पोस्ट

जुलाई 23, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गुरु पूर्णिमा

इमेज
गुरु पूर्णिमा के पवन पर्व पर हार्दिक बधाई एवं शुभ कामनाएं  ! -अरविन्द सीसोदिया हरिहर आदिक जगत में पूज्य देव जो कोय । सदगुरु की पूजा किये सबकी पूजा होय ॥ सच्चे सदगुरु शिष्य की सुषुप्त शक्तियों को जाग्रत करते हैं, योग की शिक्षा देते हैं, ज्ञान की मस्ती देते हैं, भक्ति की सरिता में अवगाहन कराते हैं और कर्म में निष्कामता सिखाते हैं। इस नश्वर शरीर में अशरीरी आत्मा का ज्ञान कराकर जीते-जी मुक्ति दिलाते हैं। हमारे श्रध्ये श्री श्री १००८ पूज्य श्री गोमतीदास जी महाराज के चरणों में श्रद्धा वंदन !! गुरुपूनम जैसे पर्व हमें सूचित करते हैं कि हमारी बुद्धि और तर्क जहाँ तक जाते हैं उन्हें जाने दो। यदि तर्क और बुद्धि के द्वारा तुम्हें भीतर का रस महसूस न हो तो प्रेम के पुष्प के द्वारा किसी ऐसे अलख के औलिया से पास पहुँच जाओ जो तुम्हारे हृदय में छिपे हुए प्रभुरस के द्वार को पलभर में खोल दें। मैं कई बार कहता हुँ कि पैसा कमाने के लिए पैसा चाहिए, शांति चाहिए, प्रेम पाने के लिए प्रेम चाहिए। जब ऐसे महापुरुषों के पास हम निःस्वार्थ, निःसंदेह, तर्करहित होकर केवल प्रेम के पुष्प लेकर पहुँचते हैं, श्