पोस्ट

मई 6, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बद्रीनाथ धाम

इमेज
6 मई 2017 को सुबह 4:15 पर बद्रीनाथ के कपाट खुलेंगे। नरेंद्रनगर में राजा मनुजयेंद्र शाह ने राजदरबार से तिथि की घोषणा की। पूजा अर्चना और मंत्रोचार के बाद पूरे विधि विधान से बाबा केदार के कपाट खुलने की तिथि घोषित की गई। ------------------ इतिहास के पन्नो से.....बद्रीनाथ धाम पौराणिक कथाओं और यहाँ की लोक कथाओं के अनुसार यहाँ नीलकंठ पर्वत के समीप भगवान विष्णु ने बाल रूप में अवतरण किया। यह स्थान पहले शिव भूमि (केदार भूमि) के रूप में व्यवस्थित था। भगवान विष्णुजी अपने ध्यानयोग हेतु स्थान खोज रहे थे और उन्हें अलकनंदा नदी के समीप यह स्थान बहुत भा गया। उन्होंने वर्तमान चरणपादुका स्थल पर (नीलकंठ पर्वत के समीप) ऋषि गंगा और अलकनंदा नदी के संगम के समीप बाल रूप में अवतरण किया और क्रंदन करने लगे। उनका रुदन सुन कर माता पार्वती का हृदय द्रवित हो उठा। फिर माता पार्वती और शिवजी स्वयं उस बालक के समीप उपस्थित हो गए। माता ने पूछा कि बालक तुम्हें क्या चहिये? तो बालक ने ध्यानयोग करने हेतु वह स्थान मांग लिया। इस तरह से रूप बदल कर भगवान विष्णु ने शिव-पार्वती से यह स्थान अपने ध्यानयोग हेतु प्राप्त कर