पोस्ट

जनवरी 22, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

काले धन का महा कुम्भ : भारत

इमेज
SWISS‑BANK‑BLACK‑MONEY.jpg 750 × 532 -  ...  जिनके नाम अकूत धन  स्विस बैंक के खाते  में   ... bhopalreporter.blogspot.com भास्कर डाट कॉम पर ,२१ जनवरी २०११ को एक समाचार है -  विदेशों में काली  कमाई जमा करने वालों की पहचान में जुटी सरकार    http://www.bhaskar.com/article/NAT-indian-govt-could-bring-black-money-back-1776996.html?HT3= कुछ अंश इस प्रकार से हैं ...... विदेशों में भारतीयों की खरबों रुपये की काली कमाई जमा है। विशेषज्ञ मानते हैं कि  भारत सरकार चाहे तो स्विस बैंक में खरबों रुपयों का काला धन जमा करने वाले भारतीयों के नाम का खुलासा हो सकता है। पर सरकार ने इस दिशा में कभी सक्रियता नहीं दिखाई। सरकार ने अब जो मदद मांगी है, उसका भी कोई नतीजा निकलने की उम्‍मीद नहीं है, क्‍योंकि दोनों सरकारों के बीच इस तरह की मदद करने संबंधी कोई समझौता नहीं है। टैक्स चोरी के मामलों पर निगाह रखने वाली संस्था टेक्स जस्टिस नेटवर्क के डायरेक्टर जॉन क्रिश्चियनसेन ने कहा है कि भारत का अरबों रुपया स्विस बैंक में जमा है और भारत यह रकम वापस ला सकता है। स्विटजरलैंड के वित्त विभाग ने भी भारत सरकार से कहा है कि

सुभाष जी का सच, सामने आना चाहिए ....!!

इमेज
 - अरविन्द सीसोदिया  जवाहरलाल  नेहरु  के  शव  के  पास  सुभाष जी का होना माना जाता है ...  http://uchcharandangal.uchcharan.com/2010/08/blog-post_18.html डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक द्वारा लिख गया लेख यथावत संलग्न है ... 1- ब्रिटिश पार्ल्यामेंट  में मि. एटिली (तत्कालीन प्रधानमंत्री) ने 18 अगस्त, 1945 में कहा था कि उनका भारतीय नेताओं से समझौता हो चुका है कि   नेता जी सुभाष चन्द्र बोस के पकड़े जाने पर उन्हें ब्रिटिश सरकार के हवाले कर दिया जायेगा! 2- 1948 में मास्को में दार्शनिक सम्मेलन में भाग लेने गये (पूर्व राष्ट्रपति) भारत के प्रख्यात दार्शनिक सर्वपल्ली राधाकृष्णन की मुलाकात  नेता जी सुभाष चन्द्र बोस  से हुई थी! 3-  नेता जी सुभाष चन्द्र बोस तिब्बत में एकनाथलाता के रूप में 1960 में रहे! 4- श्रीमती विजयलक्ष्मी पण्डित की मुलाकात 1948 में रूस में  नेता जी सुभाष चन्द्र बोस  से हुई थी! उस समय वे भारत की विदेश मंत्री थी! शांताक्रूज हवाई अड्डे पर उन्होंने यह घोषणा की थी कि वह भारतवासियों के लिए एक अच्छी खबर लाई हैं परन्तु नेहरू जी के दबाव में आकर उन्होंने जीवनभर अपनी जबान नहीं खोल