पोस्ट

मार्च 1, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सोनिया जी के मायके वाले : ईसाई - कांग्रेस गठजोड़ ....

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया     क्वात्रोच्ची से लेकर हाल ही में सोमशेखर आयोग की रिपोर्ट तक और उसके वाद  कन्नड़ के जाने-माने लेखक एम.चिदानंद मूर्ति को मानद डिग्री प्रदान करने के प्रस्ताव को रोकने तक की तमाम बातें साबित करती हैं , कांग्रेस इस हद तक बेशर्मी से इसाई मिसनारियों के गलत कामों को प्रोत्साहन दे रही है ..! संवैधानिक प्रतिष्ठा तक को ताक पर रख दिया गया है ..!      यदी इसाई मिसनरियाँ धर्मान्तरण  नहीं करवाती हैं तो धर्म परिवर्तन के खिलाफ बनने वाले कानून का समर्थन  कर उसे पारित करवाए..! मगर इसमें सबसे पहले अडंगे देने ही ईसाई मिसनरीयाँ आगे आती  हैं ..! क्योंकि उनके पोप की ही घोषणा है  कि  इस सहस्त्रावदी में एशिया महाद्वीप  को ईसाई बनायेंगे ..! धर्मांतरण  तो ईसाईयों का रिकार्ड  है ,शताव्दियों से नहीं सह्स्त्रव्दियों से ...!! पहली सहस्त्रावदी में यूरोप को ईसाई बनाया , दूसरी सह्त्राव्दी में अमेरिका , अफ्रीका , आस्ट्रेलिया को ईसाई बनाया और अब एशिया पर नजर है .. जिसकी खुल कर घोषणा की जाती है ..!    १ - ***- न्यायमूर्ति बीके सोमशेखर की अध्यक्षता वाले एक सदस्यीय न्यायिक आयोग ने अपनी रिपोर्ट 28 जन

अफजल गुरु : वोट बैंक बड़ा है कांग्रेस के लिए, देश की संसद की अपेक्षा ..!!

चित्र
- अरविन्द सिसोदिया   एक आदमी रात को एक गली के सामने ख़डा था। ""कौन हो ? "" वहां से गुजरते हुए चौकीदार ने क़डकककर पूछा। ""शेर सिंह।"" "" बाप का नाम ? "" "" शमशेर सिंह।"" "" कहां रहते हो ? "" ""शेरों वाली गली में।"" ""यहां क्यों ख़डे हो ? "" ""कैसे जाऊं कुत्ता भौंक रहा है।"" ---यह वाक्य फेसबुक पर किसी के हैं ... , मुझे लगा यह भारत सरकार है..शायद अफजल गुरु को सजा नहीं दे पानें के कारण एसा बोल रही है ...!!!!   महात्मा गांधी की हत्या ३० जनवरी १९४८ को हुई , उनके हत्या के दोषियों को १५ नवम्बर १९४९ को अम्बाला जेल में फांसी  दे दी गई..!! श्री माती इंदिरा गांधी की हत्या ३१ अक्टूबर १९८४ को हुई , उनकी हत्या के दोषियों ६ जनवरी १९८९ को फांसी  दे दी गई..!! राजीव गांधी की हत्या २१ मई १९९१ को हुई थी , मूल हत्यारा तो राजीव जी के साथ ही मर गया था ..! कुछ ने बाद में आत्म हत्या करली थी ..!! मगर देश की संसद पर हमला करने और देश प्रधानमंत्री सहित