पोस्ट

अक्तूबर 12, 2012 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बलात्कार की घटनाओं से सुप्रीम कोर्ट चिंतित : अभियुक्त को कमजोर आधार पर नहीं छोड़ना चाहिए

चित्र
सर्वोच्च न्यायलय का स्पस्ट मतलब हे की जहाँ तक अपराधी के ओरधि होने की संभावना हे ..वहां तक उसे बरी नहीं किया जाना चाहिए।।। इसीलिए उसने हाई कोर्ट द्वारा वारी मुलजिम को सजा योग्य माना ..... साक्ष्यों की विवेचना करते समय अदालतों को अधिक सावधानी बरतनी चाहिए और  अभियुक्त को कमजोर आधार पर नहीं छोड़ना चाहिए   समाचार का लिंक ---- http://zeenews.india.com/hindi बलात्कार की बढ़ती घटनाओं से सुप्रीम कोर्ट चिंतित Friday, October 12, 2012, नई दिल्ली : हरियाणा सहित देश के विभिन्न स्थानों पर बलात्कार की बढ़ती घटनाओं से चिंतित सुप्रीम कोर्ट ने आज कहा कि इस तरह के घृणित अपराधों में लिप्त अभियुक्तों को बेतुके आधार पर छोड़ा नहीं जाना चाहिए। कोर्ट ने इसके साथ ही उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर जिले में 11 वर्षीय बच्ची से बलात्कार के बाद उसकी हत्या करने वाले युवक को बरी करने का इलाहाबाद हाईकोर्ट का निर्णय भी रद्द कर दिया। कोर्ट ने कहा कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्राथमिक चिंता बलात्कार के मामलों में वृद्धि और दुनिया में महिलाओं के प्रति बढ़ रहे अपराध को लेकर है। भारत भी इसका अपवाद नहीं है। कोर्ट न

Lepakshi Shiv Temple

चित्र
Lepakshi Temple सत्य, सनातन, सुन्दर, शिव! सबके स्वामी। अविकारी, अविनाशी, अज, अन्तर्यामी ॥1॥ हर हर.॥ आदि, अनन्त, अनामय, अकल, कलाधारी। अमल, अरूप, अगोचर, अविचल, अघहारी ॥2॥ हर हर.॥ ब्रह्मा, विष्णु महेश्वर, तुम त्रिमूर्तिधारी। कर्ता, भर्ता, धर्ता तुम ही संहारी ॥3॥ हर हर.॥ रक्षक, भक्षक, प्रेरक, प्रिय, औढरदानी। साक्षी, परम अकर्ता, कर्ता, अभिमानी ॥4॥ हर हर.॥ मणिमय-भवन निवासी, अति भोगी, रागी. सदा श्मशान विहारी, योगी वैरागी ॥5॥ हर हर.॥ छाल-कपाल,गरल-गल, मुण्डमाल,व्याली। चिताभस्मतन, त्रिनयन, अयनमहाकाली ॥6॥ हर हर.॥ प्रेत-पिशाच-सुसेवित, पीतजटाधारी। विवसन विकट रूपधर रुद्र प्रलयकारी ॥7॥ हर हर.॥ शुभ्र-सौम्य, सुरसरिधर, शशिधर, सुखकारी। अतिकमनीय, शांतिकर, शिवमुनि-मन-हारी ॥8॥ हर हर.॥ निर्गुण, सगुण, निरंजन, जगमय, नित्य-प्रभो। कालरूप केवल हर! कालातीत विभो ॥9॥ हर हर.॥ सत्, चित्, आनंद, रसमय, करुणामय धाता। प्रेम-सुधा-निधि, प्रियतम, अखिल विश्वत्राता ॥10॥ हर हर.॥ हम अतिदीन, दयामय! चरण-शरण दीजै। सब बिधि निर्मल मति कर अपना कर लीजै ॥11॥ हर हर.॥ PHoto Lapakashi Temple, Andhra Pradesh ,,, ----------- ------