पोस्ट

मार्च 11, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

UPA : Bhagat Singh was a terrorist....!

इमेज
Sumit Saxena , Hindustan Times New Delhi, March 09, 2011 Court ttells ICSE panel to remove 'pffensive passages' A Delhi court has directed the Council of the Indian School Certificate Examination (CISCE) to exclude offensive citations of some of India’s most famous freedom fighters from its history and civics curriculum. The order is binding from the beginning of the next academic session in 1,793 schools acro  ss the country. The CISCE conducts the Indian Certificate for Secondary Education (ICSE) examination. According to the petition filed by Dina Nath Batra, national convener of Shiksha Bachao Andolan Samiti, the chapter titled Revival of Terrorism in Standard 10 history books casts a negative light on the freedom fighters. “Bal Gangadhar Tilak, Lala Lajpat Rai and Bipin Chandra Pal have been referred to as militants and extremists, while Bhagat Singh, Rajguru and Sukhdev as terrorists,” read the petition. There are similar passages in the civics book too. The books hav

प्रातः स्मरणीय क्रांतिकारियों को आतंकवादी कहनें से रोका न्यायालय नें ..

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया     विदेशी महीला सोनिया गांधी के नेतृत्त्व में चल रहे यूपीए सरकार के राज में क्या हो सकता है इसका यह उदहारण है कि हमारे प्रातः स्मरणीय स्वतंत्रता सेनानियों , शहीदों और क्रांतिकारियों को आतंकवादी बताया जा कर पढाया जा रहा है ..! सरकारों कि नजर में मामला आने के वावजूद कुछ  नहीं किया गया , आजकल तो अदालत ही गलतियों पर कान मरोड़ रही है ...! इस मामले में भी अदालत नें सम्मान सूचक शब्दों का प्रयोग करने का आदेश दिया है ..!    एक समाचार ........       आईसीएसई ने शहिद भगत सिंह को 'आतंकवादी', बताया, अदालत ने आपत्ति जताई दिल्ली की एक अदालत ने माध्यमिक शिक्षा (आईसीएसई) के भारतीय सर्टिफिकेट संस्थान को निर्देश दिया है कि अगले शैक्षिक सत्र से इतिहास व समाज शास्त्र की पुस्तकों में स्वतंत्रता सैनानियों के लिए अपमानसूचक संदर्भों को हटा दें. आतंकवाद के पुनरुद्धार - - गोयल ब्रदर्स प्रकाशन द्वारा प्रकाशित और डी.एन. कुंद्रा द्वारा लिखित पुस्तक में एक अध्याय है जिसमें बाल गंगाधर तिलक, लाला लाजपत राय, विपिन चन्द्र पाल को "आतंकवादियों और चरमपंथियों" के रूप में दर्शाया गया