पोस्ट

मार्च 16, 2011 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सीबीआई को दवाब में लेने का हित निहित है ..! क्या इन आत्महत्याओं के पीछे भी कुछ रहस्य है ...?

इमेज
- अरविन्द सिसोदिया         तमिलनाडु में महत्वपूर्ण जानकारी रखनें वाले की आत्महत्या और हत्या का पता नहीं चलता ..., बड़े राज वालों की हत्या बड़ी खूबसूरती से की जाती है ..! आप पंखे पर झूलो या झुलाये  जाओ क्या पता ...! सुसाइड नोट उसने लिखा  या लिखवाया पता नहीं ...! फिर सत्ता रूढ़ दल कोई सच्चाई बहार आने नहीं देगा ..! इसके पीछे यह तो स्पष्ट है की सीबीआई को दवाब में लेने का हित निहित है ..!        स्व. राजीव गांधी की हत्या से जुडी  मूल हत्यारी तनु  की मौत तो राजीवजी के साथ ही हो गई थी, मगर इस षड्यंत्र के कथित सरगना शिवरसन  ने शुभ्रा एवं अन्य पांच के साथ बेंगलोर में आत्महत्या की थी , उन्हें आत्म हत्या का पूरा समय दिया गया ...! अन्य आरोपी षणमुखम ने भी आत्म हत्या करली ...! एक  अन्य आरोपी मुत्तुराजा श्री लंका नौसेना से मुठभेड़ में मारा गया , डिक्सन , कान्तंन  , किशोर और गुणा ने पोटेशियम सायनाइड  के  केपसूल खा कर आत्महत्या करली ..!  क्या इन आत्महत्याओं के पीछे भी कुछ रहस्य है ...? ------- खबर एक  2जी मामले के आरोपी  पूर्व टेलीकॉम मंत्री ए राजा के सहयोगी सादिक बाचा ने की आत्महत्या  16 मार्च 2011 स