं कि वह चाहेंगे कि नये ध्वज में काली पृष्ठभूमि में चांदी की तरह चमकीला एक पौधा हो. न्यूजीलैंड की कई टीमों ने ऐसे बैनर का उपयोग किया है. पिछले महीने हुये आम चुनाव में तीसरी बार जीत दर्

राजस्थान में नगरीय निकायों के चुनाव 22 नवंबर 2014 को

इमेज
 राजस्थान में नगरीय निकायों के चुनाव  22 नवंबर 2014 को जयपुर। जयपुर नगर निगम सहित प्रदेश के 46 नगरीय निकायों में चुनाव के लिए मतदान 22 नंवबर को होगा। मतगणना जिला मुख्यालयों पर 25 नवंबर को होगी। राज्य निर्वाचन आयोग दोपहर में निकाय चुनाव का विस्तृत कार्यक्रम जारी कर दिया। इस बार निकाय प्रमुख के अप्रत्यक्ष रीति से करवाएं जाएंगे। निकायों का प्रमुख सीधी जनता नहीं, पार्षद चुनेंगे। चुनाव की घोषणा के साथ ही चुनाव वाले निकायों में आचार संहिता लागू हो गई। वर्तमान बोर्ड का कार्यकाल 26 नवंबर, 2014 को पूरा हो रहा है। निकाय चुनाव के लिए जहां भाजपा और कांग्रेस ने चुनावी तैयारियां कर ली हैं, वहीं निर्वाचन विभाग ने भी निकाय चुनाव की तैयारियों को अंतिम रूप दे दिया है। निर्वाचन विभाग के कार्यक्रम के अनुसार 22 नवंबर को मतदान और उसके बाद जिला स्तर पर मतगणना 25 नवंबर को होगी। मतगणना के बाद 26 नवंबर को निकाय अध्यक्ष के चुनाव होंगे। नगरीय निकाय में जयपुर नगर निगम के साथ ही जोधपुर, कोटा, बीकानेर और पहली बार गठित उदयपुर, भरतपुर नगर निगम के चुनाव हो रहे हैं। इसी के साथ 9 नगर परिषद और 31 नगर पालिकाओं

प्रधान मंत्री मोदी की चाय पार्टी में शिवसेना भी हुई शामिल,

इमेज
                                               प्रधान मंत्री मोदी की चाय पार्टी में शिवसेना भी हुई शामिल,                                                       मोदी ने गरीबों की मदद पर दिया जोर aajtak.in [Edited By: स्वपनल सोनल] | नई दिल्ली, 26 अक्टूबर 2014 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के घर रविवार को आयोजित एनडीए सांसदों की चाय पार्टी खत्म हो चुकी है. इस पार्टी में शिवसेना के सांसद भी मौजूद थे. पीएम ने पार्टी के दौरान अपने भाषण में स्वच्छ भारत अभियान की तारीफ की. मोदी ने कहा कि हमें गरीबों के हालात सुधारने की कोशिश करनी चाहिए. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जनधन योजना पर रिपोर्ट पेश की. बैठक का संचालन वेंकैया नायडू ने किया, जबकि आडवाणी ने भी सरकार के कामकाज की तारीफ की. अगले महीने होने वाले संसद के शीतकालीन सत्र से पहले प्रधानमंत्री की इस बैठक में सबसे खास नाराज चल रहे शिवसेना के सदस्यों का जुटना रहा. दिवाली के मौके पर बुलाई गई इस बैठक में शिवसेना के सदस्यों के आने से महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर बीजेपी और उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली इस पार्टी के बीच सहयोग की उम्मीदें बढ़ती दिख र

रक्षा क्षेत्र में 80 हजार करोड़ की परियोजनाएं मंजूर

        यू पी ए ने सेना को बहुत कमजोर कर दिया था, उन्हे रक्षा संसाधन ही नहीं दिये। आधुनिक रक्षा उपकरणों की खरीद ही नहीं की !! जिससे रक्षा मामले में भारत आस पडौस से पिछडा हुआ था। मोदी सरकार के इस निर्णय से भारतीय सेनायें रक्षा के मामले में आत्म निर्भर हो सकेगीं। रक्षा क्षेत्र में भी ‘मेक इन इंडिया’, 80 हजार  करोड़ की परियोजनाएं मंजूर aajtak.in [Edited By: महुआ बोस] | मुंबई, 25 अक्टूबर 2014              केन्द्र सरकार ने शनिवार को 80 हजार करोड़ रुपये की रक्षा परियोजनाओं को मंजूरी दे दी. लेकिन यहां भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘मेक इन इंडिया’ आह्वान का ध्यान रखा गया है. सरकार ने तय किया है कि छह पनडुब्बियों का स्वदेशी स्तर पर निर्माण किया जाएगा, जबकि 8000 इस्राइली टैंक रोधी गाइडेड मिसाइल और 12 उन्नत डोरनियर निगरानी विमान खरीदे जाएंगे. इन निर्णयों से पहले रक्षा मंत्री अरुण जेटली के नेतृत्व में रक्षा खरीद परिषद की दो घंटे से ज्यादा देर तक बैठक चली, जिसमें रक्षा सचिव, तीनों सेनाओं के प्रमुखों, डीआरडीओ प्रमुख एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने हिस्सा लिया. अधिकतर निर्णय नौसेना के अनूकुल

हिन्दु जगे तो विश्व जगेगा,मानव का विश्वास जगेगा

हिन्दु जगे तो विश्व जगेगा, यू टियूब लिंक https://www.youtube.com/watch?v=nLOEruUaWls हिन्दु जगेगा देश जगेगा हिन्दु जगे तो विश्व जगेगा मानव का विश्वास जगेगा भेद भावना तमस ह्टेगा समरसता अमर्त बरसेगा हिन्दु जगेगा विश्व जगेगा हिन्दु सदा से विश्व बन्धु है जड चेतन अपना माना है मानव पशु तरु गीरी सरीता में एक ब्रम्ह को पहचाना है जो चाहे जिस पथ से आये साधक केन्द्र बिंदु पहुचेगा ॥१॥ इसी सत्य को विविध पक्ष से वेदों में हमने गाया था निकट बिठा कर इसी तत्व को उपनिषदो में समझाया था मन्दिर मथ गुरुद्वारे जाकर यही ज्ञान सत्संग मिलेगा ॥२॥ हिन्दु धर्म वह सिंधु अटल है जिसमें सब धारा मिलती है धर्म अर्थ ओर काम मोक्ष की किरणे लहर लहर खिलती है इसी पुर्ण में पुर्ण जगत का जीवन मधु संपुर्ण फलेगा इस पावन हिन्दुत्व सुधा की रक्षा प्राणों से करनी है जग को आर्यशील की शिक्षा निज जीवन से सिखलानी है द्वेष त्वेष भय सभी हटाने पान्चजन्य फिर से गूंजेगा ॥३॥

'जब मैं कुर्सियां लगाता था' - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

इमेज
'जब मैं कुर्सियां लगाता था', पत्रकारों से बेबाक बोले पीएम मोदी Sat, 25 Oct 2014   नई दिल्ली। भाजपा कार्यालय में दिवाली मिलन कार्यक्रम के दौरान संपादकों और भाजपा कवर करने वाले पत्रकारों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 'मैं भी पहले कभी लोगों के इंतजार में यहीं पर कुर्सियां लगाया करता था। कुछ साल पहले तक मीडिया से हमारा नाता रहता था। वो दिन कुछ और थे, खुलकर बातचीत होती थी। इसका हमें सीधा लाभ गुजरात में मिला।' मोदी ने कहा, 'मैं कुछ रास्ता खोज रहा हूं कि मीडिया से हमारा रिश्ता कैसे गहरा हो। मोदी ने कहा कि मीडिया से कई जानकारी भी मिलती है और विजन भी मिलता है। मीडिया की हर घटना पर पैनी नजर होती है। पत्रकारों से पहले बहुत सारी बातें होती थीं, लेकिन अब मौका नहीं मिल पाता है।' साथ ही स्वच्छता अभियान पर मीडियाकर्मियों के सहयोग का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि सफाई पर जो कालम लिखे जा रहे हैं, वे अभूतपूर्व हैं। इसके पहले ऐसे कॉलम कभी नहीं लिखे गए। जितना स्वास्थ्य जरूरी है, उतना ही जरूरी है स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता। लोगों को एक साथ काम

भारत बनायेगा , चीन सीमा पर 54 नई चौकियां

भारत ने चीन को दिखाया ठेंगा, सीमा पर बनेंगी 54 नई चौकियां  24 Oct 2014 जागरण न्यूज नेटवर्क, ग्रेटर नोएडा। अरुणाचल प्रदेश से लगती सीमा पर सड़क निर्माण को लेकर चीन की आपत्तियों को दरकिनार करते हुए भारत ने इस सीमांत राज्य में 54 नई चौकियां बढ़ाने का एलान किया है। इसके अलावा सीमा पर अन्य निर्माण कार्यो के लिए 175 करोड़ रुपये के पैकेज की भी घोषणा की है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारत पड़ोसी मुल्कों से मधुर रिश्ते रखना चाहता है। इस दिशा में केंद्र सरकार ने मजबूती से कदम आगे बढ़ाए हैं। अगर चीन और पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आए तो उन्हें मुंहतोड़ जवाब दिया जाएगा। भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आइटीबीपी) के 53वें स्थापना दिवस पर शुक्रवार को आयोजित समारोह में राजनाथ सिंह ने कहा कि विश्व शांति के लिए भारत बातचीत के जरिये चीन के साथ सीमा विवाद को सुलझाने का प्रयास करता रहा है। एक बार फिर पाकिस्तान पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि पड़ोसी देश लगातार संघर्ष विराम का उल्लंघन कर रहा है। दिवाली के दिन भी सीमा पर घुसपैठ की कोशिश व गोलीबारी की गई, लेकिन सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने मुंहतोड़

विश्व की सबसे ऊंची सैन्य चोटी पर मोदी ने जवानों संग मनाई दिवाली

इमेज
विश्व  की सबसे ऊंची सैन्य चोटी पर मोदी ने जवानों संग मनाई   दिवाली 24 Oct 2014   नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सियाचिन के सैनिकों और कश्मीर के बाढ़ पीड़ितों के बीच दिवाली मनाई। विश्व की सबसे ऊंची व दुर्गम सैन्य चोटी पर तैनात सेना के जवानों को संबोधित किया और मिठाई बांटी। वे करीब एक घंटे तक सियाचिन में जवानों के बीच रहे। यहां से वे श्रीनगर गए, जहां उन्होंने बाढ़ पीड़ितों से मुलाकात की। सियाचिन स्थित बर्फ की ऊंची चोटियों से मोदी ने दीपावली के मौके पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को बधाई दी। मैं समझता हूं कि प्रणब दा को मिली बधाई में यह अनोखी होगी। उन्होंने कहा कि शायद पहली बार किसी प्रधानमंत्री को दिवाली के शुभ दिन हमारे जवानों के साथ समय बिताने का अवसर मिला है। देश के प्रहरियों की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि चाहे ऊंचाई हो या भीषण ठंड, हमारे सैनिकों को कोई नहीं रोक सकता। वे वहां खड़े हैं और देश की सेवा कर रहे हैं। वे हमें सही मायने में गौरवान्वित कर रहे हैं। उमर ने मांगी उदार मदद सियाचिन से प्रधानमंत्री श्रीनगर पहुंचे। एयरपोर्ट पर राज्यपाल एनएन वोहरा व

Diwali : "Row of Lights." - Swami Chidanand Saraswati

इमेज
 Diwali : "Row of Lights."  The time of Diwali is one of the most festive and beautiful times of the year. Diwali literally means a "Row of Lights." It is a time filled with light and love; a time when Indians all over the world rejoice. Diwali is celebrated on the thirteenth/fourteenth day in the dark half of Kartik (October - November); it is also known as Krishna Chaturdashi. It is the darkest night of the darkest period, yet it is a celebration of light! Diwali is heralded as the triumph of good over evil. The meanings of Diwali, its symbols and rituals, and the reasons for celebration are innumerable. Diwali celebrates Lord Rama's glorious and long-awaited return to his Kingdom of Ayodhya after his fourteen long years of exile in the forests. It commemorates Lord Krishna's victory over the demon Narakaasura who had kidnapped and terrorized the gopis of Vrindavan. When the evil Naraka was finally killed by Bhagwan Krishna and Satyabhaama, he beg