पोस्ट

फ़रवरी 16, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विश्व कप : भारत के हाथों एक और हार के बाद पाकिस्तानी गम में डूबा

इमेज
भारत vs पाकिस्तान      आईसीसी क्रिकेट विश्व कप, गेम 4                                           एडिलेड ओवल, एडिलेड भारत बनाम पाकिस्तान भारत 300/7 (50) पाकिस्तान 224/10 (47) भारत 76 रनों से जीती नई दिल्ली : भारत और पाकिस्तान के बीच एडीलेड में खेले गए विश्वकप मुकाबले के बारे में फेसबुक पर करीब 90 लाख लोगों ने चर्चा की जबकि इस बहुप्रतीक्षित मैच को लेकर करीब 16.94 लाख ट्वीट किए गए।  फेसबुक ने एक बयान में कहा कि फेसबुक पर कल हुए मैच के बारे में ढाई करोड़ टिप्पणियां की गईं। सोशल मीडिया पर सबसे ज्यादा चर्चित शतकवीर विराट कोहली और पाकिस्तान के तेज गेंदबाज सोहैल खान रहे। ट्विटर ने कहा कि इस मैच के दौरान कुल 16.94 लाख ट्वीट किए गए। भाषा  ----- विश्व कप में फिर हार के गम में डूबा पाकिस्तान सोमवार, 16 फ़रवरी 2015 कराची। विश्व कप में भारत के हाथों एक और हार के बाद पाकिस्तानी मीडिया ने राष्ट्रीय क्रिकेट टीम की जमकर आलोचना करते हुए कहा है कि पहले से ही हार तय नजर आने लगी थी।  पाकिस्तान को कल विश्व कप में लगातार छठी बार भारत ने हराया। पाकिस्तानी टीम आज तक भारत स

परम पूज्य गोळवलकर "गुरुजी" : संघ के द्वितीय सरसंघचालक

इमेज
  परम पूज्य गोळवलकर "गुरुजी" - श्री. संजय मुळ्ये, रत्नागिरी (महाराष्ट्र) http://www.hindujagruti.org/hindi/h/72.html सारणी     १. गोळवलकर परिवार     २. जन्म एवं प्राथमिक शिक्षा     ३. महाविद्यालयीन शिक्षा     ४. संघसे संबंध     ५. संघकार्यमें प्रत्यक्ष ध्यान देना     ६. विवाह न करनेका दृढ निश्चय     ७. गुरुमंत्र     ८. सरसंघचालक पदपर नियुक्ति     ९. निर्भयता     १०. संघपर पहला प्रतिबंध एवं गुरुजीको बंदी बनाया जाना     ११. अन्य सेवाकार्य     १२. महानिर्वाण १. गोळवलकर कुल विशेष         ‘गोळवलकर परिवार मूलतः जनपद रत्नागिरी,  तहसिल संगमेश्वरके गोळवली नामक गांवका निवासी था । इस गांवके पाध्ये परिवारकी एक शाखा नागपुरमें स्थलांतरित हुई एवं उनका उपनाम गोळवलकर हुआ । गुरुजीके पिताका नाम सदाशिवराव एवं मांका नाम लक्ष्मीबाई था । पिता ज्ञानमार्गी, तो मां भक्तिमार्गी   थी । इस दम्पतिने नौ अपत्योंको जन्म दिया ; किंतु उनमेंसे केवल माधव (गुरुजी) ही बचा । वह चौथे क्रमांकका था । २. जन्म एवं प्राथमिक शिक्षा         माघ वद्य (शुक्ल) एकादशी, शके १८२७ इस तिथिको (१९ फरवरी १९०६ को ) नागपुरमें