पोस्ट

अप्रैल 2, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

‘‘भेद रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’- सरसंघचालक परमपूज्य श्री मोहनराव भागवत

इमेज
‘‘भेद रहित समाज का निर्माण होने वाला है’’ - संघ के सरसंघचालक परमपूज्य श्री मोहनराव भागवत   दिंनाक: 27 Mar 2017 http://panchjanya.com फिर कोई अन्याय करने वाला खड़ा न होना सके— इसका इंतजाम होना चाहिए। यह सब इसलिए करना है ताकि संपूर्ण समाज एक हो सके। आपस में दुर्भावना बढ़ाने वाली भाषा नहीं होनी चाहिए। फिर व्यवस्था में इस दृृष्टि से जो-जो प्रावधान किए जाते हैं, या करने के सुझाव आते हैं, वे प्रावधान लागू हों। इस प्रक्रिया में सबको समाहित करते हुए, किसी की राह देखे बिना, नित्य व्यवहार में इसका प्रकटीकरण शुरू कर दें, तो फिर ये कार्य जल्दी हो जाएगा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक श्री मोहनराव भागवत के ‘एक मंदिर, एक श्मशान और एक कुआं’ के भेदभाव दूर करने के आह्वान ने सामाजिक समरसता और सौहार्द के लिए एक नई कार्य दिशा दिखाई है। संघ से बाहर के बहुत से लोग भी इस पहल का स्वागत कर रहे हैं। तृतीय सरसंघचालक बालासाहब देवरस, जिन्होंने इस सुधारवादी विचार को सामाजिक बल प्रदान करने हेतु जो  गति दी थी, उसे आज श्री भागवत आगे ले जा रहे हैं। कोयम्बटूर में संपन्न रा.स्व.संघ की अखिल भारतीय प्र