पोस्ट

मई 3, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

‘प्‍याज’ रुलाएंगा,‘चीनी’ होगी कड़वी

इमेज
‘चीनी’ होगी कड़वी तो ‘प्‍याज’ रुलाएंगा! प्रकाशित Thu, मई 03, 2012 03 मई 2012 आईबीएन-7 http://hindi.moneycontrol.com नई दिल्ली। यदि आप मंहगाई से निजात पाने की सोच रहे हैं तो भूल जाइए। खाने की तमाम चीजों की बढ़ी कीमतों के बीच अब चीनी की कीमत भी आसमान छू सकती है। दरअसल, सरकार ने चीनी निर्यात पर लगी पाबंदी हटा ली है। शरद पवार लगातार सरकार पर इस बात का दबाव बना रहे थे और आखिरकार बुधवार को हुई बैठक में सरकार ने पवार के आगे घुटने टेक दिए। अब निर्यात पर लगी पाबंदी हटने से चीनी महंगी हो सकती है। वहीं सरकार ने प्याज पर से न्यूनतम निर्यात मूल्य को भी खत्म कर दिया है। बता दें कि कृषि मंत्री शरद पवार लंबे समय से चीनी के निर्यात पर प्रतिबंध हटाने की मांग कर रहे थे। उन्होंने प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखकर सरकार की किसान विरोधी नीति की शिकायत भी की थी। जिसके बाद सरकार ने कृषि मंत्री की मांग को मानते हुए चीनी निर्यात पर लगी बंदिश हटा ली है। अभी तक चीनी के निर्यात पर पर अधिकतम दस लाख टन की सीमा तय थी। चीनी मिलों का निर्यात कोटा उनके तीन साल के उत्पादन के आधार पर तय होता था लेकिन रोक हटने के

इस्लामिक बैंकिंग की योजना पर हाईकोर्ट की रोक :- डॉ स्वामी जीते

इमेज
- में इसमें कई शब्दों से सहमत नहीं हूँ फिर भी इस लेख को पड़ना चाहिए ..तथ्यात्मक बैटन को समझाना चाहिए ......... इस्लामिक बैंकिंग की योजना पर हाईकोर्ट की रोक :- डॉ स्वामी जीते Islamic Banking, Kerala, NBFC, http://jayhind.co.in/islamic-banking-and-india/ (अभिषेक अन्ना सारस्वत) जैसा कि अब धीरे-धीरे सभी जान रहे हैं कि केरल में इस्लामीकरण और एवेंजेलिज़्म की आँच तेज होती जा रही …है। दोगले वामपंथी और बीमार धर्मनिरपेक्षतावादी कांग्रेस मुसलमानों के वोट लेने के लिये कुछ भी करने को तैयार हैं, इसी कड़ी में केरल के राज्य उद्योग निगम (KSIDC) ने केरल में “इस्लामिक बैंक” खोलने की योजना बनाई थी। जिन्हें पता नहीं है, उन्हें बता दूं कि “इस्लामिक बैंकिंग” शरीयत के कानूनों के अनुसार गठित किया गया एक बैंक होता है, जिसके नियमों के अनुसार यह बगैर ब्याज पर काम करने वाली वित्त संस्था होती है, यानी इनके अनुसार इस्लामिक बैंक शून्य ब्याज दर पर लोन देता है और बचत राशि पर भी कोई ब्याज नहीं देता। islamic banking in india आगे हम देखेंगे कि क्यों यह आईडिया पूर्णतः अव्यावहारिक है, लेकिन संक्षेप में कहा जाये

झूठ... झूठ.....कांग्रेस सांसद प्रभा ..झूठ... झूठ.....

इमेज
झूठ... झूठ..... मीडिया में झूठ को न्यूज और न्यूज को झूठ बनाने का धंधा किस कदर हावी है...इसका प्रमाण गुजरात की कांग्रेस सांसद प्रभा है जिसने महिला कांस्टेबिल के बालों को किस बेदर्दी से पकडे हुये है और संसद में गलत बयानी कर उल्टा चोर कोतबाल को डांटे की स्थिती लादी....गुजरात में विधानसभा चुनाव आ रहे हैं, कांग्रेस फिर से हारेगी....इसी कारण वह रोज व रोज कोई ड्रामा करती रहती है............. ------------- फेसबुक  पर..... जितेन्द्र प्रताप सिंह  आज किसी भी भांड और नीच चैनल ने दाहोद की बदतमीज सांसद की असलियत नही दिखाई . मित्रों ये चित्र देखिये ये बदतमीज सांसद कैसे एक महिला पुलिस सब इंस्पेक्टर की चोटी कसकर खीच रही है और वो बेचारी इन्सपेक्टर दर्द से कराह रही है |फिर ये बदतमीज सांसद संसद मे जाकर घडियाली आँसू बहती है और पूरा संसद इस चालबाज और नौटंकीबाज की बातों मे कैसे आ जाता है ?  ----------- कांग्रेस महिला सांसद से गुजरात पुलिस ने की बदसलूकी भाषा | अहमदाबाद, 2 मई 2012 | http://aajtak.intoday.in सदीय क्षेत्र में मंगलवार को पुलिस पर र्दुव्‍यवहार करने का आरोप लगाया.दा