पोस्ट

मार्च 30, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

जनरल वी के सिंह को घूस का ऑफर प्रकरण , ४० लाख का टाट्रा ट्रक, १ करोड़ से भी अधिक में सेना की सप्लाई में

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया , आज का दिन जनरल के पक्ष का रहा , रक्षा मंत्री  का  यह दावा ख़त्म हो गया की लिखित शिकायत नहीं थी । वैसे तो मंत्री स्तर के व्यक्ती से सेना का मुख्य जनरल कोई बात कह रहा हो तब , यह बात हल्की ही थी की कोई लिखित शिकायत नहीं... मगर लिखित शिकायत तो कई वर्ष पहले से थी...... यह बात सामने आनें के बाद अब रक्षा मंत्री के पास बचाव का कोई साधन नहीं बचा .....इसी कारण अब मंत्री से इस्तीफा  मांगा जा रहा हे....यूँ भी अब इतनी  किरकिरी होने के बाद उन्हें  पद पर बने रहने का हक़ नहीं बचाता ... ------   40 लाख में मिल जाते हैं  सेना को एक करोड़ में बेचे गए ट्रक! आईबीएन-7 Mar 30, २०१२ http://khabar.ibnlive.in.com  नई दिल्ली। सेना में अब तक 7000 टाट्रा ट्रक खरीदे गए हैं। दशकों से ये खरीद चल रही है लेकिन सेनाध्यक्ष वीके सिंह ने एक झटके में इस सारी खरीद पर सवाल उठा दिए। उन्हें घूस का ऑफर करने वाले दलाल ने ये कहकर सारी खरीद को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया कि आपसे पहले भी लोग पैसे लेते थे और आपके बाद भी लोग पैसे लेंगे। जाहिर है ये बयान जनरल वी के सिंह को मनाने की कोशिश में द

सेना प्रमुख सिंह के बयान : जांच न्यायिक हो या जे पी सी करे

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया टाट्रा ट्रकों की खरीद का निर्णय प्रधान मंत्री राजीव गांधी के कार्यकाल से जुड़ा हे ....सब जानते हें की यह सप्लाई उनके मित्र रवि श्रिशी से १९८६ में हुआ था .., तब ही जब बोफोर्स का हुआ था .., राजस्थान, कोटा  से प्रकाशित राष्ट्रदूत  के अंक दिनांक २९ व ३० मार्च के अंकों में बड़ी रिपोर्ट हे ... अतः इस पूरे मामले की जांच न्यायिक हो या जे पी सी करे ...सी बी आई की जाँच सिर्फ और सिर्फ लीपापोती करेगी ........ ------------------- सेना प्रमुख सिंह के बयान पर विवाद रक्षा मंत्री ने की सीबीआई जांच की सिफारिश नई दिल्ली, मंगलवार, 27 मार्च २०१२ थल सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह के इन आरोपों के बाद सरकार नए विवाद से घिर गई कि उन्हें एक सौदे को मंजूरी देने के लिए 14 करोड़ रुपए की रिश्वत की पेशकश की गई थी। मामले से सकते में आए रक्षा मंत्रालय ने सीबीआई जांच का आदेश दिया है। थलसेना प्रमुख के आरोपों पर सोमवार को संसद के दोनों सदनों में हंगामा हुआ और विपक्ष ने इन्हें गंभीर करार देते हुए सरकार पर कोई कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया। जनरल सिंह ने एक इंटरव्यू में दावा किया था कि एक

जनरल सिंह ने देश पर उपकार किया है

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया ***** कोटि - कोटि प्रमाण ***** जनरल सिंह ने सेना के सच के लिये, कोयला और 2जी स्पेक्ट्रम घोटालों में व्यस्त कांग्रेस सरकार को चेता कर देशहित का बडा काम किया है। उन्हे मां भारती की ओर से कोटि - कोटि प्रमाण.......... जनरल सिंह सही हैं और कांग्रेस सरकार गलत है........ आखिर कब होगा सेना का आधुनिकी करण.....? सेना की गुप्त रिपोटों को तो छोडिये.....रक्षा विभाग से सम्बंधित संसदीय समिति की बैठकों की अनेकानेक रिर्पोटों, कैग की चेतावनीयां और सामरिक उत्पादनों की आत्म निर्भरता के विश्लेषण गवाही देते है। कि भारत सरकार ने सेना की आधुनिकता के साथ गंभीरतम लापरवाहियां की हैं और उसे आज भी विदेशी रक्षा उत्पादकों का मौहताज बना रखा है। सिंह तुम संघर्ष करो देश तुम्हारे साथ है। जनरल की बात गौर से सुनो ओर सेना को तुरंत उन्नत करो....! समय रहते सेना का सच उजागर कर,जनरल सिंह ने देश पर उपकार किया है। ‘हजार फीसदी सच हैं जनरल के दावे’ dainikbhaskar.com (28/03/12)        http://www.bhaskar.com नई दिल्‍ली. सेना की बदहाली के बारे में आर्मी चीफ जनरल वीके सिंह की ओर से पीएम को लिखी