पोस्ट

दिसंबर 17, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

ईवीएम पुराण - अरविन्द सिसौदिया

चित्र
नई दिल्ली : ईवीएम हैकिंग के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. चुनाव आयोग ने इस मामले पर कोर्ट में कहा है कि अमेरिका की वोटिंग मशीन से भी बेहतर है भारत की ईवीएम, इसे हैक करना नामुमकिन है. आयोग ने ईवीएम में गड़बड़ी के आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि इसे कोई हैक कर ही नहीं सकता है. चुनाव आयोग ने ईवीएम को फुलप्रूफ बताया है और कहा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में पेपर ट्रेल के साथ 16 लाख से ज्यादा ईवीएम मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा. चुनाव आयोग ने यह भी भरोसा दिलाया है कि ये तकनीकी रूप से सक्षम ईवीएम मशीनों से आम चुनाव प्रक्रिया और भी पारदर्शी होगी. हालांकि चुनाव आयोग ने इस मुद्दे पर कुछ नहीं कहा है कि दिसंबर में होने वाले गुजरात चुनाव में EVM के साथ VVPAT का इस्तेमाल होगा या नहीं. EVM में गड़बड़ी के आरोपों पर आयोग ने कहा है कि तकनीकी सुरक्षा फीचर्स के साथ आयोग की ओर से प्रशासनिक स्तर पर उठाए गए कदम की वजह से EVM ना सिर्फ मतदान के वक्त फुलप्रूफ है बल्कि निर्माण के वक्त, स्टोरेज और ट्रांसपोर्टेशन के वक्त भी सुरक्षित है. चुनाव आयोग ने कहा है कि राजनीतिक पार्टियों ने