पोस्ट

मार्च 10, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

हिन्दुओं की वैदिक काल गणना

इमेज
हिन्दुओं की वैदिक काल गणना वैदिक समय मापन, (काल व्यवहार) का सार निम्न लिखित है :- लघुगणकीय पैमाने पर, वैदिक समय इकाइयाँ नाक्षत्रीय मापन :- एक परमाणु मानवीय चक्षु के पलक झपकने का समय = लगभग 4 सैकिण्ड एक विघटि = ६ परमाणु = (विघटि) २४ सैकिण्ड एक घटि या घड़ी = 60 विघटि = २४ मिनट एक मुहूर्त = 2 घड़ियां = 48 मिनट एक नक्षत्र अहोरात्रम या नाक्षत्रीय दिवस = 30 मुहूर्त (दिवस का आरम्भ सूर्योदय से अगले सूर्योदय तक, ना कि अर्धरात्रि से) 10 पलक झपकने का समय = 1 काष्ठा 35 काष्ठा= 1 कला 20 कला= 1 मुहूर्त 10 मुहूर्त= 1 दिवस (24 घंटे) ३0 दिवस= 1 मास 6 मास= 1 अयन 2 अयन= 1 वर्ष, = १ दिव्य दिवस छोटी वैदिक समय इकाइयाँ :- एक तॄसरेणु = 6 ब्रह्माण्डीय ‘. एक त्रुटि = 3 तॄसरेणु, या सैकिण्ड का 1/1687.5 भाग एक वेध =100 त्रुटि. एक लावा = 3 वेध एक निमेष = 3 लावा, या पलक झपकना एक क्षण = 3 निमेष. एक काष्ठा = 5 क्षण, = 8 सैकिण्ड एक लघु =15 काष्ठा, = 2 मिनट 15 लघु = एक नाड़ी, जिसे दण्ड भी कहते हैं. इसका मान उस समय के बराबर होता है, जिसमें कि छः पल भार के (चौदह आउन्स) के ताम्र पात्र से जल पूर्ण रूप से निकल जाये, जबकि

क्या उमर अब्दुल्ला सरकार की वजह से हुई मसरत की रिहाई ?

इमेज
By  एबीपी न्यूज़ Tuesday, 10 March 2015 नई दिल्ली: मसरत आलम की रिहाई पर संसद में आज दूसरे दिन भी हंगामा मचा है. मसरत को लेकर ABP न्यूज की पड़ताल में पता चला है कि रिहाई के लिए उमर अब्दुल्ला सरकार की लेटलतीफी जिम्मेदार है. मसरत की रिहाई के लिए अभी तक मुफ्ती सरकार को जिम्मेदार ठहराया जा रहा था लेकिन एबीपी न्यूज़ की पड़ताल में पता चला है कि मसरत की रिहाई के लिए उमर लसरकार की लेटलतीफी जिम्मेदार है. मसरत आलम को 7 मार्च को रिहा किया गया था. ABP न्यूज की पड़ताल के मुताबिक मसरत आलम  की PSA में यानी पब्लिक सेफ्टी एक्ट में हिरासत सितंबर में खत्म हो गई थी लेकिन उसे दोबारा हिरासत में लेने के लिए नियमों के मुताबिक कदम नहीं उठाए गए. इस वजह से सवाल उठ रहा है कि क्या उमर सरकार की ओर से हिरासत को बढ़ाने के लिए क्या माकूल कदम नहीं उठाए गए. एबीपी न्यूज़ की पड़ताल दरअसल 30 सितंबर 2014 मसरत की हिरासत की अवधि समाप्त हो रही थी. लेकिन उससे पहले जम्मू के गृह सचिव ने एतिहातन जम्मू के डीएम को चिठ्ठी लिखी जिसमें कहा गया कि मसरत पर पीएसए खत्म हो रहा है. इसके बाद 26 अक्टूबर को को जम्मू कस्मीर में चु