सोमवार, 29 सितंबर 2014

अमेरिका से : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जीता दुनिया का दिल



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जीता अमेरिकी सांसदों का दिल
Bhasha 29 सितम्बर 2014 

न्यूयॉर्क:
अमेरिका दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सिर्फ प्रवासी भारतीयों का ही नहीं बल्कि लगभग 40 शीर्ष अमेरिकी सांसदों का दिल भी जीत लिया। इन सांसदों ने उनके शब्दों को ‘प्रेरणादायी और विहंगम दृष्टिकोण से परिपूर्ण’ बताया।  

मैडिसन स्क्वेयर में अपने भाषण के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा कि वह एक छोटे आदमी थे, जो ‘चाय बेचकर’ यहां तक पहुंचे हैं, लेकिन ‘छोटे लोगों के लिए बड़े काम’ करने की इच्छा रखते हैं। मोदी की इस बात को सुनकर वहां मौजूद कांग्रेस सदस्य उनके साथ एक खास जुड़ाव महसूस करने लगे।
---------------
मेडिसन स्क्वायर में मोदी के भाषण पर राजनेताओं की प्रतिक्रियाएं

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मेडिसन स्क्वायर में भाषण के बाद ट्विटर पर कई सारी प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं। इनमें न सिर्फ आम आदमी शामिल है बल्कि कई राजनेता और बॉलीवुड से जुड़े लोग भी शामिल हैं। ज्यादा प्रतिक्रियाओं में लोगों ने मोदी के इस भाषण की जबरदस्त तारीफ की है। पेश है उनके भाषण पर मिली कुछ खास प्रतिक्रियाएं:-
- कांग्रेस के नेता संजय निरूपम ने मोदी के भाषण पर प्रतिक्रिया स्वरूप ट्विटर पर लिखा है कि इसरो ने मंगलयान भेजने में सात रुपये प्रति किमी के हिसाब से खर्चा किया, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने अमेरिकी दौरे पर करीब सात लाख यूएस डालर खर्च किए। उन्हें यह बात भी अपने फालोअर्स को बतानी चाहिए।
- उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने मोदी के भाषण पर कहा है कि दुनिया में किसी भी कोने में बसे भारतीय उन्हें एक सही दिशा दिखाने वाले के साथ हमेशा खड़े रहे हैं।
- भाजपा नेता विजय गोयल का कहना था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हमेशा लोगों के सामने नई सोच लेकर आते हैं यही उनकी खासियत भी है। उनका कहना था कि मेडिसन स्क्वायर में भारत माता की जय की गूंज विदेशों में रहने वाले भारतीयों में देश भक्ति के जज्बे को दिखाने के लिए काफी है।
- बॉलीवुड अभिनेता कबीर बेदी ने मोदी को सलाम करते हुए उनके इस भाषण की जबरदस्त तारीफ की है। उनका कहना था कि जब मोदी ने कहा कि भाई मैं तो यहां पर चाय बेचते बेचते पहुंचा हूं, दिल को छूने वाला था।
- केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस भाषण को बेजोड़ बताया है।

- शाहनवाज हुसैन ने कहा कि मेडिसन स्क्वायर में दिया गया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का भाषण काबिले तारीफ था। पीएम के भाषण के बाद यहां मौजूद हजारों की भीड़ को इस बात का अहसास भी हो गया कि उनके सपनों का भारत बनना अब संभव है।

इस अवसर पर मौजूद अमेरिका के शीर्ष 40 सांसदों में से एक ने उन्हें एक ‘करिश्माई’ व्यक्ति बताया जबकि कई अन्य को लगा कि वे ‘देश का कायाकल्प उनके हाथों होना है’। न्यूनतम शासन पर उनके विचारों को भी सांसदों ने काफी पसंद किया।

जॉर्जिया से कांग्रेस सदस्य हैनरी सी ‘हैंक’ जॉनसन ने कहा, अब मैं समझा कि भारत के लोगों ने उन्हें क्यों चुना है? टैक्सॉस से कांग्रेस के सदस्य पेटे ओल्सन ने कहा, उनके पास एक परिपूर्ण दृष्टिकोण है। उनके पास उसे सच करने की योजना है। प्रधानमंत्री मोदी ने इस स्थान को एक रॉकस्टार की तरह भीड़ से भर दिया। मौजूदा प्रतिनिधि सभा में भारतीय मूल के एकमात्र अमेरिकी सांसद एमी बेरा ने मोदी के भाषण को प्रेरणादायी और विहंगम दृष्टिकोण से परिपूर्ण बताया।
बेरा ने कहा, आज भारतीय-अमेरिकी समुदाय जश्न मना रहा है। मैं अमेरिका और भारत के संबंध को पुनर्जीवित करने के लिए मिलकर काम जारी रखने की उम्मीद करता हूं। कांग्रेस की महिला सदस्य तुलसी गब्बार्ड ने कहा, न्यूयॉर्क के प्रसिद्ध मैडिसन स्क्वेयर गार्डन में जोश से भरी भीड़ को दिए उनके संबोधन में उनका शांति एवं मैत्री का संदेश सुनकर बहुत अच्छा लगा। प्रधानमंत्री को उनके होटल पर फोन करके उनसे बात करने वाली गब्बार्ड ने कहा, मोदी की यह यात्रा अमेरिका और भारत के बीच संबंध विकसित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण और सकारात्मक कदम है। यह संबंध हमारे साझा लोकतांत्रिक मूल्यों और आपसी समृद्धि एवं सुरक्षा पर किए जाने वाले फोकस पर आधारित है। प्रधानमंत्री और गब्बार्ड के बीच चर्चाएं मुख्यत: गब्बार्ड के भारत से जुड़ी रुचियों पर आधारित थीं।

गब्बार्ड ने प्रधानमंत्री को गीता भेंट की। उनका कहना था कि अमेरिकी प्रतिनिधि सभा का सदस्य चुने जाने पर उन्होंने गीता की शपथ ली थी।

न्यूयॉर्क से कांग्रेस की महिला सदस्य ग्रेस मेंग ने कहा, मैडिसन स्क्वेयर में प्रधानमंत्री मोदी का भाषण अपने आप में परिपूर्ण था। उन्होंने सभी सही विषयों को छुआ, सभी सही मुद्दों को उठाया और अमेरिका एवं भारत के संबंध को एक नई ऊंचाई पर ले आए। मेंग ने कहा, मैडिसन स्क्वेयर गार्डन के मंच पर होना और इस ऐतिहासिक एवं महत्वपूर्ण समारोह का हिस्सा बनना एक सम्मान की बात थी। मैं भारत और अमेरिका के बीच के संबंध को और भी अधिक मजबूत बनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी एवं उनके प्रशासन के साथ काम करने का इंतजार कर रही हूं।

व्योमिंग से कांग्रेस की महिला सदस्य सिंथिया ल्यूमिन्स ने मोदी को भारत के लिए एक परिवर्तनकारी शख्सियत बताया। मोदी के मुख्यमंत्रित्वकाल के दौरान सिंथिया ने पिछले साल उनसे गुजरात में मुलाकात की थी। उन्होंने कहा, मेरे पास बहुत कम भारतीय मूल के अमेरिकी मतदाता हैं, लेकिन मैं इस समारोह के लिए व्योमिंग से आई हूं, क्योंकि मुझे यकीन है कि भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए वे परिवर्तनकारी शख्सियत हैं। उन्होंने कहा कि सांसद उस समय उनसे बेहद प्रभावित हो गए थे, जब मोदी ने कहा कि वे एक छोटे आदमी हैं और छोटे लोगों के लिए बड़ी चीजें करना चाहते हैं।

उन्होंने कहा, वे मेरी ही तरह के व्यक्ति हैं, जो शासन को किसी (समस्या के) हल के रूप में नहीं देखते। वे देश के सुधार में सरकार को निर्देशक या नियंत्रक के बजाय सहयोग करने वाले की भूमिका में देखते हैं। एक रिपब्लिकन होने के नाते मैं भी इन्हीं चीजों में यकीन रखती हूं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें