पोस्ट

दिसंबर 19, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

सचिन तेंदुलकर की ५०वीं सेंचुरी के महाशतक पर बधाई

इमेज
  - अरविन्द सीसोदिया  सचिन तेंदुलकर की ५०वीं सेंचुरी के महा शतक पर देश वासियों को बधाई एवं सचिन को कोटि कोटि धन्यवाद जिन्होंने देश को एक महान उपलब्धि देकर गर्व से सिर उंच करने का मौका दिया ! एक कठिन  परिस्थिति में देश कि टीम है और उसे सचिन की जरुरत थी ! सचिन ने  यूं तो पहली पारी में भी सबसे ज्यादा रन बनाये थे |  यहाँ मेरा एक आरोप; देश के क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड पर भी है जिसनें सचिन को एक दिवसीय क्रिकेट में ५० सेंचुरी के रिकार्ड बनाने से से रोक कर देश को एक एतिहासिक उपलब्धि से रोका ...! लगातार सचिन को  एक दिवसीय क्रिकेट बहार रखा गया , जबकी वे वहां ४६ सटक बना चुके हैं ! उन्हें मौका दिया जाना चाहिए था ! प्रयोग के लिए मुख्य टीम नहीं होती है ! हम यह मैच हार भी इस लिए रहे हैं की इसके ठीक पहले हम इन्ही खिलाडियों को टीम से बाहर किये हुए थे ! मेरी मान्यता है कि समय बार बार वापस नहीं आता है , सचिन को बिना हटाये कुछ आयाम देश के नाम बन जाने दो , उससे देश ही गोरवान्वित होता रहेगा !

सोनिया जी के पिता भूतपूर्व फासिस्ट सिपाही थे..!

- अरविन्द सीसोदिया कांग्रेस के महा अधिवेशन में संघ और भाजपा पर आक्रमण कि जिम्मेवारी परंपरागत तौर  पर महासचिव दिग्विजय सिंह पर थी और उन्होंने इस हमले को अतिशयोक्ती पूर्ण सीमा तक जा कर बोला भी ....और हिटलर और  नाजी सेना तक को ले आये, वे यह भूल गये कि इन फासिस्ट नामों (हिटलर और मुसोलीन ) का संम्बंध तो कांग्रेस पार्टी की अध्यक्षा सोनिया जी के पिता तक जा पहुचता है याद करें दूसरा विश्व युद्ध...... दिग्विजय सिंह :- कांग्रेस महासचिव व मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर जमकर हल्ला बोला। उन्होंने आरएसएस की तुलना जर्मन तानाशाह हिटलर की नाज़ी सेना तक से करने में कोई संकोच नहीं किया। कांग्रेस महाधिवेशन में राजनीतिक प्रस्ताव पर बहस की शुरुआत करते हुए दिग्विजय ने कहा, 'राष्ट्रवादी विचारधारा के नाम पर आरएसएस मुसलमानों को ठीक उसी तरह निशाना बना रही है जिस प्रकार हिटलर ने 1930 में यहूदियों को निशाना बनाने के लिए की गई कार्रवाई को राष्ट्रवाद का नाम दिया था।' उन्होंने कहा कि आरएसएस देश की नई पीढ़ी में मुसलमानों के प्रति घृणा के बी

हिंदुत्व पर आक्रमण,एक बड़ी साजिश और भयानक षडयंत्र

- अरविन्द सीसोदिया    इस समय भारत के हिन्दू समाज पर तीन प्रकार के आक्रमण इसे निंगल जानें कि द्रष्टि से चल रहे हें ,  * पहला इसाई भारत और विशेष कर हिन्दुओं को ईषा का अनुयायी बनाना चाहते हैं , यह कार्य तब से चल रहा है जब ईस्ट  इण्डिया कंम्पनी भारत में आई थी , हालांकी यह प्रयत्न इससे पूर्व से भी गोवा में चालू हो गया था , पीछे समय जब इसाई धर्म प्रमुख पॉप भारत आये थे तब वे खुल कर यह घोषणा कर गये कि इस सहस्त्रावदी में भारत सहित एसिया को इसाई बनाना है |  * दूसरा इस्लामिक क्षैत्र है जो भारत पर इश्लामिक प्रभुसत्ता स्थापित कर चुका था , उन्होंने अपने हिंषक  तौर तरीकों से न केवल भारत बल्की तमाम यूरोप को भी धर्म बदल कर इस्लाम कबूल ने के लिए मजबूर किया था , बाद में इसाई और इस्लाम में लगातार कई युद्ध हुए ....! यह भी विभाजन के द्वारा भारत के काफी हिस्सों को इस्लामी देश बना कर उसके  के तहत ला चुके हैं जैसे पाकिस्तान और बांगलादेश | इनका प्रयत्न हंस कर लिया है पाकिस्तान लड़ कर लेंगे हिन्दुस्तान का है | आतंकवाद सिर्फ जम्मू और कश्मीर इश्यू तक नहीं है वह भारत में लगातार हस्तक्षेप है जो इस देश को पूर्ण रू