पोस्ट

फ़रवरी 12, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

इटली की कंपनी के प्रमुख की गिरफ्तारी हुई : सौदे में रिश्‍वत

इमेज
अब क्या कहेंगे...मनमोहनसिंह जी रक्षा सौदे में एक बार फिर,बोफोर्स सौदे के क्वात्रोची के बाद, इटली कनेक्शन पुनः उजागर हुआ है। वीवीआईपी हेलीकॉफटर अगस्ता वेस्टलैंण्ड की खरीद में 350 करोड की घूस का मामला बहुत पहले उजागर हुआ था और अब उस कंपनी के सीओ की गिरफॅतारी भी हो गई है। कांग्रेस सरकार घूस शंका के दायरे में आ ही गई है और साबीआई भी क्वात्रोची की ही तरह इस मामाले की जांच का महज ड्रामा ही करेगी। होना जाना कुछ नहीं है..... 3850 करोड़ के सौदे में किसे दी गई 350 करोड़ की रिश्‍वत?  होगी सीबीआई जांच Agency  |  Feb 12, 2013, नई दिल्‍ली. अगस्‍ता वेस्‍टलैंड हेलीकॉप्‍टर सौदे की जांच होगी। रक्षा मंत्रालय ने इस मामले में सीबीआई जांच के लिए आदेश दे दिए हैं। वीवीआईपी हेलीकॉप्‍टरों के लिए हुए 3850 करोड़ के इस सौदे में रिश्‍वत के आरोपों के बाद इटैलियन कंपनी के प्रमुख की गिरफ्तारी हुई है। भारत ने इटली की इस कंपनी से 12 हेलीकॉप्‍टर खरीदे थे। आरोप है कि इस सौदे में 350 करोड़ रुपये की घूस दी गई है। सवाल है कि क्‍या वाकई इस सौदे में इतने बड़े पैमाने पर रिश्‍वत दी गई। अगर रिश्‍वत दी गई है तो यह रकम

बजरंग बाण -तुलसीदास

इमेज
बजरंग बाण -तुलसीदास   निश्चय प्रेम प्रतीति ते, विनय करें सनमान । तेहिं के कारज सकल शुभ,सि़द्व करें हनुमान ।। जय हनुमंत संत हितकारी । सुन लीजै प्रभु अरज हमारी ।। जन के काज विलंब न कीजै । आतुर दौरि महा सुख दीजै ।। जैसे कूदि सिंधु महि पारा । सुरसा बदन पैठि विस्तारा ।। आगे जाय लंकिनी रोका । मारेहुं लात गई सुरलोका ।। जाय विभीषण को सुख दीन्हा । सीता निरखि परम पद लीन्हा ।। बाग उजारि सिंधु महं बोरा । अति आतुर जमकातर तोरा ।। अक्षयकुमार को मारि संहारा । लूम लपेटि लंक को जारा ।। लाह समान लंक जरि गई । जय जय धुनि सुरपुर नभ भई ।। अब बिलंब केहि कारन स्वामी । कृपा करहु उर अंतरयामी ।। जय जय लखन प्रान के दाता । आतुर ह्वबै दुख करहु निपाता ।। जै हनुमान जयति बलसागर । सुर समूह समरथ भटनागर ।। ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठीले । बैरिहि मारू बज्र के कीले ।। ॐ ह्री ह्रीं ह्रीं हनुमंत कपीसा । ॐ हुं हुं हुं हनु अरि उर सीसा ।। जय अंजनि कुमार बलवंता । शंकरसुवन बीर हनुमंता ।। बदन कराल काल कुल घालक । राम सहाय सदा प्रतिपालक ।। भूत, प्रेत, पिसाच निशाचर । अगिन बेताल काल मारी मर ।। इन्हें मारू, तोहि स