पोस्ट

फ़रवरी 22, 2013 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

संसद में हैदरावाद आतंकी हमले की निंदा

इमेज
    हैदराबाद धमाके की जांच में अब तक के अपडेट फोटो    आईबीएन-7 Feb 22, 2013 हैदराबाद। हैदराबाद धमाके क्या लापरवाही और सुरक्षा में चूक का नतीजा थे। अगर पिछले कुछ महीनों की खुफिया जानकारियों का विश्लेषण करें तो जवाब मिलता है हां। हैदराबाद पुलिस की सबसे बड़ी चूक ये रही कि उसने धमाके के बारे में दी गई खुफिया जानकारी को नजरअंदाज किया। अक्टूबर 2012 मे दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने हैदराबाद पुलिस को जानकारी दी थी कि आतंकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन के गुर्गों ने हैदराबाद के बेगमपेट और दिलसुखनगर इलाके की रेकी की है। ये जानकारी भी दी गई कि इंडियन मुजाहिदीन के आतंकी यासीन भटकल के भाईयों रियाज और इकबाल भटकल के कहने पर इन इलाकों में गुर्गों ने धमाकों के लिए साफ्ट टार्गेट तलाशे हैं। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल को ये सारी जानकारी इंडियन मुजाहिदीन के एक आतंकी मकबूल उर्फ जुबैर ने दी थी। इस सनसनीखेज जानकारी के बाद हैदराबाद पुलिस की एक टीम ने दिल्ली आकर मकबूल उर्फ जुबैर से पूछताछ की और वापस चली गई। अब सवाल ये है कि जब इन दो खास इलाकों के बारे में साफ जानकारी हैदराबाद पुलिस के पास थी तो इन इलाक