पोस्ट

जून 28, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भाई-भतीजावाद से बचकर रहें - नरेंद्र मोदी

चित्र
बीजेपी के नए सांसदों को नसीहत,  भाई-भतीजावाद से बचकर रहें - नरेंद्र मोदी Akhilesh Sharma जून 28, 2014 सूरजकुंड: लोकसभा में पहली बार चुनकर आए बीजेपी के डेढ़ सौ से भी ज्यादा सांसदों को दिल्ली−हरियाणा के पर्यटन स्थल सूरजकुंड के एक होटल में आज से दो दिनों की ट्रेनिंग दी जा रही है। इसकी शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण से हुई, जो खुद पहली बार चुनकर लोकसभा पहुंचे हैं। सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में कहा कि सभी सांसदों को एक−दूसरे के संपर्क में रहना चाहिए और सभी के पास एक-दूसरे के मोबाइल नंबर जरूर होने चाहिए। प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि सांसद अपने आचार, विचार और व्यवहार का ध्यान रखें। सूत्रों के मुताबिक पीएम ने कहा कि सांसदों और पार्टी नेताओं को बयानों से दूर होकर अपने काम पर फोकस करना होगा। पीएम ने कहा, मैं भी पहली बार जीता हूं, मैं भी नया हूं, मुझे भी अपने सीनियर्स से सीखना है...आप भी उनके अनुभव का लाभ लें, भाई−भतीजावाद और करप्शन सबसे गंभीर समस्या है, इससे सबको दूर रहना होगा... बीजेपी ने अपने नए सांसदों को दी जा रही ट्रे

राहुल गांधी में शासन का मिजाज नहीं : दिग्विजय सिंह

चित्र
कांग्रेस को पूरी तरह से डुबोने वाले ,  दिग्विजय सिंह  कभी कभी  सही बात भी कर जाते हैं ! राहुल  गांधी को परोक्ष अपरोक्ष उन्होंने कटघरे में खड़ा कर ही दिया !! सत्ता की भूख में विचारधारा भूली कांग्रेस,  राहुल गांधी में शासन का मिजाज नहीं : दिग्विजय सिंह aajtak.in [Edited By: संदीप कुमार सिन्हा] | नई दिल्‍ली, 28 जून 2014 कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने अपनी ही पार्टी पर निशाना साधा है. लोकसभा चुनाव में मिली हार के लिए दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस में सत्ता की भूख को जिम्मेदार बताया है. उन्होंने कहा है कि पार्टी ने अपनी विचारधारा से समझौता किया जिस वजह से हार हुई. दिग्विजय यहीं नहीं रुके. उन्होंने ये भी कह दिया कि राहुल गांधी का मिजाज सत्ताधारी नहीं है. वो इंसाफ की लड़ाई लड़ना चाहते हैं. दिग्विजय ने कहा कि राहुल को लोकसभा में नेता विपक्ष बनना चाहिए था. दिग्विजय सिंह का कहना है कि मोदी ने जहां अपनी बात का ढिंढोरा पीटा, तो वहीं कांग्रेस अपने काम का दस में पांच भी नहीं बता पाई. दिग्विजय का ये बयान उस वक्त आया है, जब कांग्रेस की हार के लिए पहले ही राहुल गांधी निशाने पर आ रहे है