पोस्ट

जनवरी 25, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

नेहरूजी ने गणतंत्र दिवस परेड में संघ के स्वयंसेवकों को आमंत्रित किया था

चित्र
गणतंत्र दिवस परेड में स्वंय सेवक इतिहास के झरोखे से - राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की राष्ट्र हितैषी भूमिका    http://www.krantidoot.in/2014/11/blog-post_30.html   नेहरू जी के विशेष आग्रह पर 1963 में गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेते संघ स्वयंसेवक सामान्यतः आज की पीढ़ी के अधिकाँश लोगों को ज्ञात नही है कि 1962 में भारत चीन युद्ध के समय आरएसएस स्वयंसेवकों द्वारा भारतीय सशस्त्र सेनाओं की जो सहायता की गई उसके आभार स्वरुप 1963 में तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व. जवाहर लाल नेहरू ने गणतंत्र दिवस की परेड में आर एस एस को आमंत्रित किया था | 1962 में चीन युद्ध के दौरान आरएसएस के स्वयंसेवक व्यापक तौर पर सरकारी कार्यों में सहयोग और विशेष रूप से जवानों के लिए समर्थन जुटाने में जुट गए थे | पंडित नेहरू ने 26 जनवरी 1963 के गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेने के लिए संघ को आकस्मिक रूप से आमंत्रित किया किन्तु एक मात्र दो दिन की सूचना पर 3500 से अधिक स्वयंसेवकों ने पूर्ण संघ गणवेश में परेड में भाग लिया जोकि मार्च कार्यक्रम का प्रमुख आकर्षण बन गया | बाद में कुछ कांग्रेसी नेताओं ने संघ को निमंत्रित किये जाने के पंडित ने

एटमी डील को लेकर मतभेद दूर : मोदी-ओबामा ने लिखा नया अध्याय

चित्र
पीएम नरेंद्र मोदी से हाथ मिलाते अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा मोदी-ओबामा ने लिखा रिश्ते का नया अध्याय, एटमी डील को लेकर सारे मतभेद दूर aajtak.in [Edited By: अमरेश सौरभ] | नई दिल्ली, 25 जनवरी 2015 http://aajtak.intoday.in/story/narendra-modi-and-barack-obama-joint-statement-after-bilateral-talks-1-796772.html प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ मिलकर दोनों देशों के बीच रिश्ते को नई बुलंदी तक पहुंचा दिया है. भारत और अमेरिका के बीच न्यूक्लियर डील पर फंसा पेच अब खत्म हो गया है. इसके साथ ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भारत की दावेदारी को अमेरिका का समर्थन मिल गया है. अमेरिका रक्षा क्षेत्र में भी भारत की मदद करने को तैयार है. एटमी डील पर आगे बढ़ेंगे भारत और अमेरिका अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हाल के दिनों में भारत और अमेरिका के बीच रिश्ते में नया उत्साह और भरोसा पैदा हुआ है. उन्होंने कहा कि इस रिश्ते की सफलता से हमारी तरक्की होगी और दुनिया में भी स्थ‍िरता और संपन्नता बढ़ेगी. अमेरि

ओबामा ने कहा, मोदी मुझसे कम सोते हैं

चित्र
साझा बयान जारी करते राष्ट्रपति ओबामा ओर प्रधानमंत्री मोदी                                  aajtak.in [Edited By: स्वपनल सोनल] | नई दिल्ली, 25 जनवरी 2015 http://aajtak.intoday.in रविवार सुबह पालम एयरपोर्ट पर अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गले लगाया. हैदराबाद हाउस में चाय की केतली की गर्माहट दोनों के रिश्तों में घुलती दिखी, तो साझा बयान के दौरान प्रधानमंत्री ने ओबामा के साथ दोस्ती की नई केमिस्ट्री पर खुशी जताई. दोनों नेताओं के बीच रिश्तों की यह इबारत और भी पक्की तब हुई, जब ओबामा ने हंसी-ठिठोली में सही, यह जता दिया कि दोनों आपस में राजनीति से इतर आपसी मुद्दों पर, यहां तक कि सोने की आदतों पर भी चर्चा करते हैं. हैदराबाद हाउस में साझा बयान के दौरान एक सवाल का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि उनमें और बराक ओबामा में अच्छी दोस्ती हो गई है और दोनों के बीच जो बातचीत हुई है, उसे पर्दे में ही रहने देना बेहतर है. मोदी ने कहा, 'मैं और बराक अब अच्छे दोस्त हो गए हैं. हमने कई मुद्दों पर बातचीत की, जिन्हें पर्दे में रहने दिया जाए, तो अच्छा है.

राष्ट्रध्वज केसरिया से तिरंगा तक की गाथा

चित्र
                                                           हिंदू भगवा ध्वज http://www.ugtabharat.com   विजय कुमार सिंघल भगवा ध्वज हिन्दू संस्कृति और धर्म का शाश्वत प्रतीक है। यह हिन्दू धर्म के प्रत्येक आश्रम, मन्दिर पर फहराया जाता है। यही श्रीराम, श्रीकृष्ण और अर्जुन के रथों पर फहराया जाता था और छत्रपति शिवाजी सहित सभी मराठों की सेनाओं का भी यही ध्वज था। यह धर्म, समृद्धि, विकास, अस्मिता, ज्ञान और विशिष्टता का प्रतीक है। इन अनेक गुणों या वस्तुओं का सम्मिलित द्योतक है अपना यह भगवा ध्वज। भगवा ध्वज का रंग केसरिया है। यह उगते हुए सूर्य का रंग है। इसका रंग अधर्म के अंधकार को दूर करके धर्म का प्रकाश फैलाने का संदेश देता है। यह हमें आलस्य और निद्रा को त्यागकर उठ खड़े होने और अपने कर्तव्य में लग जाने की भी प्रेरणा देता है। यह हमें यह भी सिखाता है कि जिस प्रकार सूर्य स्वयं दिनभर जलकर सबको प्रकाश देता है, इसी प्रकार हम भी निस्वार्थ भाव से सभी प्राणियों की नित्य और अखंड सेवा करें। यह यज्ञ की ज्वाला का भी रंग है। यज्ञ सभी कर्मों में श्रेष्ठतम कर्म बताया गया है। यह आन्तरिक और बाह्य पव

भारत का गणतंत्र दिवस समारोह

चित्र
                                                              भारत का गणतंत्र दिवस भारत में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस मनाया जाता है। यह दिन देश की संप्रभुता का प्रतीक है क्योंकि इस दिन सन् 1950 में भारत के संविधान को अपनाया गया था। इस दिन को मनाने का सबसे खास और जाना पहचाना तरीका गणतंत्र दिवस की परेड है जो देश की राजधानी नई दिल्ली में होती है। 2015 की मुख्य बातें इस साल अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि होंगे। गणतंत्र दिवस का महत्व गणतंत्र दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इस दिन भारत एक लोकतांत्रिक गणराज्य बना था। 26 जनवरी 1950 को भारत के संविधान को लागू किया गया था जब भारत के शासी दस्तावेज को भारत के अधिनियम 1935 से बदला गया था। इस दिन का महत्व इसलिए भी है क्योंकि इस दिन भारत की स्वतंत्रता यानि पूर्ण स्वराज की घोषणा भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 26 जनवरी 1930 को की थी। गणतंत्र दिवस की तारीख और समय गणतंत्र दिवस 2015, 26 जनवरी को मनाया जाएगा। इस दिन राष्ट्रीय अवकाश होता है। देशभक्ति की भावना को मनाने के लिए इस दिन सभी सरकारी कार्यालय और स्क