गुरुवार, 25 फ़रवरी 2016

इंदिरा के बेटे ने नहीं किया था देशद्रोहियों का सपोर्ट - स्मृति ईरानी

स्मृति का राहुल पर निशाना- इंदिरा के बेटे ने नहीं किया था देशद्रोहियों का सपोर्ट
dainikbhaskar.comFeb 24, 2016,

http://www.bhaskar.com
बुधवार को लोकसभा में स्मृति ईरानी।
नई दिल्ली.बजट सेशन के दूसरे दिन बुधवार को राज्यसभा-लोकसभा में रोहित वेमुला सुसाइड केस और जेएनयू में देश विरोधी नारेबाजी के मुद्दे पर हंगामेदार बहस हुई। पहले राज्यसभा में स्मृति ईरानी और मायावती आमने-सामने हो गईं। शाम को लोकसभा में स्मृति कई बार इमोशनल हो गईं। कहा- ‘मैं इस मुद्दे को पर्सनली ले रही हूं।’ जेएनयू स्टूडेंट्स का सपोर्ट कर रहे राहुल के लिए कहा, ‘‘सत्ता तो इंदिरा गांधी ने भी खोई थी। लेकिन उनके बेटे ने कभी भारत की बर्बादी के नारों का समर्थन नहीं किया था।’’ इन 8 मौकों पर स्मृति ने साधा कांग्रेस-राहुल पर सीधा निशाना...
1.हैदराबाद यूनिवर्सिटी में रोहित के दलित स्टूडेंट होने की वजह से उसे टारगेट किए जाने के कांग्रेस के आरोपों पर स्मृति ने कहा, ‘मेरा नाम स्मृति ईरानी है। मैं किसी को भी चैलेंज करती हूं कि मेरी जाति बताए।’
2.स्मृति ने कहा- राहुल कहते, ‘आओ स्मृति ईरानी! हम चलकर जेएनयू स्टूडेंट्स से कहें कि जिस भारत के विरोध में तुम नारे दे रहे हो, जिस तिरंगे को लहराने में तुम्हे शर्म आती है, उसी भारत के लिए जेएनयू के भी कुछ स्टूडेंट्स ने अपनी कुर्बानी दी है, उनके खिलाफ नारे मत लगाओ’ तो कुछ बात होती।
3.स्मृति ने जेएनयू स्टूडेंट्स का सपोर्ट कर रहे राहुल के लिए कहा-‘‘सत्ता तो इंदिरा गांधी ने भी खोई थी। लेकिन उनके बेटे ने कभी भारत की बर्बादी के नारों का समर्थन नहीं किया था।’’
4.एचआरडी मिनिस्टर ने कहा- ‘600 स्टूडेंट्स तेलंगाना मूवमेंट में मारे गए। राहुल क्या कभी गए? कभी नहीं गए। लेकिन इस केस में उन्हें राजनीतिक मौका नजर आया। इस केस का राजनीतिक फायदे के लिए आप लोगों ने इस्तेमाल किया।’
5.कांग्रेस के वॉकआउट पर कहा, ‘‘आपकी इच्छा जवाब सुनने की थी ही नहीं, नीयत में खोट थी।’’
6.बयान देते वक्त इमोशनल हुईं स्मृति ने कहा- ‘‘मैं इसे (कांग्रेस के आरोपों को) पर्सनली ले रही हूं। मैं बताती हूं क्यों। जैसे ही मुझे घटना (रोहित के सुसाइड) की खबर मिली कि केसीआर जी को मैंने फोन किया। मैंने उनसे कहा कि लॉ एंड ऑर्डर की सिचुएशन ना हो, मदद कीजिए। मुझे कहा गया कि साहब बिजी हैं। उनकी बेटी से भी बात हुई। मुझे आज तक उनके फोन का इंतजार है।’’
7.भगवाकरण के आरोपों पर स्मृति ने कहा, ‘‘राहुल अमेठी जाकर कहते हैं कि सभी वीसी आरएसएस के हैं। मैं कहना चाहती हूं कि किसी भी सेंट्रल यूनिवर्सिटी का वाइस चांसलर आकर यह कह दे कि मैंने भगवाकरण किया है तो मैं राजनीति छोड़ दूंगी।’’
8.मंत्री ने कहा, ‘क्या मुझे इसलिए टारगेट किया जा रहा है, क्योंकि मैंने अमेठी में राहुल को चुनौती दी थी।’
जानिए, दिनभर में संसद की कार्यवाही के अपडेट्स...
7:46 PM :‘‘राहुल कहते कि ‘आओ स्मृति ईरानी! हम चलकर जेएनयू स्टूडेंट्स से कहें कि जिस भारत के विरोध में तुम नारे दे रहे हो, जिस तिरंगे को लहराने में तुम्हे शर्म आती है, उसी भारत के लिए जेएनयू के भी कुछ स्टूडेंट्स ने अपनी कुर्बानी दी है, उनके खिलाफ नारे मत लगाओ’ तो कुछ बात होती।’’
7:44 PM :‘‘राहुल अमेठी जाकर कहते हैं की सभी वीसी आरएसएस के हैं। मैं कहना चाहती हूं कि किसी भी सेंट्रल यूनिवर्सिटी का वाइस चांसलर आकर यह कह दे कि मैंने भगवाकरण किया है तो मैं राजनीति छोड़ दूंगी।’’
7:42 PM :‘‘सत्ता तो इंदिरा गांधी ने भी खोई थी। लेकिन उनके बेटे ने कभी भारत की बर्बादी के नारों का समर्थन नहीं किया था।’’
7:32 PM : स्मृति ने कहा- ‘‘जिन्हें उन लोगों ने जल्लाद कहा था, आज उनके घर ही (सुप्रीम कोर्ट में बेल के लिए) दस्तक देना पड़ी है। यही मेरे लोकतंत्र की ताकत है।’’
7:30 PM : ‘‘जेएनयू का एक और पोस्टर कहता है- सुप्रीम कोर्ट जज, फासिस्ट इंडिया और स्टेट याकूब मेमन से डर रहे थे। हमें इस ज्यूडिशियल मर्डर के खिलाफ होना चाहिए।’
7:29 PM : ‘‘जेएनयू में क्या होता है- उसका उदाहरण देती हूं। दो प्रोफेसरों ने कश्मीर सॉलिडैरिटी रैली जेएनयू में निकाली थी। तब यूपीए की सरकार थी।’’
7:28 PM : कांग्रेस सदन से वॉकआउट कर चुकी है।
7:23 PM :स्मृति ने कहा- कैंपस में दो प्रोफेसरो ने कश्मीर सॉलिडेट्री रैली निकाली थी।
7:23 PM :स्मृति ने कहा- वीसी को हमने नहीं अप्वाइंट किया। राष्ट्रपति ने उन्हें अप्वाइंट किया।
7:22 PM : स्मृति ने कहा- ‘‘यूनिवर्सिटी सिक्युरिटी डिपार्टमेंट के 35 गार्ड और 3 महिला गार्ड मौके पर थे। उन्होंने 11 फरवरी 2016 को बयान में कहा कि वहां भीड़ बढ़ने लगी। उमर खालिद, अनिर्बान मौजूद थे। वहां अफजल गुरु के नारे लग रहे थे। कहा जा रहा था- ‘जिस कश्मीर को खून बंदूक से लेंगे आजादी। गो इंडिया गो बैक। इंडियन आर्मी मुर्दाबाद।’ दो-तीन और लोग थे मुंह पर कपड़ा लगाए।’’
7:22 PM :‘‘जेएनयू के बारे में बताती हूं। उमर खालिद ने यूनिवर्सिटी से प्रोग्राम इजाजत मांगी। यूनिवर्सिटी ने पूछा- क्यों जगह चाहिए? उमर ने लिखा- पोएट्री रीडिंग के लिए। यूनिवर्सिटी ने पूछा- और कुछ चाहिए? उमर ने लिखा- हां, माइक के लिए इलेक्ट्रिसिटी चाहिए।’’
7:21 PM :स्मृति ईरानी ने खालिद मामले में जवाब देना शुरू किया।
7:20 PM :‘600 स्टूडेंट्स तेलंगाना मूवमेंट में मारे गए। राहुल क्या कभी गए? कभी नहीं गए। लेकिन इस केस में उन्हें राजनीतिक मौका नजर आया। इस केस का राजनीतिक फायदे के लिए आप लोगों ने इस्तेमाल किया।’
7:18 PM :अगले दिन सुबह 6.30 बजे तक किसी ने डॉक्टर को उसके (रोहित वेमुला के) पास जाने की इजाजत नहीं दी। बच्चे की बॉडी का छिपे हुए पॉलिटिकल टूल के लिए इस्तेमाल हुआ। जो नारे लगा रहे थे, वे इंसाफ नहीं, राजनीति चाहते थे।’
7:10 PM : ‘हाईकोर्ट में पुलिस ने कहा कि सूचना शाम को मिली। कमरा खुला था। बॉडी फंदे से उतार ली गई थी। हाथ से लिखा नोट मिला था। उसमें किसी को मौत के लिए जिम्मेदार नहीं उठाया गया था।’
7:08 PM : स्मृति ने कांग्रेस की तरफ इशारा कर कहा- ‘आपकी इच्छा जवाब सुनने की थी ही नहीं, नीयत में खोट थी।’
7:05 PM : ‘हनुमंत रावजी ने मुझे लिखा कि कांग्रेस के कार्यकाल में जिस वीसी का अप्वाइंटमेंट हुआ, उनके कार्यकाल में आत्महत्या हुई।’
7:04 PM : बयान देते वक्त इमोशनल हुईं स्मृति ने कहा- ‘मैं इसे पर्सनली ले रही हूं। मैं बताती हूं क्यों। जैसे ही मुझे घटना (रोहित के सुसाइड) की खबर मिली कि केसीआर जी को मैंने फोन किया। मैंने उनसे कहा कि लॉ एंड ऑर्डर की सिचुएशन ना हो, मदद कीजिए। मुझे कहा गया कि साहब बिजी हैं। उनकी बेटी से भी बात हुई। मुझे आज तक उनके फोन का इंतजार है।’
7:02 PM : ‘मुझे सूली पर चढ़ाया जा रहा है क्योंकि मेरे विभाग ने पत्र लिखा था?’
7:00 PM :स्मृति ईरानी रोहित वेमुला मामले में जवाब दे रही हैं। (ये भी पढ़ें- जब मायावती से बोलीं स्मृति ईरानी- सिर कलम कर आपके चरणों में रख देंगे)
3: 58 PM:अनुराग ने कहा- ''कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने कहा था कि दिल्ली के बटला हाउस एनकाउंटर के बाद सोनिया जी खूब रोईं थीं। ये मैं नहीं उनके मंत्री ही कह चुके हैं। लेकिन उस दौरान शहीद होने वाले पुलिस वाले के घर नहीं गए। आज उन्हें तय करना होगा कि वे अफजल के सपोर्ट में हैं, देशभक्तों के साथ हो।''
3: 55 PM:लोकसभा में अनुराग ठाकुर ने कहा,''कांग्रेस का स्लोगन है- पहले फैमिली, दूसरे नंबर पर पार्टी, अंतिम में देश।''
3: 50 PM:ठाकुर ने कहा,''ये फ्रीडम ऑप स्पीच की बात करते हैं। इमरजेंसी में क्या हुआ था। ये लोग फ्रीडम ऑफ स्पीच की बात करते हैं तो दुख होता है। आज ब्लैक आउट करने वाले इमरजेंसी के वक्त शायद कुछ नहीं देखा।''
3: 46 PM:राज्यसभा में हंगामा जारी।
3: 45 PM:''जिस यूनिवर्सिटी का नाम जवाहर लाल नेहरू के नाम पर है उसी में उनके परिवार के एक सदस्य जाता है और देशविरोधी ताकतों के साथ खड़ा होता है।''
3: 40 PM:ठाकुर ने कहा, ''2010 जुलाई में मुझे तिरंगा फहराने के लिए अरेस्ट किया गया। ऐसे कांग्रेसी नेता क्या कश्मीर की बात करेंगे।''
3: 35 PM:बीजेपी सांसद अनुराग ठाकुर ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के पंपोर में शहीद होने वाले कैप्टन के पास भी जेएनयू की डिग्री थी। कांग्रेस के नेता उनके घर क्यों नहीं गए।
3: 05 PM:लोकसभा में रोहित वेमुला केस पर बोल रहे हैं कांग्रेस के सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया।
2: 35 PM:राज्यसभा में हंगामा जारी। दलित स्टूडेंट्स मौत मामले पर चर्चा कराने को लेकर अड़ीं मायावती।
12: 38 PM:राज्यसभा पांचवीं बार दो बजे तक के लिए स्थगित।
12: 36 PM:संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार नकवी ने कहा, ''ऐसे हाउस चलना ठीक नहीं है। नारेबाजी बंद हो जाए तो हम चर्चा के लिए तैयार हैं।''
12: 34 PM:नारेबाजी कर रहे बीएसपी सांसदों से अंसारी ने कहा- अपनी सेहत का ख्याल रखें। बैठ जाइए।
12: 29 PM:राज्यसभा की कार्यवाही शुरू हुई। अपोजिशन मेंबर्स की नारेबाजी जारी।
12: 13 PM:दोबारा कार्यवाही शुरू। होती रही नारेबाजी। अंसारी ने सदन को फिर 15 मिनट के लिए स्थगित कर दिया।
12: 03 PM:अंसारी ने कहा कि हंगामा कर प्रश्न पूछने के सांसदों के विशेषाधिकार का हनन न करें। इसके बाद उन्होंने कार्यवाही 10 मिनट के लिए स्थगित कर दी।
12: 00 PM : राज्यसभा के शुरू होते ही सभापति हामिद अंसारी ने कहा प्रश्नकाल यानी प्रश्नकाल होता है।
11: 40 AM : लोकसभा में अभी प्रश्नकाल चल रहा है।
11: 38 AM :हंगामा नहीं थमा और सभापति पीजी कुरियन ने कार्यवाही 12 बजे तक स्थगित कर दी।
11: 35AM :एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी ने कहा - उपसभापति जी आप तुरंत चर्चा कराएं, क्योंकि यहां कुछ लोग दलित स्टूडेंट की मौत पर राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं।
11: 32AM :लेफ्ट के नेता सीताराम येचुरी और रेणुका चौधरी ने भी सरकार से सफाई मांगी।
11: 31AM :मंत्री नकवी ने कहा कि सरकार टुकड़ों में जवाब नहीं देगी। आप चाहें तो अभी चर्चा शुरू करा लें।
11: 30AM :मायावती ने कहा कि सरकार यह बताए कि वह जांच कराएगी या नहीं।
11: 28AM: अपोजिशन ने सरकार से जवाब देने की डिमांड करते हुए नारेबाजी शुरू की।
11: 18AM: हंगामा थमते न देख राज्यसभा के उपसभापति पीजी कुरियन ने 10 मिनट के लिए कार्यवाही स्थगित की।
11:15 AM :मायावती ने कहा चर्चा तो हम करेंगे, लेकिन सरकार पहले इसका जवाब दे।
11:13 AM :संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा सरकार को रोहित के सुसाइड मुद्दे पर चर्चा से आपत्ति नहीं है। सदन चाहे तो अभी चर्चा शुरू हो सकती है।
11:11 AM :राज्यसभा में बीएसपी चीफ मायावती ने कहा कि हैदराबाद यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट रोहित वेमुला को सुसाइड के लिए उकसाया गया था।
11:02 AM :संसदीय कार्य मंत्री एम वेंकैया नायडू ने लोकसभा में कहा कि सरकार हर मुद्दे पर चर्चा को राजी है। कृपया प्रश्नकाल होने दें।
11:00 AM :लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि हम देश के अहम मुद्दों पर चर्चा चाहते हैं।
10:45 AM : जेएनयू मुद्दे पर बुधवार को संसद परिसर में हंगामा हो गया। बजट सेशन के दूसरे दिन की कार्यवाही से पहले लेफ्ट-जेडीयू के राज्यसभा मेंबर्स ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।
10:35 AM :पीएम मोदी ने सीनियर कैबिनेट मिनिस्टर्स के साथ मीटिंग की।
सामने आनी चाहिए हमारी कमियां : PM
- मंगलवार को संसद पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा, ''औपचारिकता से ऊपर उठकर विचार-विमर्श करना होगा। हमें सार्थक चर्चा करने का एक अवसर मिला है।"
- "इस सत्र में देश के नागरिकों की चिंताओं पर गहन चिंतन होगा। आज से शुरू हो रहे सेशन में उसका आभास देशवासियों को जरूर होगा। सरकार की कमियां उजागर होनी चाहिए।''
16 मार्च तक चलेगा पहला फेज
- सेशन दो फेज में होगा। पहला -23 फरवरी से 16 मार्च और दूसरा- 25 अप्रैल से 13 मई तक।
- 25 फरवरी को रेल बजट, 26 फरवरी को इकोनॉमिक सर्वे और 29 फरवरी को आम बजट पेश किया जाएगा।
संसद में फंसे हैं ये अहम बिल
- बजट सेशन में 32 बिल लाए जाने हैं।
- जीएसटी बिल, व्हिसल ब्लोअर्स प्रोटेक्शन बिल (संशोधित) और इंडस्ट्रीज (डेवलपमेंट एंड रेग्युलेशन) संशोधन बिल मुख्य हैं।
- इसके अलावा कंज्यूमर प्रोटेक्शन बिल, इनसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड, बेनामी ट्रांजैक्शन्स (संशोधित) बिल, लैंड एक्विजिशन बिल और प्रिवेंशन ऑफ करप्शन (संशोधित) बिल जैसे अहम बिल संसद में अटके हुए हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें