पोस्ट

फ़रवरी 25, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विदेशी इशारों पर विकास को अवरुद्ध करते एनजीओ

चित्र
                                          पश्चिम के इशारे पर विकास को अवरुद्ध करते एन जी ओ  साभार - पाथेयकण, जयपुर, राजस्थान  http://www.patheykan.in देश की गुप्तचर संस्था आई.बी.ने हाल ही में एक बड़ा खुलासा किया है कि देश के अनेक एनजीओ (गैर सरकारी संगठन- Non Governmental Organisation) पर्यावरण सुरक्षा, विस्थापन आदि के नाम पर भारत में विकास की बड़ी परियोजनाओं का विरोध पश्चिमी देशों के इशारे पर करते हैं। इसके लिए उन्हें अमरीका व दूसरे पश्चिमी देशों से अथाह धनराशि प्राप्त होती है। ये एनजीओ पश्चिमी देशों के हितों को आगे बढ़ाने का माध्यम बन गये हैं। आई बी का तो यहॉं तक कहना है कि एनजीओ की इस भूमिका के कारण भारत का आर्थिक विकास धीमा हो गया है।  इंटेलिजेंस ब्यूरो का अनुमान है कि इससे भारत की जीडीपी वृद्धिदर 2 से 3 प्रतिशत कम हो रही है। एन जी ओ के बारे में आम धारणा रही है कि ये संगठन ग्रामीण विकास, स्वच्छता, शिक्षा,स्वास्थ्य, साक्षरता, अनाथालय आदि सामाजिक सेवा करने वाले संगठन हैं। परन्तु आई बी ने अपनी रपट में खुलासा किया है कि मानवाधिकार, पर्यावरण सुरक्षा, धार्मिक स्वतंत्रता, असमानता

मदर टेरसा और उनका मकसद

चित्र
---------- संघ के परम पूज्य सरसंघचालक मोहनजी भगवत ने क्या कहा और उसे तोड़ मरोड़ कर क्या पेश किया यह सभी समझते हैं । उनका कहना था सेवा के पीछे कोई निहित स्वार्थ नहीं होना चाहिए । और यह भी सब जानते हैं की ईसाई मिशनरियां शुद्ध रूप से धर्मांतरण करवाती हैं । विदेशों से इस हेतु अरबों रूपये आते हैं । महात्मा  गांधी भी ईसाईयों के इस कुकृत्य के खिलाफ थे । ईसाईयों के रोम रोम में धर्मांतरण है , मात्र 2000 साल में यूरोप , दोनों अमरीका , ऑस्ट्रेलिया  , अफ्रीका महाद्वीपों पर इन्होनें वहां के मूल पंथों को समाप्त कर दिया है । ईसाई और इस्लाम ने बहुतसे धर्मयुद्ध लड़े हैं । एशिया को ईसाई बनाने  के लिए , भारत को ईसाई बनाओ के उद्देश्य से ईसाई मिशनरियां और ईसाई देश काम कर रहे हैं । ईसाई धर्मांतरण की रक्षा और उसके पोषण के लिए उनके धन से स्थापित मिडिया और व्यापारिक तथा रणनीतिक संस्थान तरह तरह के पाखंडों में लिप्त रहते हैं । --------- अरविन्द सिसोदिया, कोटा राजस्थान  आखिर मदर टेरेसा का मकसद क्या था? By  एबीपी न्यूज Tuesday, 24 February 2015 http://abpnews.abplive.in/ind/2015/02/24/article510902.