पोस्ट

सितंबर 13, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अनन्त चतुर्दशी महोत्सव कोटा : अरविन्द सिसोदिया

इमेज
अनन्त चतुर्दशी  महोत्सव: कोटा संभाग का जनउत्सव                एक विश्लेषण : अरविन्द सिसोदिया कोटा, सितम्बर 2016 । दस दिन तक श्री गणेशजी की आराधना के बाद घर-घर विराजित प्रथम पूज्य को 15 सितम्बर गुरूवार अनंत चतुदर्शी को शहरवासी उत्साह के साथ विसर्जित करेंगे। विघ्नहरण, मंगलकरण की विदाई के लिए सारा शहर सड़कों पर होगा। गली-गली से “गणपति बप्पा मोरिया अगले बरस तू जल्दीे आ” की पवित्र घ्वनी गूंजेगी एवं लगभग पूरे दिन ही विसर्जन का दौर चलेगा। किशोर सागर तालाब एवं चम्बल नदी सहित करीब - करीब आधा दर्जन अन्य स्थानों पर भी विसर्जन होगा। प्रमुख विसर्जन स्थल किशोर सागर तालाब बारहदरी में सुबह से प्रतिमाओं का विसर्जन प्रारम्भ होकर देर रात तीन चार बजे तक जारी रहेगा। शहर में अलग-अलग विसर्जन स्थलों पर करीब 25 - 30 हजार गणपति प्रतिमाओं का विसर्जन होगा। इसमें छह इंच से लेकर १५ फीट तक की गणेश प्रतिमाएं जो कि गत 10 दिन झांकी के रूप में रहीं अंतिम दिन विदा हो जायेंगीं। गणपति की विदाई अत्यंत भावुक और आंखें नम कर देने वाली होती है। विशेष कर महिलाओं एवं बालिकाओं को संभलने में घंटों लग जाते ह