रविवार, 23 जनवरी 2011

किन किन भारतीय नेताओं ने सुभाष बाबू को सोंपनें का सौदा किया था



- अरविन्द सीसोदिया
२३ जनवरी १८९७ में , आज के ही दिन जन्में थे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस , जिन्होनें भारत कि स्वतंत्रता के लिए अदम्य  सहास  का प्रदर्शन करते हुए अपना जीवन भारत माता के चरणो में समर्पित कर दिया ! उनके सहास और बलिदान का मूल्यांकन यह है कि आज भी देश उन्हें जीवित देखना चाहता है और मानता है कि वे जीवित होते तथा भारत में होते तो देश विभाजित नहीं होता ...! अंग्रेजों की द्रष्टि में सुभाष भी सावरकर की ही तरह मानसिक रूप से घोर ब्रिटिश विरोधी थे ,तत्कालीन  ब्रिटिश प्रधान मंत्री एटली ने  ब्रिटिश संसद में घोषणा की थी कि भारतीय नेताओं से उनका समझौता हो गया  है सुभाष जैसे ही पकड़ में आयेंगे वे उन्हें ब्रिटेन को युद्ध अपराधी के रूप में सोंप देंग | उस समय भारतीय  नेता तो जवाहर लाल नेहरु ही थे ! आज यह जरुरी है कि यह भी जांच हो कि किन किन भारतीय नेताओं ने सुभाष  बाबू को सोंपनें का सौदा किया था !
- इस समझोते का अर्थ यह है कि नेताजी सुभाष की हवाई दुर्घटना में मौत नहीं हुई थी ! 
भारत की पहली सरकार ....
 - पूर्व एशिया पहुँचकर सुभाषबाबू ने सर्वप्रथम, वयोवृद्ध क्रांतिकारी रासबिहारी बोस से भारतीय स्वतंत्रता परिषद का नेतृत्व सँभाला। सिंगापुर के फरेर पार्क में रासबिहारी बोस ने भारतीय स्वतंत्रता परिषद का नेतृत्व सुभाषबाबू को सौंप दिया।

जापान के प्रधानमंत्री जनरल हिदेकी तोजो ने, नेताजी के व्यक्तित्व से प्रभावित होकर, उन्हे सहकार्य करने का आश्वासन दिया। कई दिन पश्चात, नेताजी ने जापान की संसद डायट के सामने भाषण किया।
21 अक्तूबर, 1943 के दिन, नेताजी ने सिंगापुर में अर्जी-हुकुमत-ए-आजाद-हिंद (स्वाधीन भारत की अंतरिम सरकार) की स्थापना की। वे खुद इस सरकार के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और युद्धमंत्री बने। इस सरकार को कुल नौ देशों ने मान्यता दी। नेताजी आज़ाद हिन्द फौज के प्रधान सेनापति भी बन गए।
आज़ाद हिन्द फौज में जापानी सेना ने अंग्रेजों की फौज से पकडे हुए भारतीय युद्धबंदियोंको भर्ती किया गया। आज़ाद हिन्द फ़ौज में औरतो के लिए झाँसी की रानी रेजिमेंट भी बनायी गयी।
पूर्व एशिया में नेताजी ने अनेक भाषण करके वहाँ स्थायिक भारतीय लोगों से आज़ाद हिन्द फौज में भरती होने का और उसे आर्थिक मदद करने का आवाहन किया। उन्होने अपने आवाहन में संदेश दिया तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हे आजादी दूँगा
द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान आज़ाद हिन्द फौज ने जापानी सेना के सहयोग से भारत पर आक्रमण किया। अपनी फौज को प्रेरित करने के लिए नेताजी ने चलो दिल्ली का नारा दिया। दोनो फौजो ने अंग्रेजों से अंदमान और निकोबार द्वीप जीत लिए। यह द्वीप अर्जी-हुकुमत-ए-आजाद-हिंद के अनुशासन में रहें। नेताजी ने इन द्वीपों का शहीद और स्वराज द्वीप ऐसा नामकरण किया। दोनो फौजो ने मिलकर इंफाल और कोहिमा पर आक्रमण किया। लेकिन बाद में अंग्रेजों का पगडा भारी पडा और दोनो फौजो को पिछे हटना पडा।
जब आज़ाद हिन्द फौज पिछे हट रही थी, तब जापानी सेना ने नेताजी के भाग जाने की व्यवस्था की। परंतु नेताजी ने झाँसी की रानी रेजिमेंट की लडकियों के साथ सैकडो मिल चलते जाना पसंद किया। इस प्रकार नेताजी ने सच्चे नेतृत्व का एक आदर्श ही बनाकर रखा।
6 जुलाई, 1944 को आजाद हिंद रेडिओ पर अपने भाषण के माध्यम से गाँधीजी से बात करते हुए, नेताजी ने जापान से सहायता लेने का अपना कारण और अर्जी-हुकुमत-ए-आजाद-हिंद तथा आज़ाद हिन्द फौज की स्थापना के उद्येश्य के बारे में बताया। इस भाषण के दौरान, नेताजी ने गाँधीजी को राष्ट्रपिता बुलाकर अपनी जंग के लिए उनका आशिर्वाद माँगा । इस प्रकार, नेताजी ने गाँधीजी को सर्वप्रथम राष्ट्रपिता बुलाया।  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें