पोस्ट

अक्तूबर 24, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विश्व शांति के लिए भारत का शक्तिशाली राष्ट्र बनना आवश्यक : संघ

इमेज
विश्व शांति के लिए भारत का शक्तिशाली राष्ट्र बनना आवश्यक – सुहासराव हिरेमठ जी October 12, 2016 जयपुर (विसंकें). राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सेवा प्रमुख सुहासराव हिरेमठ जी ने कहा कि विश्व शांति के लिए भारत का शक्तिशाली राष्ट्र बनना आवश्यक है. जब तक भारत शक्तिशाली नहीं बनेगा, दुनिया के किसी भी देश में चलने वाला आतंकवाद समाप्त नहीं होगा. इसलिए समाज को संगठित करते हुए राष्ट्र को वैभव सम्पन्न बनाना हमारा कर्तव्य है. सुहासराव जी मंगलवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, जयपुर विभाग के विजयादशमी उत्सव में उपस्थित स्वयंससेवकों एवं नागरिकों को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि भारत को पाकिस्तान से ज्यादा चीन से खतरा है. महत्वाकांक्षी और विस्तारवादी नीति पोषक चीन ने तिब्बत पर अधिकार कर लिया है. अब उसकी भारत पर नजर है. सीमाओं पर हो रहे आक्रमणों की रक्षा तो सेना कर रही है, लेकिन देश में हो रहे आर्थिक आक्रमण से समाज को संघर्ष करना होगा. विदेशी आक्रमणों का सामना ‘स्व’ के प्रकटीकरण से ही हो सकता है. उन्होंने स्वदेशी वस्तुओं को अपनाने का आह्वान किया. जीवन में स्व का जागरण करना हर देश

'तीन तलाक' को राजनीतिक और साम्प्रदायिक मुद्दा ना बनाएं : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

इमेज
'तीन तलाक' को राजनीतिक और साम्प्रदायिक मुद्दा ना बनाएं : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाषा, अंतिम अपडेट: सोमवार अक्टूबर 24, 2016 महोबा.नरेंद्र मोदी आज महोबा पहुंचे। मोदी ने कहा, 'बुंदेलखंड के ज्यादातर लोग गुजरात में रहते हैं। यूपी में कभी सपा तो कभी बसपा। उनकी दुनिया तो चलती रही लेकिन आपका कुछ नहीं हुआ। एक को परिवार की चिंता है तो दूसरे को कुर्सी की चिंता है। लेकिन हमें यूपी की चिंता है।' बुंदेलखंड में पानी की कमी के कारण मिट्टी सूखी... - मोदी ने कहा, "मैथिलीशरण गुप्त, वृंदावन लाल वर्मा को नमन करता हूं। हमें ऐसा आशीर्वाद मिले, ताकि बुंदेलखंड की सारी मुसीबतें दूर हो सकें।" - "यहां तो नदी भी है, गुजरात में तो नर्मदा और ताप्ती ही है।" - "हमने कोशिश की। 15 साल के परिश्रम के बाद पानी का संकट दूर हुआ है।" - "जल प्रबंधन के अभाव में यहां मिट्टी सूखी है। किसान तबाह हो गया। अगर पानी का प्रबंध कर दिया तो यहां का किसान मिट्टी में से सोना उपजा सकता है।" - "यहां के लिए एक काम का सपना अटलजी ने देखा था। बाद में ऐसे लोग आए जिनक