पोस्ट

जुलाई 2, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

चोगुनी महंगाई-गैर कांग्रेसी दलों को भगवान सदबुद्दी दे

इमेज
छूट भैय्या दल जनहित से  गद्दरी ना करें . - अरविन्द सिसोदिया भारतीय राजनीती में फूट का बड़ा बोलबाला रहा हे , आज से नही कई सदियों से यह चल रहा हे , इसी का खामियाजा जनता को उठाना पड़ता हे . पश्चिम सीमा से हमलावर  आये तब भी हम फूटग्रस्त  रहे , समुद्र के रास्ते अंग्रेज आये तब भी हम अलग अलग   रहे , आजादी के आन्दोलन में भी सत्याग्रही  और क्रन्तिकारी  अलग  अलग थे , मुस्लिम लीग ने देश का विभाजन  ही करा डाला  . कुल मिला कर फूट में लुट हुई . आजादी के बाद भी दलों का अलग अलग राग़ ही जन शोसक कांग्रेस को मनमानी से रोक नही पाया . अमरीकी हितों के लिए परमाणु बिल आया विपक्ष बंटा रहा , बिल पास हो गया . महंगाई के विरूद्ध कटोती   प्रस्ताव के कारण सरकार संकट में थी , जो दल बाहर बंद करवा  रहे थे वे ही अन्दर  सरकार को बचा रहे थे . सवाल फिर यही हे कि छूट भैय्या दलों का यह समूह तो आय से अधिक संपत्ति  बटोरने के कारण ही खुद फंसा हुआ हे . सरकार सी बी आई को ईशारा करेगी , ये फिर से सरकार के फायदे के लिए दुम हिलाने लगेंगे . कमुनिस्ट देश के लिए सबसे बड़ा खतरा हें , वे हुल्लड़ भा ज पा  ,  विरोध का मचाते हें और फायद