पोस्ट

जून 26, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

मायावती : सत्ता दुरउपयोग : 86 करोड़ रुपए से रिनोवेटेड बंगला, एक-एक खिड़की 15 लाख की

इमेज
मायावती: गरीब और दलितों के नाम पर वोट बटोरने वाली इस महिला ने भी सत्ता के दुरउपयोग में कोई कसर नहीं छोडी, रहने के बंगले पर किया गया खर्चा मुह आश्चर्य से खुला रखने के लिये पर्याप्त है। ये है मायावती का 86 करोड़ रुपए से रिनोवेटेड बंगला, एक-एक खिड़की 15 लाख की प्रकाशन तरीख : 09-May-2012 21:07:18 स्त्रोत: एजेंसी लखनऊ। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने राजधानी लखनउच्च् के 13 माल एवेन्यू स्थित अपने बंगले की मरम्मत के लिये राजकोष से 86 करोड़ रुपए से ज्यादा की धनराशि खर्च की है। राज्य के मौजूदा काबीना मंत्री शिवपाल सिंह यादव द्वारा सूचना का अधिकार :आरटीआई: के तहत मांगी गयी जानकारी में इस बात का खुलासा हुआ है। सूत्रों ने आज यहां बताया कि शिवपाल सिंह यादव ने मायावती के पूर्ववर्ती शासनकाल में नेता प्रतिपक्ष की हैसियत से दाखिल आरटीआई अर्जी में मायावती द्वारा अपने बंगले के लिये सरकारी धन खर्च किये जाने सम्बन्धी जानकारी मांगी थी। अब इस बारे में जाहिर की गयी जानकारी में खुलासा हुआ है कि मायावती ने अपने बंगले की मरम्मत और जीर्णोद्वार के लिये सरकारी कोष से 86 करोड़ रुपए खर्च किय

amarujala : नेताजी की मौत का सच क्यों छिपा रहे थे प्रणब?

इमेज
नेताजी की मौत का सच क्यों छिपा रहे थे प्रणब? नई दिल्ली/इंटरनेट डेस्क Tuesday, June 26, 2012 http://www.amarujala.com राष्ट्र पति पद के यूपीए उम्मीदवार प्रणब मुखर्जी पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत का सच छुपाने का आरोप लगाया गया है। पूर्व पत्रकार अनुज धर ने अपनी जल्द ही प्रकाशित होने वाली किताब में प्रणब मुखर्जी पर गंभीर आरोप लगाए हैं। किताब के मुताबिक आजाद हिंद फौज के संस्‍थापक सुभाष चंद्र बोस की मौत विमान हादसे में नहीं हुई थी। प्रणब मुखर्जी ने अपने विदेश मंत्री कार्यकाल के दौरान अपनी सीमा से बाहर जाकर इस सच को छुपाया। किताब के मुताबिक नेताजी ने आखिरी दिन कैसे गुजारे, इस पर पर्दा डालने में भी प्रणब मुखर्जी शामिल थे। सरकारी दस्तावेज के मुताबिक सुभाष चंद्र बोस की मौत 1945 में ताइवान में हुए विमान हादसे में हुई थी। अनुज धर की किताब में इस बात को नकारा गया है कि सुभाष चंद्र बोस के मौत विमान हादसे में हुई। यह किताब अम‌ेरिका और ब्रिटेन की गुप्त सूची से हटाए गए रिकॉर्ड और भारतीय प्रशासन के दस्तावेजों पर आधारित है, जिन्हें पिछले 65 सालों से सीक्रेट रखा गया। किताब में अनुज धर न