पोस्ट

नवंबर 1, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

समान जनसंख्या नीति का पुनर्निधारण हो - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ

इमेज
कार्यकारी मंडल की बैठक में जनसंख्या वृद्धि दर में असंतुलन की चुनौती पर प्रस्ताव पारित प्रस्ताव क्रमांक – एक रांची. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने रांची  में चल रही अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक के दूसरे दिन जनसंख्या असंतुलन को लेकर अहम प्रस्ताव पारित किया. बैठक में चर्चा के पश्चात जनसंख्या वृद्धि दर में असंतुलन की चुनौती पर प्रस्ताव पारित किया गया तथा सरकार से आग्रह किया कि जनसंख्या नीति का पुनर्निधारण कर सब पर समान रूप से लागू किया  जाए. जनसंख्या वृद्धि दर में असंतुलन की चुनौती देश में जनसंख्या नियंत्रण हेतु किए विविध उपायों से पिछले दशक में जनसंख्या वृद्धि दर में पर्याप्त कमी आयी है. लेकिन, इस सम्बन्ध में अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल का मानना है कि 2011 की जनगणना के पांथिक आधार पर किये गये विश्लेषण से विविध संप्रदायों की जनसंख्या के अनुपात में जो परिवर्तन सामने आया है, उसे देखते हुए जनसंख्या नीति पर पुनर्विचार की आवश्यकता प्रतीत होती है. विविध सम्प्रदायों की जनसंख्या वृद्धि दर में भारी अन्तर, अनवरत विदेशी घुसपैठ व मतांतरण के कारण देश की समग्र जनसंख्या विशेषकर सीमावर्ती क्षे

1984 : सिख नरसंहार : कांग्रेसी अन्याय की पराकाष्ठा

इमेज
शर्म? माफी? शर्म से झुका सर, मगर किसका? कांग्रेस की ओर से सोनिया गांधी परिवार को माफी मांगनी चाहिए थी, पर बेचारे मनमोहन सिंह को सामने कर दिया - तरुण विजय अगर लीपापोती की कोशिश नहीं होती तो नानावती आयोग की लचर और बेजान रपट पर इतनी बहस नहीं छिड़ती। 8 मई, 2000 को गठित नानावती आयोग ने 4 साल 9 महीने की कसरत के बाद 9 फरवरी, 2005 को केन्द्र सरकार को अपनी रपट सौंपी थी। पर नानावती रपट पर सरकार ने जो "कार्रवाई की गई" वाला काला अध्याय जोड़ा उसने सोनिया, सुरजीत, मनमोहन सिंह सरकार के समर्थकों को भी हिला दिया। सन् 1984 में 3000 सिखों का दिल्ली में कत्लेआम हुआ था। उस समय के तमाम कांग्रेसी नेता बेगुनाह सिख स्त्री-पुरुषों और बच्चों को मारने के वहशियाना उन्माद में सबसे आगे थे। दिल्ली की जनता ने सिखों पर हमला नहीं किया, यह बात ध्यान देने योग्य है। केवल और केवल कांग्रेसी नेताओं और उनके पिछलग्गुओं ने सिखों को मारा। और इतनी बेदर्दी से मारा कि इतिहास में उसकी मिसाल केवल औरंगजेब और अब्दाली के समय में ही मिल सकती है। लेकिन रोचक बात यह है कि राजीव गांधी जैसे प्रधानमंत्री और नरसिंहराव जैसे गृहम