पोस्ट

मार्च 8, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विक्रम संवत् 2072 होगा 13 माह का : राजा होगा शनि

चित्र
जानिए विक्रम संवत् 2072 केसा रहेगा और क्या हैं विक्रम संवत् ..??? Posted on जनवरी 13, 2015 by vastushastri08    लिंक   https://vinayakvaastutimes.wordpress.com/2015 जानिए विक्रम संवत् 2072 केसा रहेगा और क्या हैं विक्रम संवत् ..??? हिन्दू नव वर्ष 2072 का प्रारम्भ शनिवार को होने से वर्ष का राजा शनि होगा जो की देश दुनिया में न्याय दिलाएंगे व कानून का पालन सख्ती से होगा नया साल 2015 जैसी करनी वैसी भरनी वाला होगा। इस वर्ष का राजा न्याय प्रिय ग्रह शनि है।यह सबको समान दृष्टि से देखता है। वर्ष वैसे तो व्यापारियों के लिए अच्छा होगा। पूरे संवत्सर के राजा शनिदेव ही होंगे। 15 अगस्त को मनाने वाला राष्ट्रीय पर्व स्वतंत्रता दिवस भी इस वर्ष शनिवार के दिन ही है। इस पूरे वर्ष में माह मई, अगस्त और अक्टूबर ऐसे होंगे, जिनमें पांच शनिवार होंगे। नए साल में प्रशासनिक क्षेत्रों में राजा शनि कार्यों में स्थायित्व प्रदान करेंगे, जबकि मंत्री मंगल अनुशासन को बढ़ावा देंगे। जिन लोगों पर शनि की साढ़े साती ढैया चल रही है, उन्हें हनुमान जी की पूजा करने से लाभ होगा। ज्योतिषियों की मानें तो नए वर्ष मे

महिला सशक्तिकरण अथवा बेटी बचाओ अभियान हेतु सुझाव

चित्र
                               महिला सशक्तिकरण अथवा बेटी बचाओ अभियान हेतु सुझाव                                                   मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान     जनसंख्या के आंकडे बडे ही डरावनें हैं। प्रति हजार पुरूषों पर महिलाओं की संख्या तेजी से कम हो रही हे। कहीं 1000 पर 900 तो कहीं 800 की स्थिती की तरफ हम बड़ रहे हें। अर्थात हर 1000 पर 100 / 200 लोग आजीवन कुआरें रहेंगें ? अर्थात यह असंतुलन समाज में किस कदर आराजकता, अपराध और अद्योपतन की स्थिती उत्पन्न कर देगा, यह सोच कर ही रूह कांप जाती है। फिर भी अभी तक इस असंतुलन को रोकने के लिये ठोस कुछ नहीं हो पाना हमारी व्यवस्था पर भी और क्षमता पर भी सवाल खडे करता है।     विज्ञान निश्चित रूप से प्रगतिशीलता का द्याोतक है मगर इसमें लाभ के साथ साथ हॉनी भी तय है। आज गर्भ में बेटी है यह विज्ञान के द्वारा दी गई हॉनी ही है, जिसका लोभ में फंसे चिकित्सक वर्ग दुरउपयोग कर रहे हैं। दुर्भाग्य देखिये की बेटी की हत्या में वे लोग लगे हें जो सबसे अधिक शिक्षित और सम्पन्न हैं। समाज में बेटी के साथ जुडी व्यवस्थाओं के कारण यह समस्या है। मगर इस