संदेश

जून 30, 2021 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भारतीय डाक्टर्स डे - अरविन्द सिसौदिया , कोटा 9414180151

चित्र
                    भारतीय डाक्टर्स डे - अरविन्द सिसौदिया , कोटा 9414180151 कोरोना संक्रमण से लडाई जिन योद्धाओं ने लडी, सम्पूर्ण विश्व में उनमें अव्बल भारतीय चिकित्सक ही थे। दोनों लहरों को जिस तेजी से काबू किया और मृत्यु दर को लगभग रोक कर रखा तथा नागरिकों का जीवन बचाते हुये, हजारों चिकित्सक एवं चिकित्सा कर्मी एवं अन्य शहीद भी हो गये। हम उनका जीवन तो वापस नहीं ला सकते किन्तु उनके प्रति हमारी अनंत कोटी कृतज्ञता ही व्यक्त कर सकते हैं। उन्हे याद कर सकते है। ईश्वर उन्हे अपने धाम में स्थान दें। यह भारत की उस गौरवशाली परम्परा से ही संभव हुआ जिसमें चिकित्सक को ईश्वर माना जाता है। उनकीे ईश्वरतुल्य समाजसेवा के लिये भारत कोटि कोटि आभार ज्ञापित करता है। भारत में यूं तो हम कीरोडों वर्षों से दिन विशेष मनाते रहे है। पर्व त्यौहार भी इसी निमित्त मनाये जाते है। यूं भी पहला चिकित्सक ईश्वर ही है। उसने हमारे शरीर में स्वचलित स्वास्थय लाभ एवं स्वास्थ्य की क्षतीपूर्ती की व्यवस्था की है और वही हमें जन्म देती है, जीवन करे जिन्दा रखती है। समय समय पर जब शरीा संकट में पढता है जो वह उससे उवारती है। घाव को भरने वाल

डाक्टर्स डे : भारत में चिकित्सा शास्त्र का प्रारंभ..

चित्र
           आरोग्य के देव भगवान धनवन्तरी (भगवान विष्णुजी के अवतार) जिनकी पूजा धेनरस के दिन दिपावली पर होती है। भारत में सबसे बडा धन निरोगी काया को माना गया है। भारतीय शल्य चिकित्सा के सबसे बडा उदाहरण अग्रपूज्य गणेश जी है। जिनका मस्तक भगवान विष्णुजी ने कट जानें के बाद पुनः स्थापित किया था । दूसरा बडा जिक्र संजीवनी बूटी के रूप में रामायण में है।  भारत में चिकित्सा एवं विज्ञान के संदर्भ में जो पुरातन अविष्कार हैं आज उनकी संझिप्त चर्चा प्रासंगिक है। - अरविन्द सिसौदिया, कोटा 9414180151  ------- आरोग्य के देव भगवान धनवन्तरी मंत्र    ॐ नमो भगवते महासुदर्शनाय वासुदेवाय धन्वंतरये अमृतकलशहस्ताय सर्वभयविनाशाय सर्वरोगनिवारणाय त्रिलोकपथाय त्रिलोकनाथाय श्रीमहाविष्णुस्वरूपाय श्रीधन्वंतरीस्वरूपाय श्रीश्रीश्री औषधचक्राय नारायणाय नमः॥ अस्त्र    शंख, चक्र, अमृत-कलश और औषधि सवारी    कमल आरोग्य के देव भगवान धनवन्तरी..... हिन्दू धर्म में एक देवता हैं। वे महान चिकित्सक थे जिन्हें देव पद प्राप्त हुआ। हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ये भगवान विष्णु के अवतार समझे जाते हैं। इनका पृथ्वी लोक में अवतरण समुद्र मंथ