पोस्ट

मार्च 30, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

भाजपा : दुनिया की नंबर वन पार्टी राजनीति बनी

इमेज
राजनीति के मैदान में दुनिया की नंबर वन पार्टी बनी BJP Mar 30 2015 नई दिल्ली (एसएनएन): भारतीय जनता पार्टी यानी बीजेपी दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है. सदस्यों के मामले में बीजेपी ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी को पीछे छोड़ते हुए यह उपलब्धि हासिल की है. चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के जहां अब 8.4 करोड़ सदस्य हैं तो वहीं बीजेपी के सदस्यों की संख्या 8 करोड़ 79 लाख हो गई है. पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने के बाद अमित शाह ने सदस्यों की संख्या बढ़ाने के लिए अभियान चलाने का फैसला किया था. पीएम नरेंद्र मोदी ने एक नवंबर, 2014 को नई दिल्ली में सदस्यता अभियान का शुभारंभ किया. उसी वक्त शाह ने यह घोषणा की थी कि वे बीजेपी को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बनाना चाहते हैं. इसके लिए 10 करोड़ सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा गया था. इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए पार्टी का सदस्यता अभियान अभी भी जारी है. पार्टी सूत्रों के अनुसार, एक अप्रैल के बाद भी सदस्यता अभियान जारी रहेगा. इसके जरिये बीजेपी 10 करोड़ सदस्य बनाने का लक्ष्य हासिल करने का प्रयास करेगी. आपको बता दें कि इस समय चीन में भी कम्युनिस्ट पार्टी

आतंक के संदर्भ में श्रीराम की प्रासंगिकता - प्रमोद भार्गव

इमेज
आतंक के संदर्भ में श्रीराम की प्रासंगिकता - प्रमोद भार्गव (28 मार्च, श्रीरामनवमी पर प्रासंगिक लेख) दुनिया में बढ़ रहे आतंकवाद को लेकर अब जरूरी हो गया है कि इनके समूल विनाश के लिए भगवान श्री राम जैसी सांगठनिक शक्ति और दृढ़ता दिखाई जाए। आतंकवादियों की मंशा दहशत के जरिए दुनिया को इस्लाम धर्म के बहाने एक रूप में ढालने की है। जाहिर है, इससे निपटने के लिए दुनिया के आतंक से पीड़ित देशों में परस्पर समन्वय और आतंकवादियों से संघर्ष के लिए भगवान राम जैसी दृढ़ इच्छा शक्ति की जरुरत है। - प्रमोद भार्गव दुनिया के शासकों अथवा महानायकों में भगवान राम ही एक ऐसे अकेले योद्धा हैं, जिन्होंने आतंकवाद के समूल विनाश के लिए एक ओर जहां आतंक से पीड़ित मानवता को संगठित  किया, वहीं आतंकी स्त्री हो अथवा पुरुष किसी के भी प्रति उदारता नहीं बरती। अपनी इसी रणनीति और दृढ़ता के चलते ही राम त्रेतायुग में भारत को राक्षसी  या आतंकी शक्तियों से मुक्ति दिलाने में सफल हो पाए। उनकी आतंकवाद पर विजय ही इस बात की पर्याय रही कि सामूहिक जातीय चेतना से प्रगट राष्ट्रीय भावना ने इस महापुरुष का दैवीय मूल्यांकन किया और भगवान विष्णु के अव

संगठन के कार्यकर्ताओं को श्रीराम-चरित से सन्देश

इमेज
संगठन के कार्यकर्ताओं को श्रीराम-चरित से सन्देश'  - राघवलु, संयुक्त महामंत्री, विहिंप राम शब्द में तीन बीजाक्षर है- ‘र’कार, ‘अ’कार, और ‘म’कार| ‘र’ अग्नि बीज है, ‘अ’ आदित्य बीज है, ‘म’ चंद्र बीज है| सृष्टि में अग्नि, सूर्य और चंद्रमा यह तीन ही प्रकाश देनेवाले है| ये तीन एक राम शब्द में समाविष्ट है| यदि हम एक बार मनसे राम कहेंगे तो शरीर के अंदर प्रकाश उत्पन्न होता है| कोटी-कोटी बार राम जप करनेसे ही शबरी सशरीर स्वर्ग पहुँची, हनुमान देवता स्वरूप बने और वाल्मीकि ऋषी बनें| इतना सामर्थ्य है राम शब्द में| श्रीराम का आदर्श जीवन त्रेतायुग में बहुत आतंकवाद फैला था| उस समय ऋषि-मुनियों की हत्या करना, यज्ञ-याग आदि का विध्वंस करना, कन्या-अपहरण, अपनी राज्य सत्ता के लिए समाज में पूरा आतंक निर्माण करना, ऐसी उस समय की परिस्थिति रही| इस पृष्ठभूमि में श्रीराम एक आदर्श राजा एवं सामान्य मानव के रूप में कैसे जीवन चलाएँ, यह उनके जीवन से हमें सीखना हैं| स्थितप्रज्ञ राम श्रीराम को राज्याभिषेक की जानकारी मिली, उसके बाद दो घंटे के अंदर कोपगृह में बुलाकर १४ वर्ष जंगल जाने के लिए आज्ञा मिली| लेकिन दोनों