पोस्ट

अक्तूबर 17, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

संत शंभू सिंह कौशिक महाराज : गायत्री परिवार साधना आश्रम

इमेज
स्मृति शेष : शत शत नमन्  !! गायत्री परिवार साधना आश्रम बोरखेड़ा कोटा के संस्थापक संत शंभू सिंह कौशिक महाराज का रविवार को निधन हो गया। संत कौशिक महाराज नशा छुड़ाने वाले बाबा के नाम से जाने जाते थे। उन्होंने पूरे संभाग में सैकड़ों लोगों से पशु बलि, लोगों से अपराध नशा छुड़ाने में अहम भूमिका निभाई। कंजर, बागरी और मोग्या जाति के लोगों को अपराध से दूर कर मेहनत मजदूरी में लगाया। ये लोग आज भी अपना सामान्य जीवन जी रहे हैं। कौशिक महाराज के बड़े बेटे यज्ञदत्त सिंह हाड़ा ने बताया कि उनका जन्म 1928 को गणगौर तीज पर करवाड़ के हाड़ा राजपूत परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम आनंद सिंह हाड़ा और माता सज्जन कंवर थीं। उन्होंने 1956 में श्रीराम आचार्य से दीक्षा ली। 1958 में इनको कौशिक महाराज नाम मिला। 1960 में कौशिक महाराज ने बलि बंद करने के लिए आंदोलन की बागडोर संभाली। उनके प्रयासों के चलते 187 स्थानों पर पशु बलि बंद हो गई। 1958 में मोईकलां के मिडिल स्कूल के प्रधानाध्यापक पद से नौकरी छोड़कर धर्म प्रचार में लग गए। 1961 में कोटा में आश्रम बनाया। संत कौशिक महाराज के दो पुत्र और तीन पुत्रियां हैं।

Eternal Vigilance is the Price of Liberty : PM Narendr Modi

इमेज
Indian Armed Forces rank the best in the world on parameters of discipline and conduct: PM Modi October 14, 2016 India's soldiers are a symbol of humanity: PM Modi Our jawans put their lives on the line whenever there is a natural disaster: PM Modi Indian Armed Forces rank among the best in the world on parameters such as discipline and conduct: PM Modi India is one of the foremost contributors to peace keeping forces worldwide, says the Prime Minister Indian Armed Forces had evacuated not just thousands of Indian citizens, but citizens of other nations as well: PM India has never coveted territories of other nations: Prime Minister Modi During the World Wars, so many Indian soldiers sacrificed their lives defending foreign lands: PM We must not forget, and we should also make sure that the world does not forget, the sacrifices made by our jawans: PM The strength of the Indian Armed Forces is the morale of its jawans, which comes from the support of 125 cro