पोस्ट

अप्रैल 21, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भारतीय नववर्ष अभिनंदन उत्सव

चित्र
भारतीय नववर्ष अभिनंदन उत्सव तारीख: 18 Apr 2016 नई दिल्ली प्रतिवर्ष की तरह नववर्ष के स्वागतार्थ यमुना के सूरघाट पर जैसे ही सूर्य देव ने अपनी लालिमा आसमान में बिखेरी, तभी ढोल नगाड़ों की गूंज, जयकारों के उद्घोष मंत्रोचार के बीच उपस्थित जनसमूह ने हाथों में फूल और दीप प्रज्जवलित कर अभिनंदन करते हुए अर्ध्य दिया। संस्कार भारती दिल्ली प्रांत द्वारा 8 अप्रैल को विक्रमी संवत् 2073 के अभिनंदन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सहसरकार्यवाह डॉ. कृष्ण गोपाल, विशिष्ट अतिथि श्री विजय जिंदल व श्री एस के जिंदल।  डा. कृष्ण गोपाल ने भारतीय नववर्ष को अपनाने और युवा पीढ़ी को इसकी जानकारी देने के आग्रह पर जोर देते हुए कहा कि यह हमारी भारतीय परंपरा और संस्कृति का अटूट हिस्सा है, इस पर हमें गर्व करना चाहिए। श्री अवनीश त्यागी एवं उनकी टोली ने संस्कार भारती का ध्येय गीत प्रस्तुत किया। मंत्रोच्चारण, हनुमान संस्कृत विद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा योग एवं सूर्य नमस्कार किया गया। प्रख्यात गायिका डॉ. कुमुद दीवान ने लोकगीत और भजन गाकर लोगों को मंत्रमुग्ध किया। नृत्यांगना श्रीमती सीमा शर्

क्या ये अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है ? : संजय राउत

चित्र
अतिथि लेखक - क्या ये अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है? तारीख: 18 Apr 2016 12:43:21 एक वर्ग ऐसा है जिसने हमेशा देश विरोधी बातें की हैं और उसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का नाम दिया है, और भारत ऐसे लोगों को बर्दाश्त करता रहा है संजय राउत (लेखक राज्यसभा सांसद एवं प्रमुख मराठी समाचार पत्र 'सामना' के संपादक हैं) अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बारे में इन दिनों काफी कहा और लिखा जा रहा है। हमारे देश में इस शब्द 'स्वतंत्रता' का मतलब क्या है? हमने स्वतंत्रता की वास्तविक अवधारणा को कभी समझा ही नहीं।  इस कारण पीढियों में स्वतंत्रता क्या होनी चाहिए और क्या नहीं इसे लेकर एक अबूझ भ्रम की स्थिति बनी हुई है। हमारे देश में स्वतंत्रता से क्या अभिप्राय है इसे लेकर कौतुहल बना हुआ है। हम ऐसे लोग हैं जो भगवान जाने किससे स्वतंत्रता के लिए संघर्ष कर रहे हैं। हममें स्पष्ट समझ नहीं है, हममें जीवन की सही समझ ही नहीं है; और हम कुछ निश्चित विचारों और अवास्तविक विश्वासों से ही स्वतंत्र नहीं हुए हैं। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को लेकर वाल्टर ने कहा है, ''आप जो भी कहते हैं वह मुझे बिलकुल भी पस

कांग्रेस के पाप बनाम भगवा आतंक : हरि शंकर व्यास

चित्र
कांग्रेस के पाप व भगवा आतंक! भाग 1 : हरि शंकर व्यास (नया इंडिया में प्रकाशित) पता नहीं सोनिया गांधी और राहुल गांधी को शर्म आई या नहीं! पर डा. मनमोहन सिंह को आनी चाहिए। आखिर बतौर प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह के कलंक अभी भी खुल रहे हैं। उन्हें शर्म आनी चाहिए कि वे ऐसे प्रधानमंत्री हुए जिनकी छत्रछाया में चिदंबरम के नाम का एक ऐसा गृहमंत्री था जिसने अपने हाथों एक आरोपी आतंकी की हकीकत के हलफनामे को बदला। सोचें, भारत का गृहमंत्री ऐसा जिसने सरकार की ही एजेंसियों की रिपोर्ट, आकलन के विपरीत अपनी बात थोपी। किसलिए? ताकि नरेंद्र मोदी, अमित शाह, उनकी सरकार झूठे हत्यारा बनें। वे फर्जी मुठभेड़ के मामले में फंसें। देश, दुनिया, अदालत जाने कि हिंदू राष्ट्रवादी राजनीति करने वाले कैसे हत्यारे हैं! उन दिनों को याद करें तो कांग्रेस ने चौतरफा हिंदुओं को बदनाम करने की मुहिम चलाई थी। हिंदू की वैश्विक बदनामी का वह मिशन था जिसमें दिग्विजय सिंह से ले कर राहुल गांधी तक ने प्रचार किया था कि भारत में ‘भगवा आतंकवाद’ भी है। हां, याद है आपको साध्वी प्रज्ञा, स्वामी असीमानंद, कर्नल पुरोहित के नाम? याद है अभिनव भार